सामूहिक चुदाई

goa mai videshi ladki ke group sex

goa mai videshi ladki ke group sex


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
हैलो फ्रेंड्स, मैं जेसिका क्लार्क (बदला हुआ नाम) एक बार फिर उपस्थित हूँ नई कहानी के साथ! पर उसके पहले मैं आपसे कुछ बोलना चाहती हूँ, वो यह है कि कहानी को पढ़ने के बाद बहुत सारे लोग मुझसे मेरा मोबाइल नम्बर, व्हाट्सऐप नम्बर, फ़ोटो, मांगते हैं, जो मुझे अच्छा नहीं लगता, तो प्लीज कोई भी मुझसे ये सब न मांगें, और कोई पर्सनल जानकारी भी न मांगें क्योंकि कहानी सिर्फ मनोरंजन के लिखी है, किसी के साथ सेक्स सम्बन्ध बनाने के लिये नहीं. मैं मेरी निजी सेक्स लाइफ में बहुत खुश हूँ. अब मैं कहानी पर आती हूँ! बात अभी 3-4 दिनों पहले की है. मेरी सहेली रानी (बदला हुआ नाम) अपने घर गई तो मैं अकेली रह गई. मैं परीक्षित के पास गई, वो कुछ काम में व्यस्त थे और चिंटू भी कहीं पर व्यस्त थे. ऐसा नहीं है कि मुझे बुरा लग रहा था. पर रानी भी 15 दिनों के बाद आने वाली थी तो उससे मेरी फोन पर बातें हो रही थी. 2-3 दिन उसी त
Cousin Sister Ki Randi Saheli

Cousin Sister Ki Randi Saheli


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  हाय मैं चंदन आपने तो मेरी इंडियन सेक्स स्टोरीस “कज़िन सिस्टर ने जन्नत सैर करवाई” पढ़ी होगी ये 2न्ड पार्ट है. जब मालती और उसकी सहेली मज़ाक कर के चले गये तो मैं उठ के बाथरूम मे ब्रश कर रहा था अचानक मुझे रात का सारी बात याद आ गयी और मेरा लंड खड़ा होने लगा क्या करू कुछ समझ मे नही आ रहा था. मैने देखा की बाथरूम मे मालती का पैंटी और ब्रा रखा हुआ है साफ करने के लिए मैने उसका पैंटी को सूंघने लगा मस्त स्मेल आ रहा था मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया और मैं मूठ मारने लगा. 10 मिनट मूठ मारने के बाद मेरा निकल ने ही वाला था की बुआ ने बाथरूम का डोर खोल दिया मैं इतना पागल था की डोर अंदर से क्लोज़ करना भूल गया था इधर बुआ डोर खोली उधर मेरा माल निकल गया वो कुछ सेकेंड के लिए देख रही थी और झट से डोर क्लोज़ कर दिया मुझे बुरा लग रहा था फिर मैने अपना काम करके बाहर आया. तो बुआ बोली क्या हो रहा था अंदर
Do Lund Se Wife ki Chut Chudai

Do Lund Se Wife ki Chut Chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
पहले मैं अपने नए पाठकों को अपने बारे में बता दूँ कि मैं अमन, मेरी वाइफ अनिता 28 साल की है. मेरी वाइफ का साइज़ बड़ा ही मस्त है. उसकी चुचियां 32 इंच की हैं, कमर 26 इंच की और गांड 32 इंच की है. उसकी बॉडी एकदम स्लिम है… उसका कलर मीडियम है. मेरी बीवी में कामवासना बहुत अधिक है. हम दोनों दिल्ली से हैं. मैं एक प्राइवेट फर्म में जॉब करता हूँ. यह अभी कुछ दिन पहले की कहानी है. एक दिन मेरी वाइफ मेरे फ्रेंड से चुदवा रही थी तो वो मेरे फ्रेंड से बोली- मुझे 2 लंड एक साथ अपनी चुत में लेने हैं. तो मेरा फ्रेंड बोला- ठीक है… मैं और आपका हज़्बेंड है ना. ये सुनकर मेरी वाइफ बोली- नहीं उनका नहीं, कोई तुम्हारा फ्रेंड हो जिसका लंड भी तुम्हारे जैसा लंबा मोटा हो तो उसको बुला लो. ये सुनकर मेरा फ्रेंड बोला- ऐसा लंड तो ढूंढना पड़ेगा. मेरी वाइफ बोली- ठीक है, जल्दी पता करना. मेरा फ्रेंड झटका मारता हुआ बोला- ठी
muslim chudai kahani ham teen

muslim chudai kahani ham teen


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
muslim chudai kahani ham teen मेरे निकाह को अब कोई एक महिना बीत चूका था. मेरा पति अब्दुल दिन मे तीन तीन बार मेरी चुदाई कर देता था. मेरे अन्दर भी लंड की भूख बहुत बढ़ गयी थी. मेरे हाथ अब अब्दुल के लंड से दूर नहीं रह पाते. हम जब भी अकेले होते तो मैं उसका लंड अपनी मुठी मे ले लेती और उसके सुपारे को दबा दबा कर मज़े लेती. अब्दुल भी मेरे हुस्न का दीवाना बन गया था. वो अक्सर मुझे किचिन में ही पीछे से आ कर दबोच लेता और मेरी चुचिओं को दबा देता. मैं उसके लंड को जोर से पकड़ लेती तो एक बार वो बोला? हमी, साली तू बड़ी छिनाल हो गयी है, तेरा कभी लंड लेने से मन नहीं ऊब जाता, हर वक़्त मेरे लंड की प्यासी रहती है मेरी चुदास बीवी, कभी तो दिल करता है के यहीं रसोई में ही चोद दूं, पैर डर लगता है कही फटी न आ जाये, चल मेरे लंड को चूस डाल जल्दी से.? मैंने उसके लंड को पजामे से निकाल कर अपने होंठ रख दिए और उसकी सांसें ते
rashmi or gudiya ki kamukta

rashmi or gudiya ki kamukta


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
rashmi or gudiya ki chudai दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा एक और नई कहानी लेकर हाजिर हूँ दोस्तो ये कहानी एक काल्पनिक कहानी है इसमे दिखाए गई घटना संयोग मात्र कही और हो सकती है ये कहानी एक पाशुविक बलात्कार की कहानी है दोस्तो वैसे तो ऐसी कहानी नही पढ़नी चाहिए लेकिन मैं इसे सिर्फ़ मनोरंजन के लिए आपको पढ़ने के लिए दे रहा हूँ दोस्तो इसे सिर्फ़ मनोरंजन की नज़र से ही देखे अब आगे………………………….. मेरे पड़ोस मे एक लड़की रहती है जिसका नाम गुड़िया है उनके घर मे उसके 2 भाई ओर एक बेहन है. उसकी बेहन का नाम रश्मि है ओर वो 1स्टएअर मे पढ़ती है जबकि गुड़िया ग्रॅजुयेशन के फाइनल एअर मे पढ़ रही है. गुड़िया की एज लगभग 21 साल ओर उसकी बेहन की एज 19 साल की है. उसके दोनो भाई बाहर पढ़ते है ओर उसके पापा की टूरिंग की जॉब है वो हफ्ते मे 3-4 दिन टूर पे रहते है. उसकी मोम हाउसवाइफ है ओर उनका हमारे घर काफ़ी आना जाना है
शीला आंटी और उनकी दो बेटियाँ 2

शीला आंटी और उनकी दो बेटियाँ 2


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
गतान्क से आगे…………. ……शीला आंटी और उनकी दो बेटियाँ – 1 मुझे अपना सारा शरीर तड़पता हुआ लगा और शीला आंटी ने मुझे इतना कसकर दबाया कि मेरे मुंह से भी आह और सिसकी निकल गई. अचानक ही शीला आंटी का शरीर बिन पानी की मछली की तरह कांपने लगा था. हम दोनों ने एक दूजे को बहुत कसकर दबा दिया और बेतहाशा एक दूजे के होठों को जोर जोर से चूसने लगे. कुछ ही सेकण्ड के बाद जैसे सब कुछ शांत हो गया. हम दोनों के शरीर बेजान हो गए. हम दोनों के शरीर के निचले हिस्से पूरी तरह से हिलाने डुलने बंद हो गए थे लेकिन शीला आंटी अब भी मेरे होठों को चुसे जा रही थी. हम दोनों के पुरे शरीर पर ढेर सारा पसीना आ गया था. शीला आंटी और मेरी छातीयों के बीच पसीना इतना अधिक हो गया था कि गीलेपन का अहसास बहुत आसानी से हो रहा था और हमारी छातीयाँ बार बार आपस में रगड़कर फिसल रही थी. लगभग दो मिनट के बाद शीला आंटी के होंठ भी हिलने बंद हो गए, अब भी
चचेरी और फुफेरी बहन की सील तोड़ी 2

चचेरी और फुफेरी बहन की सील तोड़ी 2


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  गतान्क से आगे………….. चचेरी और फुफेरी बहन की सील तोड़ी मेरे दिमाग में घंटी बजी ! तभी डॉली जल्दी से उठ कर बाथरूम के अन्दर चली गई और दरवाजा बंद कर लिया, तो मैंने ललिता से मौका देख कर पूछा तो उसने मुस्कराते हुए बताया कि डॉली को पीरियड आ गया, चूँकि उसको डेट याद नहीं रही, तो पैड वगैरह नहीं थे, इसी लिए हम लोग अपनी क्लास टीचर से जल्दी छुट्टी लेकर घर आ गए। अब बात मेरे समझ में आई। मुझे यह बताने के बाद ललिता अन्दर कमरे में गई और अपनी एक ड्रेस और चुनमूनियाँ में पीरियड के समय लगाने वाला पैड (मुझे दिखाते हुए) लेकर बाथरूम के बाहर लेकर दरवाजे पर दस्तक दी। जिसको कि डॉली ने हाथ निकाल कर ले लिया। मैंने तुरंत अपना दिमाग लगाया और ललिता को वापस आते ही अपनी बाँहों में भर लिया और उसके प्यारे चेहरे पर अनगिनत चुम्मी कर डालीं। ललिता ने भी उसी तरह से उत्तर दिया। फिर मैंने उसकी आँखों में देखा और
Chudai Sex kahani Three in one Hindi Sex Stories

Chudai Sex kahani Three in one Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
Chudai Sex kahani Three in one मेरी उमर 35 साल की है. मेरा बदन एक दम गथीला है और मेरी लंबाई 5′ 6″ है. मेरा कॉक 7″ लंबा काफ़ी मोटा है. ये उस समय की बात है जब मैं अपने भैया के ससुराल गया था. मैं उस समय 20 साल का था. मेरे भैया की दो सालियाँ थी, जया और प्रेमा. जया 19 साल की और प्रेमा 18 साल की थी. मैं पहले भी काई बार भैया के ससुराल जा चुका था. प्रेमा बहुत ही चंचल थी लेकिन जया उस से भी बढ़ कर चंचल थी. वो मुझसे बहुत मज़ाक करती थी. जया ने काई बार मज़ाक मज़ाक में मेरे गालों को काट भी लिया था. एक दिन उन दोनो ने कहा कि जीजू चलो आज पिक्चर देखने चलते हैं. मैं कहा ठीक है. पिक्चर हाल वहाँ से बहुत दूर था. हमे मतनी शो देखना था. इसलिए हम तीनो पिक्चर देखने के लिए 2 बजे पर ही घर से निकल गये. मैने एक ऑटो लिया. हम ऑटो में बैठे तो जया और प्रेमा बहुत मुस्कुरा रही थी. मैने पूचछा की क्या बात है तुम दोनो बहुत
साली एक लड़की ने पूरी फॅमिली चुदवाइ 2 Hindi Sex Stories

साली एक लड़की ने पूरी फॅमिली चुदवाइ 2 Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  Hindi Sex kahaniya गतान्क से आगे……………………साली एक लड़की ने पूरी फॅमिली चुदवाइ – 1फिर बाजी ने थोड़ा झुक कर लंड को ज़ुबान से टच किया और मे ठंडक के उस अहसास से और भी गरम हो गया, फिर बाजी ने पहले लंड का टॉप और आहिस्ता आहिस्ता आधा लंड अपने मुँह मे ले कर चूसना शुरू कर दिया, मे एक ही वीक मे अपनी दूसरी बहेन को चोदने वाला था, फिर बाजी ने ज़ोर ज़ोर से और आगे तक लंड चूसा और मुझे अंदाज़ा होगया कि वो पहली बार नही चूस रही बल्कि ज़ुल्फी का भी चूस चुकी हैं. जो कि बाद मे उन्हों ने बताया भी, फिर मे काफ़ी नज़दीक आ गया था छूटने के और मे ने बाजी को हटाया और उन को लेटा कर उन की लेग्स के बीच आ गया और मुझे एक अजीब सी स्मेल उन की चूत से आती महसूस हुई जो कि कुछ तेज थी शबनम और आसिया की चूतो से, शायद या उमर की वजह से था मे ने बाजी की चूत के बाल हटा कर चूत के लिप्स खोले ज़ुबान से टच किया चूत के बीच बाजी न
Sali ek ladki ne puri family chudai • Hindi Sex Stories

Sali ek ladki ne puri family chudai • Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  Chudai ki kahaniya ये तब की बात है जब शबनम हमारे घर रहने के लिए आई, घर का महॉल काफ़ी ख़ुशगवार हो गया था वो थी भी कुछ ऐसी कि उस से मिल कर खुशी होती थी मासूम सी सूरत गोरे चेहरे पर बड़ी बड़ी काली आँखे,और कमर तक लंबे बाल हां मगेर शायद मासूम नज़र आने वाले लोग इतने मासूम होते नही. वो मेरे मामा की बेटी थी और कॉलेज मे पढ़ने के लिए लाहोर आई थी और मोम ने उस को हॉस्टिल मे नहीं रहने दिया और इस तरहा वो हमारे घर मे रहने लगी, हम लोग घर मे 6 लोग थे… डॅड,मोम,असद भाई,शाज़िया बाजी मैं और सब से छोटी आसिया . शबनम और आसिया हम उमर थीं और दोस्त भी इसलिए मोम ने शबनम को आसिया के रूम मे शिफ्ट कर दिया और शाज़िया बाजी मेरे रूम मे आ गई.मुझे कुछ ऐतराज़ नहीं था क्यों कि मेरी शाज़िया बाजी से बनती थी और वो मेरा बहुत ख़याल रखती थीं. शबनम मुझे पसंद थी लेकिन मुझे लगता था वो असद भाई को पसंद करती थी क्यों कि व