मेरी पहली चुदाई

आज मैं मेरी सच्ची कहानी बताने जा रहा हु जिसमे मेने पहली बार चुदाई की। मेरा नाम रमेश है और राजस्थान से हु। एक मध्यम परिवार से हु
मेरी स्कूल तक की पढ़ाई पूरी होने के बाद मैं मेरे गाँव से दूर शहर में कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने आया
मुझे शहर में नया होने के कारण कोई रूम नही मिल रहा था तो मैने मेरे दोस्त की हेल्प से एक रूम ढूंढ़ा
उस फ्लेट के सभी कमरे मकान मालिक किराए पर देता था
मुझे वहा रहने में कुछ दिन तो दिक्कत आई लेकिन बाद में सब कुछ नॉर्मल हो गया
मेरे सामने वाले रूम में एक लड़का और एक लड़की रहती थी वो दोनों बहन भाई थे
कुछ दिनों में मैं सब से घुल मिल गया था
उस लड़के का नाम शंकर था और उसकी बहन का नाम नेहा था । मेरे और नेहा के बीच में नॉर्मल बात होती थी एक दिन मैं सुबह कॉलेज जा रहा था तो शंकर ने पूछा की तू कोनसे कॉलेज मे है तो मैने मेरे कॉलेज का नाम बताया तो उसने कहा कि नेहा भी उसी कॉलेज में पढ़ती है और कहा कि मैं उसे अपने साथ ही कॉलेज ले जाया करू तो मैने भी हा कर दी।
पहले मेरे मन में नेहा के बारे में कोई गलत सोच नही थी ऐसे ही कई दिन गुजर गए।
एक दिन उसने आवाज दी की मै उसका वेट करलू वो कपड़े बदल कर आ रही है।
तो मैं उसके कमरे में चला गया उसके कमरे का गेट खुला ही था मै अंदर गया तो देखा की नेहा बाथरूम में कपड़े बदल रही थी और बाथरूम का दरवाजा खुला था नेहा ने ब्लेक ब्रा और ब्लैक ही पेंटी पहन रखी थी उसके बाल खुले थी और सुन्दर लग रही थी
मै उसे देख ही रहा था कि उसने मुह पीछे गुमाया तो मुझे देखकर चौक गई और गेट बंद कर लिया
मै तो उसका फिगर देख मदहोश सा हो गया
जब वो बाहर आई तो नीली जीन्स और येल्लो टी शर्ट पहन कर आई वो क्या मस्त लग रही थी उसे देख कर मेरा लण्ड तो सेट हो गया अब कॉलेज जाते समय मै उसे ही देख रहा था और मुझे देख बोली आज तू कुछ बदला सा लग रहा है मेने कहा नही बस थोड़ी सी तबीयत खराब है उसने कहा मुझे देख कर हो गयी क्या और हंसकर आगे चली गई
मुझे लगा अब कुछ हो सकता तो मैं भी तैयार हो गया
अब मै उसे जब भी देखता तो उसे चोदने का प्लान करता । मै उसके बाथरूम में जाकर उसकी ब्रा – पेंटी को सूंघ कर मुठ मारता
एक दिन उसे मुझे देख लिया और बोली तू क्या कर रहा है तो मेने कहा कुछ ये नीचे गिर गयी थी ऊपर रख रहा था तो उसने कहा अच्छा ठीक तो मै उसे रात में चोदने का प्लान बनाता और उसके नाम की रोज मुठ मार कर सो जाता।
एक दिन वो आ गया जब मै उसे चोद सकता था क्यूकी कुछ ही दिन मेरे और नेहा के एग्जाम स्टार्ट होने वाले थे तो शंकर ने कहा की अगर नेहा तेरे साथ रात तो तेरे रूम में पढ़े तो तुझे कोई दिक्कत तो नही मेने कहा कोई प्रबल्म नही है और उसी रात तो मेरे कमरे में पढ़ने आई उसे देख कर मै खुश हो गया
ऐसे ही कई दिन गुजर रहे थे की एक रात उसने कहा मुझे सर्दी लग रही है क्या मैं आपकी रजाई में आ सकती हूं
मेरे पास एक ही रजाई थी अब एक रजाई में दोनों बैठ गए मै उसके चेहरे को बार बार निहार रहा था तो उसने कहा कि मेरी तरफ क्या देख रहे हो पढ़ लो
मै थोड़ी देर पड़ने लगा और वापिस उसे निहारने लगा अब मै उसे कैसे कहु की मै उसे चोदना चाहता हु
उसने एक टांग अपनी मेरी टांग के ऊपर रखी और हिलाने लगी मैं समझ गया कि वो भी कुछ चाहती है तो मैने धीरे से उसके पैर को सहलाना शुरु किया उतने में ही उसने मुझे कहा कि रमेश एक बात कहनी है मेने कहा बताओ उसने जो कहा मेरे तो सुनकर होश उड़ गए उसने बोला आई लव यू उसने कहा मै तेरे से प्यार करता हु
फिर मेने भी बोल दिया की मै भी तेरे से प्यार करता हु
और उसने अपनी आँखे बंद कर रखी तो मैने उसके होठ पर अपने होठ रख दिए वो भी मेरा साथ देने मै उसके बूब्स दबाने लगा।
वो लगातार मेरा सहयोग दे रही थी मै उसे चोदना चाहता था तो मैने उसकी टी शर्ट और पेंट उतार दी उसने नीचे कुछ नही पहन रखा था और क्या माल लग रही थी मैं तो जैसे जनत की सैर कर रहा था मेने उसके चूत पर जीभ रखी तो वो तड़प उठी
और मेरा सिर दबाने लगी
थोड़ी देर के बाद वो मेरे मुह में झड़ गई और अब मेरा लण्ड चूसने लगि कुछ देर बाद मै भी झड़ गया
अब वो मेरा लण्ड सहलाने लगी मै उसके दूध पी रहा था कुछ देर बाद वो फिर गर्म हो गई
मेने लण्ड पर थोड़ी क्रीम लगाई और कुछ उसकी चूत पर लगाई और लण्ड उसकी चूत पर सेट करके धक्का मारा तो वो जोर से चिल्लाई मेने उसके मुंह में रुमाल दे दिया वो अभी वर्जिन थी तो मेरा लण्ड अंदर नही जा रहा था कुछ मस्कत के बाद अंदर गया तो वो गांड हिलाने लगी । मेरा लण्ड अंदर गया तो उसकी चूत से खून बहने लगा । थोड़ी देर बाद वो मेरा साथ देंने लगी उस रात मेने सभी स्टाइल में 10 बार चोदा और दोनों थककर नंगे ही सो गए
अब वो रोजाना पढ़ने के बहाने मेरे पास आती और हम दोनों ऐसे रोज चुदाई करते।
तो दोस्तों आपकी मेरी यह पहली स्टोरी कैसे लगी मुझे ईमेल पर जरूर बताना([email protected])
और जल्द ही नई स्टोरी आपके लिए लेकर आऊँगा
मेरी पहली स्टोरी है ये तो कुछ गलती होइ है तो मुझे माफ़ करना।

web statistics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *