मेरी असिस्टेंट, मेरा बिर्थडे गिफ्ट

हेलो दोस्तो, मैं आपका दोस्त करण आपके लिए फिर से एक सच्ची कहानी ले कर आया हूँ. दोस्तो मेरी उमर अभी 25 साल है और आज जो मैं आपको अपनी कहानी बताने जा रहा हूँ वो अभी से कुछ समये पहले की है.

और हाँ दोस्तो इस बार मेरी ये कहानी बहोत ही मस्त है जिसे पढ़ते ही आप अपना लंड और चूत को उप्पर नीचे करना शुरू करदेंगे और एक दूसरे की पायस को भी भुजाएँगे.

अब दोस्तो आपका ज़्यादा समये ना लेते हुए मैं सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ. मैं एक कंपनी मे जॉब करता हूँ और उस कंपनी मे मैने एक अपने नीचे असिस्टेंट रख रखी है. जिसका नाम रिया है.

दोस्तो, उसकी उमर 22 साल है और दिखने मे तो वो बहोत ही ज़्यादा मस्त है. मैं जब भी उसे देखता हूँ तो मेरा मन उसे चोदने को करता है. क्योकि उसका फिगर बहोत ही ज़्यादा मस्त है जिसे देख कर मैं खुद पर कंट्रोल नही कर पता हूँ.

उसे मेरे अंडर लगे हुए अभी कुछ ही महीने हुए थे की हमने एक दूसरे के नंबर भी एक्सचेंज कर लिए. हम धीरे-धीरे एक दूसरे के काफ़ी क्लोज़ होने लग गये और काफ़ी अच्छे फ्रेंड्स भी बन गये.

तब मैने उससे बातो-बातो मे एक बात पूछी की उसका कोई बॉयफ्रेंड तो होगा. पर उसने तब मना कर दिया पर मुझे इस बात पर कोई भरोसा नही हो रहा था इसलिए मैने उससे दुबारा पूछा तो उसने मुझे बताया की बॉयफ्रेंड था पर अब ब्रेक अप हो गया है.

रिया के मूह से ये बात सुन कर मेरे मन मे लड्डू फूटने लग गये की अब मैं रिया को चोद सकता हूँ. मैं मन ही मन उसे चोदने की प्लानिंग बनाने लग गया. मैं उसके एक दम से क्लोज़ नही जाना चाहता था क्योकि मुझे डर था की अगर मैं एक दम से इसके क्लोज़ गया तो प्राब्लम हो सकती है.

इसलिए अब मैं उससे ऐसे ही फोन पर काफ़ी देर तक बाते मारने लग गया था और फिर मैने उससे ऐसे ही बातो-बातो मे कहा की मैं कल ऑफीस नही आऊंगा.

तब उसने वही किया जो की मैं चाहता था और फिर उसने मेरे ना आने का रीज़न पूछा तो मैने उसे झूठ बोल दिया की मेरा कल बर्थडे है.

ये सुन कर वो बहोत खुश हुई और मुझसे बर्थडे गिफ्ट के लिए कहने लग गई. तब मैने उससे कहा की चलो तो ऐसा करो कल मेरे घर आ जाओ और फिर वही पर सोचेंगे की क्या बर्थडे गिफ्ट लेना चाहिए.

पहले तो उसने मुझे मना किया पर बाद मे वो मान गई और फिर अगले दिन सुबह ही मेरे घर आ गई.

जब वो मेरे घर आई तो उस समये मैं सो रहा था तब उसने मेरे लिए चाय बनाई और फिर मुझे उठा कर बर्थडे विश किया और चाय का कप हाथ मे दे दिया. तो मुझे एक अजीब सा करेंट लगा. मैने उसे अपने साथ बैठ कर चाय पीने के लिए कहा. तो वो मान गई और मेरे साथ बैठ कर चाय पीने लग गई. मैं महसूस किया की रिया मुझसे चिपक रही है.

तभी मैं अपना कप साइड मे रखा और उसकी आँखों मे देखने लग गया. वो मुझे देखने लग गई. हम दोनो एक दूसरे की आँखों मे खोने से लग गये. तभी मैने अपना एक हाथ उसके हाथ पर रखा और उसका भी चाय का कप पकड़ कर साइड मे रख दिया. और फिर अपने एक हाथ उसके कंधो पर रखा और उसे अपनी और खींच लिया.

रिया के होंठ मेरे होंठो के एक दम पास आ गये थे. वो कुछ भी नही बोल रही थी उसकी साँसे अचानक गरम हो गई थी. उसने अब अपनी आँखें बंद कर ली थी. मैं समझ गया था की अब लड़की तैयार है. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

मैने धीरे से अपने होंठो को उसके होंठो पर रखे और एक एक करके उसके होंठो को चूसने लग गया. पहले तो रिया आराम से अपने दोनो होंठो को चुस्वा रही थी. पर कुछ ही देर बाद वो मेरे होंठो को भी ज़ोर ज़ोर से चूसने लग गई. उसके बाद मैने उसके बूब्स को दबाना शुरू कर दिया. कुछ ही देर मे हम दोनो पूरे नंगे हो गये. और मैने रिया को बेड पर सीधा लेटा दिया. और मैं उसके उप्पर लेट गया. और उसके चेहरे और उसके होंठो को अच्छे से चाटने लग गया.

उसकी गर्दन को अच्छे से चाटने के बाद. मैने उसके दोनो बूब्स पर हमला बोल दिया. करीब 20 मिनिट तक उसके दोनो बूब्स चूसने के बाद मैने उसके बूब्स गोरे से लाल कर दिए. कहाँ पहले रिया के दोनो बूब्स के निप्पल्स बैठे हुए थे. पर अब उसके दोनो गोरे गोरे बूब्स पर उसके खड़े ब्राउन निप्पल्स आग लगा रहे थे. मैं बार-बार उसके निप्पल्स को अपनी जीब से चाट रहा था.

फिर मैं नीचे गया और उसकी दोनो टाँगे खोल कर उसकी चूत को चाटने लग गया. उसकी चूत पर उप्पर की साइड थोड़े बाल थे पर चूत पर एक भी बाल नही था. इसको देख कर मुझे लगा की शायद आज रिया पहले से ही चुदने की तैयारी करके आई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *