बड़ी बहन की सहेली मेरी चुदाई पार्टनर

kamukta, desi sex stories हाय प्यारे प्यारे दोस्तो | मैं अपने जीवन की एक नयी घटना को आपके सामने ला रहा हूँ | ये उन दिनो की घटना है जब मैं बारवी क्लास पास करके कॉलेज में पहुंचा | मैंने अपनी बहन की सहेली को अपने घर पर चोदा था जब मेरे घरवाले बाहर गए हुए थे | मुझे कॉलेज में पढना पसन्द था | इसलिए मैं रोजाना कॉलेज जाया करता था | मैं सुबह उठकर तैयार हो जाता था और नए कपडे पहनकर कॉलेज चला जाता था | मैं जब कॉलेज में पढाई करता था तब मेरी बहन भी कॉलेज में मेरे साथ पढाई किया करती थी | मेरी बहन की दस सहेलियां थी जिनको मैं पहचानता था | मेरी बहन की सहेलियां मेरे घर पर आया करती थी और मेरी बहन भी उनके घर जाया करती थी | मेरी बहन एक होनहार लड़की थी इसलिए उसकी सहेलियां मेरे घर पर उसकी सहायता लेने के लिए और उससे मिलने के लिए आया करती थी | फुर्सत के वक्त जब मेरी बहन कॉलेज से लौटकर आ जाती थी तब वो उसकी सहेलियो को फोन लगाया करती थी और उन से पूछा करती थी तुम अभी क्या कर रही हो ? मुझे मेरी बहन की फोन पर बाते सुनकर हसी आ जाती थी तो मैं उसके सामने ही हसने लगता था | एक दिन मेरे घर पर एक आंटी आई हुई थी | उस आंटी के साथ उसकी लड़की भी मेरे घर पर आई हुई थी |

उस आंटी की लड़की ने छोटे कपडे पहने हुए थे | इसलिए मैं उस लड़की की जांघ को देख रहा था | उसकी जांग गोरी थी पर वो लड़की उस आंटी के साथ आई हुई थी इसलिए मैं ढंग से कुछ कर नहीं पा रहा था | मैंने उसे अपने छत से मेरे घर के अन्दर घुसते हुए देखा था | उस लड़की के छोटे पहनावे ने मुझे उससे मित्रता करने के लिए मजबूर कर दिया | जब मैं अपने घर के अन्दर घुस गया तो उस लड़की ने मुझे नमस्ते किया | मैंने भी उस लड़की को नमस्ते किया और उस लड़की ने मुझे बैठने के लिए कहा | मैं सोफे पर उस लड़की से बात करने के लिए बैठ गया | तब उस लड़की ने मुझे बताया की वो एक प्राइवेट जॉब करती है | लेकिन उस लड़की का पहनावा इतना छोटा था जैसे कि वो कोई छोटे उमर की लड़की है पर वो मुझ से उमर में बड़ी थी | उस लड़की से बात करते समय मैंने उसके विषय में मालूम कर लिया कि वो एक ऐसी लड़की है जो खुलकर रहना पसन्द करती है | उसके खुलेपन के कारण मैं उस लड़की से मित्रता करने में लग गया | मैंने उसे बताया की मैं अभी फिलहाल कॉलेज में हूँ और जब मेरा ग्रेजुएशन हो जाएगा तो मैं एक प्राइवेट जॉब करना शुरु करने वाला हूँ |

उस लड़की ने लेकिन मुझे सलाह दी की तुम कॉलेज में पढाई करते हुए भी एक पार्ट टाइम जॉब आसानी से कर सकते हो | मैं उस लड़की के रहन सहन से प्रभावित हो गया | क्योकि वो लड़की जितना कमाती थी उतना ही वो खर्चा भी करती थी | मुझे मालूम चल गया था की वो लड़की रहीसो का शौक पालती थी | जब मैं उस लड़की से बात कर रहा था तब मैंने उसे बताया की मैं आपसे प्रभावित हो चूका हूँ | इसलिए मैं भी उस दिन के बाद से एक प्राइवेट जॉब तलाश करने लगा | मेरी किस्मत बढ़िया थी इसलिए मुझे एक प्राइवेट जॉब भी मिल गयी | कुछ महीने बाद मैंने उस लड़की से मिलने के लिए एक योजना बनाई | उस लड़की को प्रभावित करने के लिए मैंने काफी कोशिश की थी | मैं उस लड़की के घर के सामने घूमा करता था जब मैं उस लड़की के सामने से गुजर रहा था तो उसने मुझे देखा लेकिन उसने मुझे हाय भी नही किया क्योकि उस लड़की के साथ कोई था | फिर मैंने उस लड़की से मित्रता करने के लिए मैंने अपनी बहन की सहेली को पटाया ताकि वो उस लड़की को सहेली बना ले |

मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को उस लड़की के विषय में बताया की वो लड़की मुझे पहचानती है इसलिए मैंने अपनी गर्लफ्रेंड से उस लड़की को सहेली बनाने के लिए कहा | मैं अपनी गर्लफ्रेंड से उस लड़की की बढ़ाई किया करता था ताकि वो मेरी गर्लफ्रेंड भी उसकी खूबियों को अपनाये और यह एक बहाना बन गया उस लड़की को सहेली बनाने का | मेरी गर्लफ्रेंड ने उस लड़की को सहेली बना लिया | मैं अपनी गर्लफ्रेंड को उस लड़की के करीब रखने के लिए मेरी गर्लफ्रेंड से कहा कि तुम उस लड़की से जॉब करने की सलाह लो | क्योकि वो लड़की भी कही पर जॉब करती है | मेरी गर्लफ्रेंड उस लड़की से सलाह लेने के लिए तैयार हो गयी थी | मेरे पास उस लड़की का फोन नम्बर था जिसने मैंने चालाकी से हासिल कर लिया था | लेकिन अगर मैं उस लड़की को फोन करता तो उस लड़की को लगता कि मैं एक बदमाश हूँ | इसलिए मैंने ऐसा कुछ नही किया | मेरी गर्लफ्रेंड जब मुझ से मिलने के लिए आया करती थी तब मैं उसके दूध को देखा करता था | मेरी गर्लफ्रेंड गोरी थी इसलिए उसके दूध भी गोरे थे | मैं अपनी गर्लफ्रेंड से कहा करता था की तुम ऐसे कपडे पहना करो जिससे तुम्हे गर्मी न लगे | असलियत ये थी की मैं उस लड़की से ऐसा इसलिए कहा करता था क्योकि मैं उसके दूध आसानी से देख पाऊ | एक दिन मेरी गर्लफ्रेंड से मैंने कहा की तुम छोटे कपडे क्यों नही पहनती हो तब मैंने उस लड़की के विषय में बताया जिसको मैं पटाने की कोशिशि कर रहा था | मेरे कहने पर मेरी गर्लफ्रेंड ने छोटे कपडे पहनना शुरु किया | मैंने अपनी गर्लफ्रेंड की चूत के दर्शन करने के लिए उसे अपने एक घर पर ले कर गया |

वहां पर कोई नही था और मैंने मौके का फयदा उठाया और उसकी चुदाई करना शुरु कर दिया | चुदाई के दौरान पहेले मैंने उसके कपड़ो को उतारा फिर जब वो पूरी नंगी हो चुकी थी तो मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझ से कहा तुम आज क्या करने वाले हो | मैंने उसे बताया कि मैं वो करने वाला हूँ जो करना मुझे आता है | तुम भी मुझे गले लगाओ | पहेले मैंने उसके होटो को चूमा और वो भी मेरे होटो को चूमने लगी | मैंने उसे गले लगाया और उसकी गांड को दबाने लगा | मैंने ऐसा करीब दस मिनट तक किया | फिर मुझे उसने कहा की तुम्हे चोदना नही आता है क्या सिर्फ तुम मेरी गांड को दबा रहे हो | उसके ऐसा कहने पर मैंने उसके दूध को दबाना शुरु किया और उसने मुझ से कहा तुम तो सिर्फ दबाते रहते हो | मुझे अब मालूम चल गया था की उस गर्लफ्रेंड को क्या देना है और मैंने अपना लंड उसे चूसने के लिए दिया | वो मेरा लंड चूसने लगी और कुछ समय तक वो मेरा लंड चूसती रही | फिर मैंने अपना लंड उसके मुंह से बाहर निकाल लिया | मैंने अपने लंड का सहारा लेते हुए मैंने उसकी चूत को गीला कर दिया |

जब मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो मुझे पता चल गया कि उसकी गीली हो गयी है और मैंने उसकी चूत को चाटने का मन बना लिया | मैंने उसकी चूत पर मुंह लगाया और उसकी चूत को चाटने लगा और वो आन्हे भरने लगी | उसकी चूत इतनी मादक खुशबु दे रही थी कि मैं उसमे घुसा चला जा रहा था और मैं उसके चूत से टपकते हुए पानी को पीता जा रहा था | वो आराम से लेट के इस का मज़ा ले रही थी और मेरे लंड से लार निकल रही थी | फिर मैंने उसकी चूत में अपना लंड घुसाया |

उसकी चूत गीली थी इसलिए मेरा लंड उसके अन्दर तक आसानी से घुस रहा था | ऐसा करना मेरे लिए एक लाजवाब अनुभव था इसलिए मैं लम्बे समय तक उसे धक्का दे रहा था | मेरा लंड से कुछ समय के बाद माल निकला और वो उसकी चूत में भर गया | ऐसा करने पर मुझे सुस्ती आने लगी और मैंने उसे चोदना बन्द किया | वो मौहोल मेरे लिए एक सुनहरा मौहोल था क्योकि मैंने उस दिन अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा था | लेकिन मैंने अपनी गर्लफ्रेंड से इसलिए मित्रता की थी ताकि मैं उस लड़की से बात कर सकूँ जिसको मैंने अपनी गर्लफ्रेंड की सहेली बनाया था | मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे एक दिन उस लड़की से मिलवाने के लिए मुझे एक गार्डन में बुलाया था | वो गार्डन देखने में लुभावना लग रहा था और वहां सुन्दर फूल लगे हुए थे | मैं जब गार्डन में पहुंचा तो मुझे मालूम था की मेरी गर्लफ्रेंड उसकी सहेली के साथ उस गार्डन पर मौजूद है | इसलिए मैं उनके लिए दुकान से चोकलेट खरीदकर लाया था | लडकियो को चोकलेट खाने के लिए दी और कुछ पकवान भी साथ में लेकर गया था |

जब वो दोनों मेरा दिया हुआ पकवान खा रही थी तब मैं जिस लड़की को पटाने के लिए अपनी गर्लफ्रेंड का सहारा लिया था | उस लड़की से बात करना शुरु कर दिया | उस लड़की ने मुझे बताया की वो जहा पर जॉब करती है वहा पर एक लड़का भी कार्य करता है और वो उसे छेड़ता है | मुझे अब एक मौका मिल गया था की मैं उस लड़की के लिए कुछ खास कर सकूँ तभी मैंने उस लड़की को अपना फोन दिया और उस लड़की का फोन नम्बर ले लिया | फिर मैंने उस लड़की से कहा अगर वो लड़का तुमको छेड़ता है तो तुम मुझे फोन करना | इसके अलावा मैंने उस लड़की से कहा की अब से वो तुम्हे नही छेड़ेगा | मुझे उस समय मालूम था की क्या करना है इसलिए मैं उस लड़के को सलाह देने के लिए उस लड़की से मिलने के लिए गया जहा पर वो जॉब करती थी | मैंने उस लड़की से कहा की तुम मुझे इशारे से बताना की वो लड़का कहा है | मैंने उस लड़की से कहा की क्यों न हम उस लड़के को एक ऐसे खेल में लगा दे कि वो तुमको छेड़ना बन्द कर दे | मैंने उस लड़की से कहा की वो लड़का तुमे छेड़ना रोक सकता है अगर तुम लड़के को एक नया लड़का बना दो | मैंने फिर उस लड़की से कहा की मैं उस लड़के को अपना मित्र बनाने वाला हूँ | वो लड़की मेरे बनाये हुए खेल के लिए तैयार हो गयी और आखिरकार मैंने उस लड़के को मित्र बना लिया | और जब वो मेरा दोस्त बना उसके बाद मैंने उसको शुद्ध हिंदी में समझाया कि बेटा वो तेरी भाभी है और उसको लडको से पिटवा भी दिया | अब मेरे पास दो लडकियां हैं और मै उन्हें बराबर चोदता हूँ और बेहद चोदता हूँ |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *