आंटी को दी उसकी ज़िंदगी की चाहत

प्रेषक : रहीम …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रहीम है, में हैदराबाद का रहने वाला हूँ।  अब में आपको बोर ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। में एक मिड्ल क्लास का लड़का हूँ, मेरी हाईट 5 फुट 9 इंच है, में एक  इंशोरेंस कंपनी में काम किया करता था। तब मुझे ऑफिस की और से मोबाईल नंबर मिलता था, जिससे में कस्टमर को कॉल करके अपने इंशोरेंस कंपनी की जानकारी दिया करता था, में कॉल्स करते-करते बहुत थक जाता था। फिर एक दिन मुझे ऐसे ही एक नंबर पर एक लेडी को कॉल लगा, जिसे में अपने इंशोरेंस की जानकारी देने लगा। फिर तभी वो मुझे कहने लगी कि आपकी जानकारी मुझे मोबाईल पर कुछ समझ में नहीं आ रही है, क्या आप जानकारी मुझे घर आकर दोगे? तो मैंने बॉस से इजाजत माँगी और वो आंटी जिसका नाम पूजा था के घर मेरी बाइक पर चला गया।

फिर जैसे ही में उस एड्रस पर पहुँचा तो में पूजा को देखकर शॉक हो गया, क्योंकि वो पूजा आंटी नहीं लग रही थी, उसका बदन एकदम मीडियम एक कुंवारी लड़की की तरह था। फिर उसने मुझे अंदर बुलाकर सारी जानकारी ली। अब वो मुझे जानकारी लेते हुए घूर रही थी जैसे वो मुझे खा ज़ाएगी। फिर मैंने जानकारी देकर अपना मोबाईल नंबर भी छोड़ आया, अगर कही कोई डाउट हो तो पूछ लेना। फिर 2 दिन के बाद मुझे उसी पूज़ा का कॉल आया और कहा कि रहीम मुझे आपके प्रॉडक्ट में कुछ डाउट है।  तो मैंने उसके पूछे हुए डाउट क्लियर कर दिए। फिर उसने दूसरे दिन और एक डाउट के साथ मुझे कॉल किया, तो मैंने वो भी डाउट क्लियर कर दिया, लेकिन दूसरे दिन रात को मुझे एक और नंबर से कॉल आया, लेकिन में गहरी नींद में होने की कारण अगले दिन उस नंबर पर फिर से कॉल किया। तो उसी पूजा ने कॉल रिसीव किया और कहा कि यह नंबर भी मेरा अपना है, लेकिन स्पेशल कॉल्स के लिए। तो यह कहकर उसने मुझे सोच में डाल दिया।

फिर मैंने पूजा से पूछा कि आपने इस नंबर से मुझे ही कॉल क्यों किया? तो तभी पूज़ा कुछ नहीं बोली।  तो मैंने ही उससे पूछा कि क्या आप मुझसे दोस्ती करोगे? तो वो हंस पढ़ी और कहने लगी कि रहीम मैंने कॉल भी इसलिए किया था कि आपसे दोस्ती करूँ। अब कुछ दिनों तक पूजा मुझे कॉल करके यहाँ वहाँ की बातें किया करती थी, ना ही मेरे इंशोरेंस के बारे में। अब यह सब सोचकर मेरे मन में गलत ही गलत ख्याल आ रहे थे और वो पूजा थी भी ऐसी की कोई भी उसको एक बार देख ले तो मर जाए।  फिर कुछ समय बीतने के बाद मेरे मन में एक आइडिया आया कि क्यों ना इस पूजा को चैक किया जाए? अगर ठीक हुई तो ठीक वरना कोई बात नहीं है।

फिर मैंने ऐसे ही एक रात पूजा को कॉल पर पूछा कि आप रात को ही मुझे कॉल क्यों करती हो? क्या आपके पति को कोई प्रोब्लम नहीं होती? तो इससे पूजा रो पड़ी। तो में थोड़ा सा सहम गया कि कहीं मैंने कोई गलत तो नहीं पूछा। तो तभी पूजा ने कहा कि उसके पति करीब होते तो प्रोब्लम होती, लेकिन वो करीब नहीं उससे बहुत दूर है। अब यह सुनते ही मेरे मन में लड्डू फूट पड़े थे तो मैंने कहा कि इसमें रोने की क्या बात है? तो पूजा ने कहा कि वो गये तब से में यहाँ अपनी 1 बेटी, जो कि 2 साल की है उसके साथ कॉंप्लेक्स में अकेली हो गई हूँ। फिर मैंने कहा कि आप अकेली कहाँ है? में हूँ ना आपके साथ, अगर कोई प्रोब्लम हो तो तुरंत बिना संकोच के मुझसे कहना, ठीक है ना और यह कहकर उसे खामोश किया। फिर दूसरे दिन भी मुझे आंटी का कॉल आया, अब हम यहाँ वहाँ की बातें कर रहे थे।  में हमेशा पूजा को कहता था कि कोई न्यू टॉपिक कहो और में खुद यही सोचता था कि में अपने मन की चाहत जो उसके साथ सेक्स करने की थी यह उससे कैसे कहूँ? यही सोचने में ही था कि पूजा आंटी ने मुझे एक न्यू फिल्म के बारे में बताया और कहा कि रहीम क्या तुमने यह फिल्म देखी है? तो मैंने कहा कि हाँ देखी है। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर आंटी ने मुझसे पूछा कि रहीम तुमको उस फिल्म में सबसे ज़्यादा क्या अच्छा लगा? तो मैंने कहा कि उसमें जो छोटे-छोटे सीन जो अंजाम तक पहुँचे, वो अच्छे लगे। फिर पूजा ने पूछा कि अंजाम का मतलब। तो मैंने थोड़ा डरते-डरते कही वो नाराज़ ना हो ज़ाए इसलिए धीरे से कहा कि वो सेक्स वाला सीन अच्छा लगा। फिर यह सुनते ही पूजा थोड़ी खामोश हुई और कहा कि रहीम क्या तुमने कभी किसी के साथ सेक्स किया है? या फिर मूवी में ही देखा है। तो मैंने कहा कि नहीं किया, तो वो बोली कि सच, तो मैंने कहा कि हाँ अब तक नहीं किया। तो उसने कहा कि तो फिर कैसे अपने आपको संभाल रखा है? तो मैंने कहा कि पूजा जैसे तुम अपने पति के बगैर रह रही हो, में भी वैसे ही रहता हूँ। अब यह सुनते ही वो खामोश हो गई थी। फिर मैंने कहा कि पूजा तुम खामोश क्यों हो गई? क्या में तुम्हारे पति की जगह लेकर तुम्हारी मदद कर सकता हूँ। तो यह सुनते ही वो खामोश हो गई और कॉल कट कर दी।

फिर में खुद सोच में पड़ गया कि कहीं मैंने कुछ गलत तो नहीं कह दिया। फिर थोड़ी देर के बाद मुझे एक मैसेज मिला की (हाँ) का, तो फिर मैंने तुरंत कॉल करके पूजा को कहा कि पूजा तुम फ्री कब रहती हो? तो पूजा ने कहा कि टाईम सेट करके तुम्हें बताउंगी और फिर में पूजा के कॉल का इंतज़ार करने लगा। फिर  दूसरे दिन मॉर्निंग टाईम में मुझे पूजा का मैसेज आया कि आज 2 बजे आ जाना। फिर में ठीक टाईम पर पूजा के कॉंप्लेक्स पहुँचा और जैसे ही दरवाजा ओपन हुआ तो उसे देखकर दंग रह गया कि पूजा एक पारदर्शी नाइटी में थी। फिर में अंदर गया और सोफे पर बैठ गया। अब पूजा मेरी साईड वाले सोफे पर बैठी थी और में यहाँ वहाँ की बातें करते हुए पूजा की आँखो में अपनी आँखे मिला रहा था।

फिर में बातें करते हुए पूजा के करीब गया और उसका चेहरा पकड़कर अपने होंठो को उसके होंठो पर रखकर किस किया और अपनी बाहों में पूजा को भर लिया और कहा कि इजाजत है, या नहीं। तो पूजा ने अपना सिर हिलाकर हाँ कहा, तो में पूजा को उसके बेड पर ले गया और पूजा को बेड पर सीधा लेटाकर किसिंग करना शुरू कर दिया और साथ ही साथ उसकी नाइटी को भी निकाल डाला। अब वो अपना चेहरा फैर रही थी। फिर मैंने अपनी टी-शर्ट और जीन्स को उतार दिया और जैसे ही मेरी जीन्स नीचे उतरी तो मेरी अंडरवेयर के ऊपर एक रोड की तरह तंबू खड़ा हो गया। अब यह सब देखकर पूजा को भी करंट लग गया था। फिर मैंने पूजा को किसिंग करते हुए उसकी ब्रा को भी उतार दिया और उसके बूब्स पर अपना एक हाथ फैरते हुए उसकी पेंटी में अपना एक हाथ डालकर उसकी चूत के लिप्स को रगड़ने लगा, जिससे पूजा एक हाई वोल्टेज की तरह गर्म हो गई। फिर मैंने पूजा की पेंटी भी उतार दी, अब वो मेरे सामने पूरी तरह से नंगी पड़ी थी। फिर यह देखते हुए मैंने भी अपना अंडरवेयर उतार डाला तो पूजा मेरे लंड को देखती रह गई। फिर तभी मैंने पूजा से कहा कि मेरे लंड को अपने मुँह में लो तो वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर थोड़ी देर तक सक करती रही।

फिर थोड़ी देर बाद पूजा ने मुझसे कहा कि रहीम अब रहा नहीं जाता। मैंने पूजा को सीधा लेटा दिया और अपना लंड उसकी चूत के लिप्स पर रगड़ता रहा, जिससे वो तड़प गई और कहने लगी कि रहीम प्लीज़ अंदर डालो, अब रहा नहीं जाता। तो मैंने यह सुनते ही पूजा की दोनों टाँगो को फैलाया और उसकी चूत पर अपना लंड रखकर धीरे-धीरे अंदर करता गया, क्योंकि उसकी चूत सेक्स नहीं करने के कारण बहुत टाईट हो गई थी। फिर मैंने धीरे-धीरे अपना लंड अंदर डाला तो मेरा लंड पूरा अंदर जाते ही मुझे पूजा की हल्की सी चीख सुनाई दी आहह। फिर में धीरे-धीरे अपनी स्पीड को भी बढ़ाता चला गया और पूजा आंटी को चोदता गया और अब वो मेरा साथ देने लगी थी। फिर मैंने कुछ समय तक पूजा को अच्छा सेक्स का मज़ा दिया। अब वो बार-बार कह रही थी कि रहीम रूको मत बस करते रहो। फिर मैंने उसको उस दिन 3 बार सेक्स का मज़ा दिया और हम अपनी-अपनी प्यास बुझाकर कुछ देर बेड पर ऐसे ही लिपटे रहे और फिर ऐसे ही हमने सिर्फ़ 2 बार ही सेक्स किया। फिर थोड़े दिनों के बाद पूजा आंटी का पति भी अमेरिका से वापस आ गया और वो आंटी को भी अपने साथ ले गया, तो तब से में भी खामोश हूँ ।।

धन्यवाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *