लड़की की चुदाई उसके जीजा जी ने कर दी

antarvasna, hindi sex story दोस्तो | आज मैं आपको उस चुदाई के विषय में सुनाने जा रही हूँ | जो मैंने उस दिन की जब मैं एक अपने जीजा के घर पर गई हुई थी | मेरे जीजा मेरी दीदी के साथ उड़ीसा में रहते थे | जब मैं अपनी दीदी से मिलने के लिए गई थी तो मैंने पाया कि मेरे जीजा मेरी चूत को लेने के लिए एक मौके की तलाश में थे | आखिरकार उनको एक मौका मिल गया और उन्होने वो किया जिसके लिए वो मौके की तलाश में थे | उन्होने मेरी चूत को अपने लंड से एक दिन चोद डाला | मैं अपनी दीदी से मिलने के लिए अपने जीजा जी के घर पर गई हुई थी | तब मुझे जीजा जी मिले | उनको देखकर मैंने उन्हे नमस्ते किया | मेरे जीजा जी की उम्र हो चुकी थी और उनके बच्चे भी हो चुके थे | लेकिन किसको मालूम था की एक दिन उनके घर पर मेरी चुदाई होने वाली है | मैं अपनी दीदी के घर जिस दिन पहुची थी उस दिन मेरे जीजा जी ने मेरी खातिरदारी किया | उनकी खातिरदारी लाजवाब थी | जब मुझे घूमना रहता था तब मैं अपनी एक सहेली के घर पर चली जाती थी | मेरी सहेली के घर मेरे जीजा जी के घर से कुछ दूर पर था | मैं अपना समय अपनी सहेली के घर पर बिताया करती थी | मेरे जीजा जी घर से सुबह निकल जाते थे और शाम होने पर घर लौटकर आ जाते थे |

मेरे आने के बाद कुछ महीनो तक मेरे जीजा जी की यही दिन चरिया था | लेकिन कुछ महीनो के बाद उनकी दिन चरिया में बदलाव आगया | अब वो पहेले जैसे अपना समय नही बिताया करते थे | वो सुबह से दोपहर तक घर पर रहा करते थे फिर दोपहर के बाद वो घर से बाहर जाया करते थे | एक दिन जब घर पर मेरी दीदी नही थी तो वो मेरे दूध को देख रहे थे | मेरे दूध को देखने के बाद उन्होने मुझ से कहा की तुम मेरे लिए सरबत बनाकर लाओ | मैं भी उनके लिए सरबत बनाकर ले आई | फिर मैंने उन से कहा की आज आप घर पर रहने वाले है तो उन्होने मुझ से कहा हा | फिर उन्होने मुझ से हसी मजाक करना शुरु किया और मुझे गले लगा लिया | कुछ समय के बाद मैंने भी उन्हे गले लगा लिया | ये तब तक चला जब तक मेरी दीदी घर पर लौटकर नही आई | मेरी दीदी ने मुझ से कहा था की वो बुआ के घर पर जा रही है | बुआ जो की मेरे जीजा जी के घर के कुछ दूर पर रहती थी | मेरी दीदी फुर्सत के समय बुआ के घर पर जा कर उनका वक्त बिताया करती थी | उस दिन मेरे जीजा जी ने मुझे चोद डाला जब मेरी दीदी घर पर नही थी | मेरे जीजा जी ने पहेले मुझे गले लगाया और फिर मेरी चूत को उनकी जीब से चाटा | जब उन्होने मेरी चूत को अपनी जीब से चाट लिया तो फिर उन्होने मुझ से कहा की तुम तुम्हारे कपडे उतार दो | उनके ऐसा कहने पर मैंने अपने कपडे उतारे |

जब मेरे जीजा जी मेरी चुदाई कर रहे थे तब मेरी दीदी बुआ के घर पर थी इसलिए मेरे जीजा जी दरवाजा बन्दकर के मुझे चोद रहे थे | वो उनकी उंगली को मेरे गाड में डाला था | फिर वो मुझे गोद पर उठाकर मुझे चोद रहे थे | फिर उन्होने ने उनका लंड मेरे मुह में डाल दिया | मैं कुछ समय तक उनके लंड को चूस रही थी | जब मुझे चोदते हुए दोपहर हो गयी तो उन्होने मुझ से जाने के लिए कहा क्योकि मेरे जीजा जी मुझे सुबह से चोद रहे थे और दोपहर हो चुकी थी | क्योकि मेरी दीदी आ सकती थी इसलिए मैंने अपने कपडे पहन लिया | मेरे जीजा जी मुझ पर खर्चा करते थे इसलिए मुझे उनको अपनी चूत देने में कोई आपत्ति नही थी | कुछ महीने तक मैं अपने जीजा जी के घर रही | फिर मैं अपने पापा के घर लौटकर आ गई | जब मैं अपने पापा के घर पर लौटकर आ गई तब मेरे जीजा जी के पास मेरा नम्बर था इसलिए वो मुझे फोन लगाया करते थे | मेरे जीजा जी मुझ से कहा करते थे की वो मुझ से मिलने के लिए एक दिन मेरे घर पर आने वाले है | लेकिन उनके पास फुर्सत का समय नही रहता था इसलिए वो सिर्फ फोन पर बोलते थे की वो आने वाले है | लेकिन वो कभी नही आ पाते थे | जब मैं अपने जीजा जी के घर पर गयी थी तब वहा पर मैंने एक सहेली बनाया था |वो लड़की जब मेरी सहेली बन गयी तो वो लड़की मेरी घर पर आई थी | वो लड़की उसका शहर छोडकर मेरे पापा के घर मुझ से मिलने के लिए आई थी | लेकिन एक दिन मेरे जीजा जी मेरे घर पर आ गए और मैंने जब उन्हे देखा तो मैंने उनका स्वागत किया | स्वागत करने के लिए मैंने कुछ मिटाई खरीदकर लाया था | मेरे जीजा जी के आने से पहेले मेरी सहेली भी आई हुई थी | अब मेरे घर पर महमानो की भीड़ थी | मुझे मालूम था की मेरे जीजा जी मुझे चोदने के लिए मेरे पापा के घर पर आये हुए है | एक दिन जब मेरे घर पर मेरे पापा और मैं बाहर गई हुई थी तब मेरे घर पर मेरी सहेली थी | तब मेरे जीजा जी ने मेरी सहेली को उस दिन चोदा था | मेरे जीजा ने मुझ से कहा की जब तुमारे पास फुर्सत का समय रहेगा तब हम लोग घुमने के लिए चलेंगे और तुम तुम्हारी सहेली को  साथ लेकर चलना | उस लड़की ने मुझे बताया की मेरे जीजा जी ने उसको कैसे चोदा था | मेरी सहेली एक महीने तक मेरे जीजा जी से चुदवाती रही | जब वो मेरे घर को छोडकर जाने वाली थी तब उसने एक दिन पहले मुझे बताया की मेरे जीजा जी उसको एक महीने तक मेरे घर पर चोदते रहे | उस लड़की ने मुझे बताया की मेरे जीजा जी जब घर पर कोई नही रहता था तब वो लड़की और मेरे जीजा जी घर पर रहा करते थे | उसके जीजा जी उसका मसाज किया करते थे | उस लड़की ने बताया की वो लड़की पूरी नंगी हो जाती थी ताकि वो उसके बदन की मसाज करवा सके |

वो नंगी हो कर बिस्तर पर लेट जाती थी तब उसके जीजा जी उसके बदन पर तेल लगाया करते थे | मेरे जीजा जी पहेले उसके पैर के ऊपर तेल लगाया करते थे फिर दूध पर तेल लगाया करते थे | दूध पर तेल लगाने के बाद वो मेरे दूध को मसला करते थे | उसके बाद जीजा जी मेरी चूत में तेल लगाया करते थे फिर वो तेल लगाने के बाद अपने हाथ की उंगली को मेरी चूत के अन्दर डालकर अन्दर बाहर करते थे | ये सिलसिला एक महीने तक चलता रहा | लेकिन अब उस लड़की को मेरे पापा के घर से लौटकर उसके शहर जाना था इसलिए वो उसके शहर लौटकर चली गयी | लेकिन जाते समय उस लड़की ने मुझे जो बताया उसे जानकर मुझे मालूम चला की मेरे जीजा जी के घर पर कोई नही होने पर क्या करते है | मेरी दीदी को मेरे जीजा जी के विषय में कुछ नही मालूम था | मेरी दीदी उस समय उसके ससुराल पर थी और मेरे जीजा जी मेरे पापा के घर गए थे | मेरे जीजा जी ने चालाकी अपनाई थी इसलिए उन्होने मेरी दीदी को उनके ससुराल पर छोड़ दिया था और वो मेरे पापा के घर मुझ से मिलने के लिए आये थे | वो जब मुझे चोद नही पाए तो उन्होने मेरी सहेली को पहले पटाया और मेरी सहेली को चोदो | उन्होने एक महीने तक मेरी सहेली को चोदो |

जब घर पर मेरी मामा और पापा रहा करते थे तब वो मुझ से हसी मजाक किया करते थे लेकिन उन्हे डर था की मेरे पापा उन्हे मुझे चोदते हुए पकड न ले इसलिए वो उस समय मुझे नही चोदते थे जब मेरे घर पर मेरे पापा और मम्मी घर पर रहा करती थी | जब कुछ महीने तक मेरे जीजा घर पर लौटकर नही आये तो मेरी दीदी मेरे पापा के घर आ गई और मेरे दीदी ने बताया की मेरे जीजा जी को काफी दिन हो चुके है मेरे पापा के घर पर रहते हुए | मेरी दीदी मेरे जीजा जी को लेने के लिए आई हुई थी | मेरी दीदी जब घर पर आ चुकी थी तब अपने जीजा जी से दूरी बनाया करती थी ताकि मेरे दीदी को कुछ मालूम न चल जाये | एक दिन मैं घर पर नही थी और अपनी किसी सहेली से मिलने के लिए गयी हुई थी तभी मेरे जीजा जी घर पर थे और मेरी दीदी भी घर पर थी | जिस समय मैं घर छोडकर गयी हुई थी तब मेरे घर मेरे पापा और मम्मी रुकी हुई थी | अपनी सहेली के घर पर कुछ समय तक रुकने के बाद और मेरी सहेली के घर भोजन खाने के बाद मैं घर लौटकर आई तब मैंने पाया की घर पर सिर्फ मेरी दीदी और जीजी जी के आलावा कोई नही है | लेकिन उस समय कुछ चल रहा था जैसे मेरे जीजा जी मेरी दीदी के होटो को चूम रहे थे | फिर कुछ समय के बाद उन्होने मेरी दीदी की साडी को खोला |

साडी को खोलने के बाद वो मेरी दीदी के दूध को पी रहे थे | दूध पीने के बाद मेरे जीजा जी ने मेरे दीदी के चूत को उनके हाथो से सहलाने लगे | कुछ समय के बाद उन्होने अपना लंड निकाला और मेरी दीदी ने उनका लंड चूसा | फिर मेरी दीदी ने उनकी गाड को मेरे जीजा जी के तरफ कर दिया | फिर मेरे जीजा जी उनकी चुदाई करने लगे | जीजा जी हस्ते हुए मेरी दीदी को चोद रहे थे | मेरे जीजा जी एक चालक बन्दे है जब उनको मौका मिलता था तब वो मुझे भी चोदा करते थे | लेकिन मेरी दीदी के आ जाने के कारण अब वो ऐसा नही कर पाते थे | मेरी दीदी कही बाहर नही जाती थी लेकिन जब वो ससुराल पर रहा करती थी तो कभी भी बाहर घुमने के लिए चली जाती थी लेकिन मेरे पापा के घर पर वो बाहर नही जाया करती थी | इसलिए जब मेरे जीजा जी मुझे नही चोद पाते थे तब वो मेरी दीदी को चोदा करते थे | कुछ महीने तक मेरे पापा के घर पर रहने के बाद मेरे जीजा जी उनके घर लौटकर चले गए | क्योकि मेरी दीदी उनको खास लेने के लिए मेरे पापा के घर पर आई हुई थी | मेरे जीजा जी ने जाता हुए मुझ से कहा की वो मुझ से मिलने के लिए फुर्सत में आ सकते है | मैंने भी उनको हस्ते हुए अलविदा दिया |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *