दोनों बहनों को एक साथ चोदा

group sex stories

मेरा नाम अरमान है और मैं जयपुर का रहने वाला हूं,  मेरी उम्र 26 वर्ष है और मैं जिस कॉलोनी में रहता हूं उसी कॉलोनी में मेरी एक गर्लफ्रेंड भी है, उसका नाम रिया है। रिया और मेरे बीच में रिलेशन मेरे कॉलेज के समय से ही है। यह बात मेरे घर में सबको पता है लेकिन रिया के घर में किसी को भी नहीं मालूम नही है, शिवाय उसकी बहन के। उसकी बहन का नाम तानिया है। उसने एक दिन हम दोनों को पार्क में एक साथ देख लिया था इसी वजह से उसे भी हम दोनों के रिलेशन के बारे में मालूम है। मैं जब भी अपने ऑफिस से वापस लौटता था तो मैं अक्सर रिया से मिल लिया करता था क्योंकि मैं जहां पर नौकरी करता था उससे कुछ ही दूरी पर रिया का ऑफिस भी था इसलिए हम लोग साथ में ही ऑफिस से आते थे और ऑफिस जाते वक्त हम दोनों को साथ में ही समय बिताते थे लेकिन एक दिन जब हमें तानिया ने देख लिया तो उसने मुझसे कहा कि मैं तुम्हारी शिकायत घर में कर दूंगी। मैंने उसे कहा कि तुम घर में मत बताना नहीं तो सब लोग मेरे बारे में गलत समझेंगे।

मैंने उसे किसी प्रकार से मनाया और रिया ने भी उसे समझाया की हम दोनों एक दूसरे को काफी समय से जानते हैं और हम दोनों का रिलेशन भी अच्छे से चल रहा है, यदि तुम इस बारे में घर में बता दोगी तो घर में बहुत ही दिक्कतें पैदा हो जाएंगी क्योंकि रिया और मेरे घर में बहुत ही अच्छे संबंध थे और हम लोग नहीं चाहते थे कि किसी भी प्रकार से यह बात रिया के घर वालों को पता चले। रिया के पापा पुलिस में हैं और वह बहुत ही गुस्सैल किस्म के व्यक्ति हैं, वह किसी को कुछ भी नहीं समझते और जब उनका झगड़ा किसी से हो जाता है तो वह उन्हें कुछ भी गलत बोल दिया करते हैं, इसी वजह से हमारे मोहल्ले में सब लोग उनसे बहुत डरते हैं और यह बात मुझे भी अच्छे से मालूम थी इसीलिए मैं नहीं चाहता था कि यह बात उन्हें भी पता चले। हम दोनों ही उन्हें कुछ समय बाद बताने वाले थे लेकिन कभी ऐसा समय नहीं आया कि मैं इस बारे में रिया के घरवालों से बात कर पाता। अब धीरे-धीरे समय बिता जा रहा था और मुझे कुछ समय के लिए अपने ऑफिस के सिलसिले से बाहर जाना था।

जब अपने काम के सिलसिले में बाहर गया तो मैं रिया से फोन पर बात करता रहता था लेकिन जब रिया ने मुझे बताया कि उसके घर वालों ने उसके लिए कहीं और रिश्ता देख लिया है तो मुझे बहुत ही ज्यादा टेंशन हो गई, मैंने उसे समझाने की कोशिश की लेकिन वह रोने पर लगी हुई थी और मैंने तानिया को भी कहा कि तुम उसका ध्यान रखना लेकिन मुझे भी कहीं ना कहीं अंदर से बहुत ज्यादा बुरा लग रहा था क्योंकि यह सब इतनी जल्दी में हुआ कि मैं उसके घर वालों को भी इस बारे में नहीं बता पाया इसीलिए मुझे बहुत ज्यादा टेंशन हो रही थी और मैं सोचने लगा कि मुझे अब क्या करना चाहिए। मैंने रिया से कहा कि मुझे अभी आने में समय लग जाएगा, तब तक तुम ही हैंडल कर लो लेकिन उसके पापा ने उसकी सगाई बहुत ही जल्दी में कर दी। उसकी सगाई हो गई। उसके बाद उसने मुझे फोन किया और कहने लगी कि अब मेरी सगाई हो चुकी है। मुझे यह बात सुनकर बहुत ही बुरा लगा और मुझे लगने लगा कि शायद अब मैं कभी भी रिया से अपना रिलेशन आगे नही बड़ा पाऊंगा। अब रिया भी मुझसे फोन पर बात नहीं कर रही थी और ना ही तानिया मेरा फोन उठा रही थी। मैं अपने ऑफिस के काम में ही बिजी था। जब मेरा ऑफिस का काम खत्म हुआ तो मैं जैसे ही जयपुर पहुंचा तो मैंने सबसे पहले रिया से मिलने की कोशिश की, वह अपने ऑफिस से शाम को घर लौट रही थी तो मैंने उससे पूछा कि तुम मेरा फोन क्यों नहीं उठा रही हो, वो कहने लगी कि अब तुम्हारा फोन उठाकर कोई भी फायदा नहीं है, बेकार में अब यह बात मेरे पापा को पता चली तो वह बात का बतंगड़ बना देंगे और कहीं कुछ गलत ना हो जाए, इसी डर से मैं तुम्हारा फोन नहीं उठा रही थी और मैंने तानिया को भी तुम्हारा फोन उठाने से मना कर दिया था इसीलिए वह भी तुम्हारा फोन नहीं उठा रही थी।

मैंने रिया को बहुत ही समझाने की कोशिश की लेकिन वह कुछ भी नहीं समझ रही थी और वह कहने लगी कि मुझे जब तुम्हारी जरूरत थी उस वक्त तुमने मेरा फोन नहीं उठाया। मैंने उसे कहा कि मैं अपने काम में बिजी था, उसके कुछ समय बाद ही मैंने तुम्हें फोन किया लेकिन उसके बाद तुमने भी मेरा फोन नहीं उठाया लेकिन रिया कुछ भी बात सुनने को तैयार नहीं थी और वह मुझे कहने लगी कि मुझे तुमसे कोई भी रिलेशन नहीं रखना है। अंदर से पूरी तरीके से टूट चुका था क्योंकि रिया मेरी बात सुनने को तैयार नहीं थी और मुझे उस बात का बहुत ही बुरा लग रहा था। मैंने उसे काफी समय तक मनाने की कोशिश की लेकिन उसके घरवालों ने उसका रिश्ता तय कर दिया। कुछ ही समय बाद उसकी शादी होने वाली थी। जब यह बात मुझे पता चली तो मुझे बहुत ही बुरा लगा लेकिन रिया मेरी बात को सुनने को तैयार ही नहीं थी और ना ही वह मेरा साथ देना चाहती थी इसीलिए मैंने भी यही उचित समझा कि मैं उससे बात ही ना करूं तो ही अच्छा रहेगा। मैं जब भी रिया को देखता तो मुझे उसे देख कर बहुत ही बुरा लगता था क्योंकि वह भी मुझसे बहुत ज्यादा प्रेम करती थी उसके बावजूद भी हम दोनों का रिश्ता नहीं हो पाया, इस बात से वह भी दुखी थी और मैं भी बहुत ज्यादा दुखी था।

जब रिया की शादी होने वाली थी तो उसी दौरान मुझे तानिया मिली और वह कहने लगी कि मैं भी यही चाहती थी कि तुम दोनों का रिश्ता हो जाए लेकिन पापा ने इतनी जल्दी में सब कुछ किया कि हमें कुछ भी पता नहीं चल पाया। मैंने उसे कहा चलो वह तो कोई बात नहीं है लेकिन रिया मेरी बात सुनने को बिल्कुल भी तैयार नहीं है। तानिया मुझे कहने लगी कि उसकी भी अपनी मजबूरी है क्योंकि यदि वह पापा की बात नहीं मानेगी तो पापा उस पर बहुत ही गुस्सा हो जाएंगे और वह बिल्कुल भी नहीं चाहती कि वह किसी भी प्रकार से पापा को टेंशन दे या फिर उन्हें तुम्हारे बारे में बताये। जब मैं तानिया से बात करता हूं तो मुझे बहुत ही हल्का महसूस होता था और वह भी मुझसे बात करने लगी थी। मुझे उससे बात करना भी अच्छा लगता था और वह मुझे रिया के बारे में जब जानकारी देती तो मैं बहुत ही खुश होता था लेकिन मैं यह चाहता था कि मैं एक बार रिया से मिलू। मैंने तानिया को कहा कि तुम यदि मुझे रिया से एक बार मिला दो तो मुझे बहुत ही अच्छा लगेगा क्योंकि रिया ने अब नौकरी से भी रिजाइन दे दिया था और वह घर पर ही रहती थी इसी वजह से मैं उसे नहीं मिल पा रहा था और वह मेरा फोन भी नहीं उठाती थी। तानिया ने कहा कि कुछ समय बाद मैं उसे तुमसे मिलवा दूंगी। मैंने उसे कहा यदि तुम मेरी इतनी मदद कर दो तो मुझे बहुत अच्छा लगेगा। तानिया ने मुझे प्रॉमिस किया और कहा कि मैं तुम्हें उससे जरुर मिलवा दूंगी,  तुम उसकी चिंता मत करो। मैं जब भी रिया को अपने घर से देखता तो वह मुझे देख कर नजरें झुका लिया करती थी और मैं उसे देखता ही रह जाता था लेकिन मैं भी अंदर ही अंदर से बहुत ज्यादा उदास था और मैं अपने काम में भी अच्छे से मन नहीं लगा पा रहा था। मेरा बिल्कुल भी अपने काम में मन नहीं लगता था।एक दिन तानिया ने मुझे फोन किया और उस दिन वह रिया को भी अपने साथ ले आई मैंने उसे कहा कि तुम मेरे घर पर ही आ जाओ क्योंकि उस दिन हमारे घर पर कोई भी नहीं था। जब वह दोना मेरे घर पर आई तो मैं रिया को देखकर बहुत ही खुश था और मैंने उसे देखते ही गले लगा लिया। मैंने जब उसे गले लगाया तो उसके स्तन मुझसे टकराने लगे और मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं गया। मैंने उसके स्तनों को दबाना शुरू कर दिया और उसके होठों को मैंने किस कर लिया जब मैंने उसके होठों को किस किया तो उसकी भी उत्तेजना पूरी बढ गई।

जब उसकी उत्तेजना बढ़ गई तो मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिया और तानिया भी यह सब देख रही थी तानिया ने भी अपनी चूत में उंगली डालनी शुरू कर दी और जैसे ही मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो रिया ने उसे अपने मुंह में समा लिया। वह बहुत अच्छे से मेरे लंड को चूसने लगी काफी देर ऐसा करने के बाद मैंने उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डाल दिया और उसे धक्के मारने शुरू कर दिए। मैंने उसे बहुत देर तक चोदा जिससे कि उसके मुंह से मादक आवाज निकल जाती और वह बहुत खुश होती जब मे उसे चोदता लेकिन मेरा माल जल्दी झड़ गया। तानिया ने भी मेरे  लंड को अपने मुंह में ले लिया और वह उसे सकिंग करने लगी काफी दिन ऐसा करने के बाद मैंने उसकी चूतडो को पकड़ते हुए उसकी योनि में लंड डाल दिया जैसे ही मैंने उसकी योनि में अपना लंड डाला तो वह चिल्ला उठी और बहुत खुश हो गई। मुझे भी बहुत अच्छा लगने लगा जब मैं उसे झटके दिए जा रहा था वह भी अब मेरा पूरा साथ दे रही थी और अपनी चूतड़ों को मुझसे मिलाने पर लगी हुई थी। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब वह इस प्रकार से मेरा पूरा साथ दे रही थी। मेरा लंड बुरी तरीके से छिल चुका था लेकिन मुझे उसकी टाइट चूत को चोदने में बड़ा मजा आ रहा था और वह भी अपने मुंह से बड़ी मादक आवाजे निकालती जाती जिससे कि मेरा वीर्य उसकी योनि के अंदर ही गिर गया और वह बहुत खुश हो गई। उसके कुछ समय बाद रिया की शादी हो गई और अब तानिया मेरी गर्लफ्रेंड बन चुकी है लेकिन मैं उसे हमेशा ही चोदता हूं और वह मेरे पास हमेशा ही अपनी चूत मरवाने के लिए आ जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *