मेरे घर के बगल वाली लड़की

Kamukta, antarvasna दोस्तों मेरा नाम आकाश पाण्डेय है | मैं पन्ना का रहने बाला हूँ और मेरी उम्र 24 साल है | मेरी लम्बाई 6 फीट है और मेरा चहरे का रंग सांवला है और मैं अभी भी पढाई कर रहा हूँ | मेरे घर में मैं और मेरी मम्मी और बहन है | दोस्तों मैं लडकियों को चोदने का बहुत ही ज्यादा इन्टरेस्ट रखता हूँ | मैंने अपनी स्कूल लाइफ में एक लड़की पटा कर उसे बहुत चोदा था तब से आज तक मैं किसी न किसी लड़की को पटा कर खूब चोदता हूँ और अपने लंड की प्यास बुझाता हूँ | दोस्तो मेरा लंड 9 इंच का है मोटा और काला भी है | जब भी मैं अपना लंड किसी लड़की की चूत में डालता हूँ तो लड़की भी फ़िदा हो जाती है और बार बार मेरा लंड अपनी चूत में डलवाने के लिए आती रहती है | दोस्तों अब मैं आप लोगो को अपनी कहानी बताता हूँ यह कहानी बिलकुल सही है दोस्तों और यह कहानी पढ़ कर आप लोग भी चोदने के लिए बेताब हो जायेंगे |

दोस्तों मेरे घर के बाजू में एक बहुत ही खूबसूरत लड़की रहती है वो देखने में बहुत ही ज्यादा सेक्सी है और खूब गोरी भी है | पूरे मोहल्ले में उसके जैसी कोई लड़की नहीं थी सभी लड़के उसके पीछे लगे रहते थे | पर हम लोगों का उनके साथ घर जैसा चलता था | वो मुझसे उम्र में 4 साल बड़ी थी और मैं उसे दीदी बोला करता था और अभी भी बोलता हूँ | उनका नाम ख़ुशी असाटी है | मैं उनके घर रोज जाता रहता था और उनको कुछ काम रहता था तो वो हमेशा मुझसे बोलती थीं और और घर बुलाती थीं | मैं जब भी उनको देखता था या जब भी वो मेरे सामैंने आती थीं तो मेरा लंड खड़ा हो जाता और उनको चोदने का खूब मन करता था | उनके दूध इतने मस्त थे कि लगता था की बस एक बार कह दे मुझसे कि आकाश मेरे दूध पी लो | वो हमेशा ऐसे कपडे पहनती थी कि उनके आधे दूध तो दिखते ही रहते थे उनके दूधों को देख कर तो किसी को भी चोदने का मन करने लगे ऐसा फिगर था कातिलाना | मेरा तो बहुत मन करता था उनको चोदने का और किस करने का | उनके होंठ तो इतने चिकने थे और लाल कि किस करने में तो आनंद ही आ जाये | मैं हमेशा उनके घर दोपहर में जाता था क्योकि दोपहर में उनके घर में कोई नहीं रहता था उनकी मम्मी स्कूल चली जाती और पापा काम पे | इसलिए मैं दोपहर में उनके घर जाता था टीवी देखने के बहाने और उनके मस्त दूध देखता था | वो हमेशा दोपहर में मेक्सी पहनी रहती थीं और उनके पूरे दूध दिखते थे जब भी वो झुकती थी | मैं रोज उनको किस करने और दूध पीने के इरादे जाता था कि आज तो किस और दूध पी कर ही रहूँगा |

लेकिन जब उनके घर जाता था तो उनसे कुछ नहीं बोल पाता था | मन में रहता था कह दूँ कि दीदी आप बहुत सेक्सी हो और मुझे आप बहुत अच्छी लगती हो और मुझे आपको किस करना है और आपके दूध पीना है | पर कितना भी कोशिश करूँ मैं उनसे नहीं बोल पाता था और फिर अपने घर आ कर मुट्ठ मार लेता था | थोडा मन को शांति मिल जाती थी इसके बाद नहीं तो उनको देख कर तो चोदने का ऐसा मन करता था कि बस उनकी चूत मिल जाये | पर क्या करू मैं उनके घर जाके उनके दूध ही देखता रहता था | फिर एक दिन उन्होंने मुझे देख लिया कि मैं उनके बूब्स को मन लगा के देख रहा हूँ और उस समय मेरा लंड भी खड़ा था और वो मेरा लंड भी देख रही थीं | वो हसने लगी और कहने लगी कि आकाश तुम मेरे बूब्स देख रहे हो ? तो मैंने कहा नहीं तो !!! तो कहने लगी कि अरे सच बता दो हमको तो पता भी चल गया हमैंने तो देख लिया कि तुम मेरे दूध देख रहे हो और तुम्हारा तो लंड भी खड़ा है | जब इतनी बात उन्होंने मुझसे कही तो मैंने भी बेहिचक उनसे बोल दिया क्यूंकि मुझे तो उनको सच में चोदना ही था और चोदने का भी खूब मन कर रहा था |

फिर मैंने दीदी से बोल दिया कि हाँ मुझे आप बहुत अच्छे लगते हो और सेक्सी भी और आपके दूध मुझे मस्त लगते है | उनको देख कर पीने का भी मन करता है और किस करने का भी मन करता है | तो इतना सुन के वो मुझसे बोलने लगी कि इतनी सी बात तुमैंने पहले क्यों नहीं बताई ? तो मैंने कहा सोचता तो रोज था लेकिन बोल नहीं पाता था उसके बाद वो मुझसे कहने लगी कोई बात नहीं अब कर लो और उस टाइम वो पलंग में लेटी हुई थी और मैं कुर्सी में बैठा था | तो वो मुझे अपने पास बुलाने लगी और कहने लगी अब आओ और कर लो किस मैं तो इतनी बात सुन कर अंदर ही अंदर ख़ुशी के मारे पागल हो गया और फिर उनके पास गया वो पलंग में ही लेटी थी | तो मैंने कहा दीदी ऐसे ही करू किस पलंग में लेट कर तो कहने लगी हाँ तुम भी लेटो पलंग में और करो किस फिर उसके बाद मैं भी उनके बाजु में लेट गया और दीदी कहने लगीं कि अब शरमाओ मत जल्दी करो किस और जो जो करना हो सब कर लो आज तो | उसके बाद मैंने दीदी को पकडकर उनके मस्त चिकने और लाल लाल होंठों पर किस कर दिया | मुझे तो ऐसा लग रहा था जेसे मुझे जन्नत मिल गई हो | मुझे किस करने बहुत मजा आ रहा था | दीदी भी मुझे किस कर रही थी और मुझसे कहने लगी कि तुम अपनी टीशर्ट उतार दो तो फिर मैंने अपनी टीशर्ट को उतार दिया और फिर उनको किस करने लगा | उसके बाद मैं उनके दूध को चूमैंने लगा | तो दीदी कहने लगी कि मेरी मेक्सी की चेन खोलो और मेरी मेक्सी उतारो | तो मैंने उनकी मेक्सी की चेन खोल कर उनकी मेक्सी को उतार दिया और फिर उसके बाद वो कहने लगी कि मेरी ब्रा भी उतारो और मेरे दूध पीओ अगर पीना हो तो | मैंने कहा मैं तो पियूँगा ही इतने दिन से सोच रहा था आपके दूध पीने के बारे में आज मौका मिला है तो पिऊंगा ही | फिर उसके बाद मैं उनकी रेड कलर की ब्रा उतार कर उनके मस्त दूध पीने लगा | उनके मस्त गोरे गोरे और चिकने दूध पिने में खूब मजा आ रहा था |

जब मैं दीदी के दूध पी रहा था तो दी आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह कर रही थी और उनको जम कर जोश चढ़ रहा था | और मेरा लंड भी दीदी की चूत के लिए तड़प रहा था | जब मैं अपना लंड दीदी की चूत में डालने लगा तो वो मुझे मना करने लगी और कहने लगी कि बिना कंडोम के चूत में लंड नहीं डालना और कहने लगी कि मन तो बहुत हो रहा है चुदने का लेकिन तुम पहले कंडोम लेकर के आओ फिर हम तुमको चोदने के लिए देंगे | मैंने कहा अब अभी कहा से लाऊ दीदी कंडोम | तो वो कहने लगी जब कंडोम लाना तब चोद लेना अभी किस और दूध पियो फिर मैंने कहा ठीक है एक दिन और सह लेते है और फिर मैं उनके दूध पीने लगा और चूत सहलाने लगा | किस करते समय मेरा लंड दीदी की चूत में टच होता था तो दीदी आह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह करने लगती थी | फिर मैं खूब देर तक उनको किस करता रहा और पूरे एक घंटे मैं दीदी के दूध चूसता रहा | उसेक बाद मैंने दीदी से बोला कल मैं कंडोम लेकर के आऊंगा दीदी फिर आपको चोदुंगा तो दीदी कहने लगी ठीक है | कल कंडोम लेके आना और मुझे खूब चोदना मुझे भी अब बहुत मन कर रहा है तुमसे चुदने का उसके बाद मैं अपने घर चला गया और मुट्ठ मार ली | मैंने सोचा आज बस और मुट्ठ मार लू फिर कल तो दीदी को चोदना ही है |

कल से मुट्ठ मारना बंद और थोड़ी देर बाद मैं अपने दोस्त से एक कंडोम मंगवाया और उसने कहा पैसे दे और 10 मिनट बाद ले आया | वो पूछने लगा भाई किसको चोदने जा रहा है तो मैंने बोला हैं एक दीदी जिसे बहुत दिन से चोदने का मन कर रहा था और आज वो दिन आ गया है | वो मुझसे पट गई है और चुदने के लिए तैयार है | दूसरे दिन मैं कंडोम लेके दीदी के घर गया और मुझे देख के दीदी कहने लगीं मिल गया कंडोम तो मैंने कहा हाँ मिल गया | तो दीदी बहुत खुश हो गयी और पलंग में लेट गयी और कहने लगी अब जल्दी आओ और चोदो कंट्रोल नहीं हो रहा है तो मैंने कहा मुझे कौन सा हो रहा है | फिर मैंने जल्दी अपने कपडे उतारे और दीदी ने भी अपनी मेक्सी और सब कुछ उतार दिया | फिर मैंने अपने लंड में कंडोम लगाया और दीदी की मस्त चिकनी चूत में अपना 9 इंच का मोटा और काला लंड डाला तब जाके सुकून मिला | मैं जम कर दीदी को चोदने लगा दीदी चुदते समय अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह करने लगी | दीदी को चोदने में खूब मजा आ रहा था और उनको भी | मुझे इतना मजा कभी किसी लड़की को चोदने में नहीं आया जितना मजा दीदी को चोदने में आ रहा था और फिर मैंने दीदी को पूरे दो घंटे मन लगा के चोदा और दीदी अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह उह्ह्ह उह्ह्ह कर रही थी |

उसके बाद दीदी मुझसे कहने लगी यार तुमसे चुदने में तो मुझे बहुत मजा आता है फिर मैंने कहा मजा तो मुझे भी बहुत आया तो कहने लगी तुम कल भी आना और मुझे चोदना तो मैंने कहा जब आप बोलेंगी मैं तब आ जाऊंगा चोदने के लिए | उसके बाद मैं रोज दीदी को चोदने के लिए जाने लगा | फिर उसके कुछ दिनों बाद उनकी शादी हो गई और फिर उसके बाद तो उनका पति ही उनको चोदता था | और जब भी वो अपने घर आती थी तो मुझसे चुद के ही जाती थी और मुझसे बताती थी कि मुझे मेरे पति से चुदने में बिलकुल भी मजा नहीं आता है | तो मैंने कहा कोई बात नहीं दीदी जब आप यहाँ आया करोगे तो मैं आपको बहुत चोदा करूँगा | तो उने कहा हाँ वो तो में चुदवाउंगी ही क्योकि मुझे तुमसे चुदने में बहुत मजा आता है और जब भी वो आती थी तो मैं उनको बहुत चोदता था और आज भी जब वो आती है तो में उनके घर जाके उनको मस्त किस करता हूँ और उनके दूध पीता हूँ और खूब चोदता हूँ |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *