जवान लड़की

meri didi laila ki chudai

meri didi laila ki chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
नमस्ते दोस्तो, मैं रजत हूँ, मेरी उमर 18 साल है, पँजाब का रहने वाला हूँ। मेरे परिवार में हम कुल पाँच लोग हैं- पापा, मम्मी मेरी बड़ी बहन लैला, मैं और मेरी छोटी बहन रिमझिम ! लैला दीदी मुझसे सात साल बड़ी हैं और रिमझिम मुझसे 2 साल छोटी है। मम्मी, पापा दोनो केंद्र सरकार के महकमों में नौकरी करते हैं और अपनी नौकरी के सिलसिले में अकसर उनको दिल्ली या दूसरे शहरों में आना जाना पड़ता है। कभी-कभी तो दोनो एक ही समय शहर से बाहर होते हैं। दोस्तो, यहाँ मैं कुछ बातें स्पष्ट कर देना चाहता हूँ। पहली भले ही यह गाथा मेरी बहनों के बारे में है परन्तु यह पारिवारिक यौन गाथा नहीं है। दूसरे यह कोई कहानी नहीं है बल्कि आपको मैं वो बताने जा रहा हूँ जो मैंने बहुत बार अपनी आँखों देखा है। बात तब की है जब लैला दीदी 18 साल की नवयौवना हो चुकी थी। बला की खूबसूरत तो लैला दीदी थी ही, ऊपर से कुदरत ने दीदी को यौवन के कटाव औ
payal ki chudai ki kahani

payal ki chudai ki kahani


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मुझसे मिलने की इच्छा जताई। सामान्यत: मैंने इनसे पूछा- आप कहाँ रहती हैं? इन्होंने जवाब दिया- गुजरात में सूरत। मैंने खुद के नौकरी पेशा व शादीशुदा होने की बात कहते हुए आना थोड़ा मुश्किल बताया। इसके बाद हमारे बीच सामान्य बातें होती रहीं। अब तकरीबन रोज ही उनका मेल आ जाता था, जिसका उचित जवाब मैं दे दिया करता था। मेरी पत्नी स्नेहा भी अक्सर मेरी आईडी पर बैठकर मुझे आए मेल का जवाब दे दिया करती है। इसी बीच एक बार जब मैं ड्यूटी गया हुआ था, स्नेहा ने मेरे याहू मेल व मैसेंजर की आईडी खोलकर सभी मेल का जवाब दिए और तब पायल, मैसेंजर पर ऑनलाइन थी। उसने यह मैं हूँ सोचकर बात करना शुरू कर दी, यही कि मेरे साथ सैक्स करने कब आ रहे हो… आदि… आदि। स्नेहा उसको ‘जवाहर’ बनकर जवाब देती रही, फिर उसके मन में पायल के बारे में जानकारी लेने की इच्छा जागी। तो उसने पायल से पूछताछ शुरू कर दी। पायल और स्नेहा के बीच जो
padosan ki ladki ki chudai kahani

padosan ki ladki ki chudai kahani


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
यारे दोस्तो, मेरा नाम वीरू, बीस साल का हूँ। मैं कॉलेज के प्रथम वर्ष में हूँ। मैं एक मध्यवर्गीय परिवार से हूँ। मैं शर्मीले स्वभाव का सीधा सा दिखने वाला लड़का हूँ, राजस्थान के श्री गंगानगर में रहता हूँ। मैं आपको अपनी पड़ोसन जिया के साथ हुए पहला अनुभव बताने जा रहा हूँ। वह 18 साल की एक ख़ूबसूरत और गोरी-चिट्टी लड़की है, उसकी चूचियाँ इतनी मदमस्त कर देने वाली हैं कि किसी का भी लण्ड खड़ा हो जाए। मेरा और उसका घर एक दम साथ-साथ था। मेरे को वो बहुत अच्छी लगती थी। पर मैं उससे कभी बात नहीं कर पाया, मेरा मन बहुत करता था उससे बात करने का और उसको पटाने का, पर यह कैसे होगा समझ नहीं आता था। मेरे को एक आईडिया आया, उसका एक छोटा भाई था राहुल। मैंने उसको पटाने की सोची, अगर इसको पटा लिया तो जिया को पटाना आसान हो जायेगा। इसलिए मैं जिया के भाई को पटाने लगा और उसके साथ खेल खेलने लगा। उसको अपने घर पर बुला कर पीस
Ghar mai Akeli Aditi Ki Chudai

Ghar mai Akeli Aditi Ki Chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  बात तबकी है जब मैं बारहवीं में था, क्यूंकि मैं एक प्राइवेट स्कूल में था तो वहाँ बहुत आजाद ख्यालों वाले बच्चे ही ज्यादा थे। हमारी कक्षा में एक लड़की थी अदिति। मैं मन ही मन उसे चाहता था पर यह नहीं जानता था कि वो भी मुझे उतना ही चाहती है। यह बात मुझे उसकी एक दोस्त से पता चली तो मैंने भी समय न बर्बाद करते हुए उससे अपने प्यार का इजहार कर दिया। उसने भी तुरंत ही हाँ कर दी। अब हम मिलने लगे एक दूसरे से, फ़ोन पर घंटों बात होने लगी, अगले छः महीनों में हम दोनों एक दूसरे के पास आ गए थे। हमारी बोर्ड की परीक्षाएँ जब खत्म हुई तो हम लोगों का मिलना जुलना बढ़ गया। एक दिन उसने बताया कि वो दो दिन के लिए घर में अकेली है और उसने मुझे अपने घर बुलाया। जब मैं उसके घर पहुँचा तो उसने एक नीले रंग का टॉप और काले रंग की जींस पहनी हुई थी, वो इतनी सुन्दर लग रही थी कि मैं क्या बताऊँ। हम दोनों एक
Raseela saaliya chudai kahani

Raseela saaliya chudai kahani


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  रवि की शादी हुए 2 साल हो चुके थे . रीमा नाम है उसकी बीबी का . रवि का गारमेंट बनाने की फैक्ट्री है . उसके कारखाने मे बनाये हुए लेडीज़ नाईटी बहुत पोपुलर है . काफी सेक्सी नाईटी बनाता है . कभी कभी अपनी फैक्ट्री की बनी हुई नाईटी को और काट छांट कर अपनी बीबी रीमा के लिए घर ले कर आ जाता था . रीमा के गोरे और सुंदर बदन पर यह नाईटी काफी सेक्सी लगाती थी . उसके बदन पर नाईटी से ज्यादा उसका बदन झलकता था . रवि भी चाहता था की रीमा जब रात को रूम मे आए तो उसके मखमली बदन को देखने के लिए ज्यादा तडपना न पड़े . उसकी गोरी चिट्टी चुचिया उसकी नाईटी से झलक पड़ती थी . उसे देखकर रवि का लंड फन फना जाता था..और लंड उसके बदन से नाईटी के उतरनेका इंतज़ार करता था. रवि कभी भी कंडोम नही लगाता था और इसीलिये सुहागरात को ही रीमा गर्भवती हो गई थी…उसके बाद उसे मासिक ही नही हुआ.रीमा प्रेगनेंट है और उसकी डिलिवरी का टाइम आ च
pinki ki blue film part 1

pinki ki blue film part 1


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  दोस्तों मैं यानि आपका दोस्त एक और नई कहानी लेकर हाजिर हूँ मेरा नाम पिंकी है. में सौथेर्न देल्ही में अपने मम्मी पापा के साथ रहती हूँ. मेरी उम्र 19 साल है, गोरा बदन, काले लंबे बाल, 5″4 की हाइट और मेरी आँखों का रंग भूरा है. एक दिन में अपनी सहेलियों के साथ शूपिंग कर घर पहुँची. अपने कमरे में पहुँच मेने अपनी मेज़ की दाराज़ खोली तो पाया कि मेरी ब्लू रंग की पॅंटी वहाँ रखी हुई थी. मेने कभी अपनी पॅंटी वहाँ रखी हो ये मुझे याद नही आ रहा था. इतने में में कदमों की आवाज़ मेरे कमरे की और बढ़ते सुनी, मेरी समझ में नही आया की में क्या करूँ. में दौड़ कर अलमारी जा छुपी. देखती हूँ कि मेरा छोटा भाई अरुण जो 18 साल का है अपने दोस्त जे के साथ मेरे कमरे में दाखिल हुआ. “पिंकी ” अरुण ने आवाज़ लगाई. में चुप चुप चाप अलमारी छुपी उनको देख रही थी. “अच्छा है वो घर पर नही है. जे में पहली और आखरी बार ये सब तुम
kamini didi ki pyas

kamini didi ki pyas


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
हेलो दोस्तों मेरा नाम सागर है, अभी मेरी उम्र २० साल है और मैंने इंजीनियरिंग का कोर्स ज्वाइन किया है दिल्ली में. दिल्ली में ही मेरी कामिनी दीदी भी रहती है. इसलिए मैं दीदी के घर पर ही रहता हूँ और कॉलेज वही से जाता हूँ. दोस्तों मेरी दीदी अपने नाम की ही तरह काम की देवी है. दीदी की उम्र ३० साल है और फिगर ३८-३०-४० है. बड़े बड़े फुटबॉल की जैसी भारी चूचियां, पतली कमर और चौड़ी गदरायी हुई गांड दीदी की जवानी बयां करते है. उनकी थिरकती मटकती हुई मोटे चुत्तड़ किसी का भी लंड खड़ा कर सकती है और उनकी दूध से भरे हुए भारी स्तन कयामत ढाती है. मेरे जीजाजी उम्र में दीदी से काफी बड़े है, उनकी उम्र ४५ साल है. जीजाजी काफी अमीर है इसलिए मेरे घरवालों ने दीदी की शादी करवा दी. उस समय मैं काफी छोटा था. पर जब मैं उनलोगो के साथ रहने लगा तो पाया की दीदी काफी दुखी रहती है. मैंने एक बार दीदी से पूछा भी मैं: दीदी आप
muslim bhai ne apni behen ko choda

muslim bhai ne apni behen ko choda


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  मेरे निकाह को अब कोई एक महिना बीत चूका था. मेरा पति अब्दुल दिन मे तीन तीन बार मेरी चुदाई कर देता था. मेरे अन्दर भी लंड की भूख बहुत बढ़ गयी थी. मेरे हाथ अब अब्दुल के लंड से दूर नहीं रह पाते. हम जब भी अकेले होते तो मैं उसका लंड अपनी मुठी मे ले लेती और उसके सुपारे को दबा दबा कर मज़े लेती. अब्दुल भी मेरे हुस्न का दीवाना बन गया था. वो अक्सर मुझे किचिन में ही पीछे से आ कर दबोच लेता और मेरी चुचिओं को दबा देता. मैं उसके लंड को जोर से पकड़ लेती तो एक बार वो बोला? हमी, साली तू बड़ी छिनाल हो गयी है, तेरा कभी लंड लेने से मन नहीं ऊब जाता, हर वक़्त मेरे लंड की प्यासी रहती है मेरी चुदास बीवी, कभी तो दिल करता है के यहीं रसोई में ही चोद दूं, पैर डर लगता है कही फटी न आ जाये, चल मेरे लंड को चूस डाल जल्दी से.? मैंने उसके लंड को पजामे से निकाल कर अपने होंठ रख दिए और उसकी सांसें तेज़ हो गयी. मैं उसक
station pe jawan ladki ki chudai

station pe jawan ladki ki chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
आप सभी की मेल पढ़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा और उसी के चलते आज मैं अपनी एक और कहानी लिख रही हूँ. अपने मेरी पुरानी कहानियो को बहुत प्यार दिया और मुझे बहुत सरहा, उसके लिए बहुत सारा थैंक्स. तो आते है उस नई हसीन दास्तान पर.आशा करती हूँ, आप लोगों को यह कहानी पसंद आएगी. “यह एक काल्पनिक कहानी है, इस कहानी के सभी पात्र काल्पनिक हैं और किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति से इस कहानी का कोई लेना देना नहीं है, जगह का नाम, या कोई पदवी अत: सब काल्पनिक हैं | किसी के साथ यह दुर्घटना असली जिन्दगी में हुई है तो हमें खेद है ” मैने कोल्हापुर स्टेशन ( अहमदाबाद ) से ट्रेन ली, करीबन रात के 11 बजे थे, मेरी 2एसी मे वेटिंग थी, टीटी से सेट्टिंग किया उसको 500 पकड़ाए तो उसने मेरी फर्स्ट एसी मे करवा दी बोलके की एक सीट खाली है, जाके सो जाना. जब मैं पोहोचा तो मेरे होश उड़ गये, फर्स्ट एसी हमेशा एक कॅबिन की तरह होता है, मैं
pados ki ladki ke sath chudai part 2

pados ki ladki ke sath chudai part 2


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
गौसिया स्खलित होने के बाद सनसनाते दिमाग के साथ बेजान सी पड़ गई जैसे बेहोश हो गई हो। मैं भी थक गया था तो मैं भ उसकी बगल में लेट कर अपनी साँसें दुरुस्त करने लगा। करीब पांच मिनट बाद उसने आँखें खोलीं और मुझे बड़े अनुराग से देखने लगी। ‘क्या वाकई हर बार इतना मज़ा आता है।’ उसके स्वर में अविश्वास सा था। ‘इससे ज्यादा- उंगली की जगह अगर पेनिस हो तो इससे लगभग दोगुना!’ उसने एक ‘आह’ सी भरते हुए आँखें बंद कर लीं। कुछ पल तक कुछ सोचती रही, फिर आँखें खोल कर मुझे देखने लगी- क्या लड़की ऐसे ही डिस्चार्ज होती है… मतलब ऐसे ही स्क्वरटिंग करते हुए? ‘नहीं, ऐसा रेयर ही होता है या जानबूझकर किया जाए। मतलब जब यूरीन ब्लेडर भरा हो और सहवास किया जाए तो स्खलन के वक़्त वेजाइनल मसल्स से कंट्रोल हट जाता है… तब ऐसे होता है। ऐसा आम कंडीशन में होने लगे तो समझो कि हर सेक्स के बाद बिस्तर की हालत खराब हो जाए। यह रस नहीं था