हिंदी सेक्स कहानियाँ

Sambhog Sex Kahani Ek Khawish

Sambhog Sex Kahani Ek Khawish


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  सभी की तरह मेरी भी ख्वाहिश है कि ऐसी कोई तो मिले जो सेक्स में कभी ना न कहे और पूरे पल को पूरे एहसास के साथ जिए। सच कहूँ तो मुझे आज तक ऐसी कोई मिली नहीं, कभी कभी तो लगता है ऐसी कोई है ही नहीं जो निशांत को शांत कर सके। एक बार तो तीन लड़कियों के साथ भी कोशिश की पर नहीं दूसरे ही दिन तीनों मुझे पास भी आने नहीं दे रही थी। खैर जो भी हो मेरी दुआ है कि आप सभी की ख्वाहिशें पूरी हों.. अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ। यह कहानी है मेरी और शोना की। जब मेरी कहानी ‘प्रेम अध्याय की शुरुआत’ का प्रकाशन हुआ तब एक कन्या ने मुझसे फेसबुक पर संपर्क किया। मेरे दिल के तार भी बजने लगे। मैंने उससे बात शुरू की वो किसी मेडिकल कॉलेज की छात्रा थी। हमारा संवाद कुछ इस प्रकार हुआ.. शोना- मेरा नाम शोना(बदला हुआ) है, मैं मेडिकल की छात्रा हूँ आपकी बहुत बड़ी प्रशंसक हूँ। आप अपने बारे में बतायें, आपकी उम्र और आप क्य
Sex Kahani Jannat ka Safar

Sex Kahani Jannat ka Safar


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरे परिवार में सिर्फ मैं और मेरी मम्मी दोनों भारत में रहते थे और एक बड़ा भाई जो कई सालों से केन्या में सेटल है। कॉलेज छुट जाने के बाद मैं घर में अकेली बोर हो जाती थी तो भाई की अनुमति लेकर हुंडई कार के शो-रूम में जॉब ले लिया। मेरा काम था नए ग्राहक को कार बेचना। वैसे हमारा घर का खर्च भाई के भेजे पैसों से ही चलता था, लेकिन भाभी का स्वभाव थोड़ा ठीक नहीं है इसलिए बहुत कम पैसे आते थे तो मैं अपनी लाइफ स्टाइल को पूरी तरह से एंजॉय नहीं कर पाती थी। मुझे होटल में खाना–पीना घूमना, थियेटर में मूवी देखना बहुत पसंद है। एक दिन शाम के वक़्त मैं स्किन टाइट जीन्स और सफ़ेद शर्ट पहन कर अपने केबिन में बैठी थी। तभी शोरूम में एक बिजनेसमैन आया। उनकी उम्र कुछ 40-42 की होगी, सूट पहना हुआ था, काफी अमीर दिखते थे। मैंने उनका स्वागत किया और कार के बारे में बताना शुरू किया। जब मैं उनको कार के बारे में बता रही थी
bhaiya to chusne nhi dete

bhaiya to chusne nhi dete


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
भैया की नई नई शादी हुई थी, हम सब बहुत खुश थे क्योंकि भाभी बहुत ही खुश मिजाज हैं। शादी के कुछ महीनों बाद हमारे माता पिता को किसी काम से आठ दस दिन के लिए कहीं जाना पड़ा, सो घर में हम तीनों ही रह गए। उस पर भैया को एक दिन ऑफिस के काम से जाना पड़ा। उस दिन घर में हम दोनों अकेले थे, सो भाभी से कहा- भाभी, कहाँ अकेले मेरे लिए खाना बनाओगी ! चलो कहीं बाहर घूम आते हैं, आपका दिल भी बहल जायेगा और बाहर से खाना भी खा आयेंगे। तो भाभी झट से मान गई। हाँ ! मेरी भाभी की उम्र 26 साल कद 5’3″ रंग गोरा और फिगर 36/28/34 है। उसने जींस और टॉप पहना और हम मूवी देखने गए। हमने मूवी देखी। मूवी थोड़ी रोमांटिक थी सो मुझे कुछ अलग महसूस हो रहा था। हम ने खाना पैक करवाया और सोचा घर जाकर खायेंगे। खाना पैक करवा के घर आ गए और मैं भाभी से बोला- आप कपड़े बदल लो, फिर खाना खाते हैं। भाभी ने अपनी नाईट ड्रेस पहन ली। ड्रेस पारदर्शक
Mastram Kahani jhalak ki pahli jhalak

Mastram Kahani jhalak ki pahli jhalak


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मैंने अहमदाबाद में नया रेस्तराँ खोला था जहाँ पर वो आया करती थी। उसकीउम्र करीब 19 साल के रही होगी और वो एक छरहरे बदन वाली पतली और लम्बी सीलड़की थी। वो हमेशा बहुत उदास लगती थी और बड़ी मुश्किल से उसके चेहरे परहंसी देखने मिलती थी।एक दिन वो अकेली ही आई और रोने लगी तो मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसके पासगया। मैंने उससे उसका नाम पूछा और उसके रोने की वजह भी। तब तक मेरे मन मेंउसके लिए कोई सेक्स के विचार नहीं थे. मैं तो बस इंसानियत के नाते ही उसकीमायूसी की वजह पूछने यूं ही उसके पास चला गया था। मेरे पूछने पर उसने अपनानाम झलक बताया और वो मुझसे लिपट कर रोने लगी। मैंने उसे तब तो दूर हटा दियालेकिन फ़िर उसे बाहर बुलाकर अपनी गाड़ी में बिठाकर उसके रोने की वजह पूछी तोउसने बताया कि किसी जॉनी नाम के लड़के ने उसका दिल दुखाया था जिससे वो कभीबहुत प्यार करती थी। जबकि वो लड़का अब दूसरी लड़की के साथ घूम रहा है। जोउसस
kamukta Bhaji wale ko seduce kia

kamukta Bhaji wale ko seduce kia


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मैं शेला, 5.3”. 40-34-40 का पुष्ट जिस्म, पति ज़्यादातर बाहर रहते हैं, पर मेरा हट्टाकट्टा नौकर शामू मेरे घर में ही रहता है, सो मैं अपने नौकर शामू से चुदवाकर मस्त रहती हूँ। आजकल भी पति बाहर गये हुए हैं पर इसी समय इस हरामखोर शामू को भी गाँव जाना था सो शामू गाँव चला गया और मैं घर में अकेली पड़ गयी । सो मैं नाइटी पहनकर अपने कमरे में पड़ी इस दोपहरी में अकेले अपनी चूत में उंगली कर रही थी और मन ही मन शामू को गालियाँ भी दे रही थी कि इसी समय इस हरामखोर को भी गाँव जाना था वरना साला इस समय इसी बिस्तर पर मेरे साथ मजे कर रहा होता। तभी नीचे से भाजी वाले की आवाज़ सुनी, सो मैं ने भाजी लेने के लिए उसे ऊपर ही बुला लिया । मैंने देखा, भाजीवाला 50 साल का पर बड़ा हट्टाकट्टा अधेड़ था और चोरी चोरी मेरे सीने के उभारों को को घूर रहा था. नाइटी के 2 बटन खुले थे जिससे उसे अंदर की ब्रा दिख रही थी तभी मैंने नाइटी ठी
mastaram kahani raj ki baat

mastaram kahani raj ki baat


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरे गांव में स्कूल नहीं था सो मैं पास के शहर में अपनी एक चाची के पास रह कर पढ़ता था। मेरी चाची बहुत ही सेक्सी है. मैं जब 15 साल का था तभी से वो मुझसे चुदाने लगी थी। वैसे वे बचपन से मेरे लण्ड की खूब मालिश करते हुए हमेशा बोला करती थी कि मैं नहीं चाहती की तेरा लण्ड कहीं तेरे बाप दादों की तरह छोटा रह जाये पर मेरे दोस्त कहते कि जरूर तेरे बाप का तेरा लण्ड बहुत बड़ा होगा तभी तेरा लण्ड के कारण इतना लंबा और मोटा होगा. पर मेरी चाची हमेशा कहती की बाप दादों में किसी का लण्ड 5 1/2 इंच से ज्यादा नहीं था। मैं कुछ समझ नही पा रहा था। सो एक दिन जब मैं चाची के पास लेटा उनकी दूध सी सफ़ेद बड़ी चूचियाँ दबा कर उन्हें चुदाई के लिए गरम कर रहा था, मैंने उत्सुक हो अपनी चाची से पूछ ही लिया,- “चाची मेरे दोस्त कहते हैं की तेरा लण्ड ज़रूर तेरे बाप की वजह से इतना लंबा और मोटा होगा. पर आप तो कहती हैं की मेरे पूरे ख
yaa to aaj phir kabhi nahi

yaa to aaj phir kabhi nahi


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मामा ने पूछ, रात केसी गुर्जरी, नींद अच्छी से आयी य नहिन. yaa to aaj phir kabhi nahi – 1 मैंने कहा, जबरदस्त, ऐसी मुबारक रात सब को मिले. यह सुन कर सब ही मुस्कुरने लगे. भाई ने पूछा, सम ! तैराकी अच्छी से सीख ली न. मैंने जवाब दिया, बहुत कुछ सीख लिया. हम लोग घर पहुँच गये और मामा हम लोगोन को छोड़ कर अपने घर चले गये. उन्हें जाते हुए देख कर मैंने मुस्कुर कर शुक्रिया अदा किया और वोह मुस्क्रथे हुए चल्ले गये. मैं दिल में सोच रही थी कि अब अगली बार मामा से किस तरह मज लुंगी और अब तो कोई मुश्किल भी नहीं. मैं अपने कमरे में चली गयी और शोवेर लेकर सो गयी. सरी रात तो जगी थी. मैं ने तो फार्म हाउस में अपनी जिन्दगी की सब से सोहानी रात गुजरी थी. शाम को सो कर उठी और भाभी के कमरे में चली गयी. वोह भी अभी सो कर उठी थी. शायद उन्होने ने भी भाई के साथ फार्म हाउस का लुत्फ उथाय था. भाईया शोवेर ले रहे थे
Meri bhabhi ki sister – Indian Sex Stories

Meri bhabhi ki sister – Indian Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
Meri bhabhi ki sister Hii frds my name is sunny mai himachal se hu my personality is average mai ye nahi bolu ga k mai bhut smart hu but ldkia mere sath jldi set ho jati h pata nhi kyu mai aj kl ropar and chandigarh jada rhta hu because of my job mera Lund ka size 6′ hai Chlo ab mai story pe aata hu yeh meri first story h on this site but scchi hai jiski heroine meri apni bhabi ki sister h story 2 saal purani h jb mere bhai ki nai nai shadi hui thi or m collage me pdhai kr rha tha grmio ki chutta chli the mere bhai ki saali sheena ( name changed) chuttion me apni bhn k paas aai hui thi vo 12th me the US time dekhne me gori chitti sexy eyes tip top figger bht sundar the pehle to uske bare me maine kush glt nei socha tha but kush esa hua k mai sochne pe mjboor ho gaya
kele ka bhoj chudai kahani Part 2

kele ka bhoj chudai kahani Part 2


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मैंने योनि के छेद पर उंगली फिराई। थोड़ा-सा गूदा घिसकर उसमें जमा हो गया था। ‘तुम्हें भी केले का स्वाद लग गया है !’ मैंने उससे हँसी की। मैंने उस जमे गूदे को उंगली से योनि के अंदर ठेल दिया। थोड़ी सी जो उंगली पर लगी थी उसको उठाकर मुँह में चख भी लिया। एक क्षण को हिचक हुई, लेकिन सोचा नहा-धोकर साफ तो हूँ। वही परिचित मीठा, थोड़ा कसैला स्वाद, लेकिन उसके साथ मिली एक और गंध- योनि के अंदर की मुसाई गंध। मैंने केले को उठाकर देखा, छिलके के अंदर मुँह घिस गया था। मैंने छिलका अलग कर फिर से गूदे में नाखून से खोद दिया। देखकर मन में… मैंने योनि के छेद पर उंगली फिराई। थोड़ा-सा गूदा घिसकर उसमें जमा हो गया था। ‘तुम्हें भी केले का स्वाद लग गया है !’ मैंने उससे हँसी की। मैंने उस जमे गूदे को उंगली से योनि के अन्दर ठेल दिया। थोड़ी सी जो उंगली पर लगी थी उसको उठाकर मुँह में चख भी लिया। एक क्षण को हिचक
kamukta kahani kamsin monika

kamukta kahani kamsin monika


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
kamukta kahani kamsin monika जब मैं कॉलेज में था तब एक क्लासमेट राहुल मेरा मित्र बन गया। मैं कमरा लेकर रहता था। एक दिन राहुल ने मुझसे पूछा कि क्या वह मेरे कमरे पे एक रात बिताने के लिए अपने साथ नई दोस्त ला सकता है? मुझे पता था कि राहुल अपने कॉलेज में एक लड़की को डेट कर रहा था, वह बहुत आतुर लग रहा था, राहुल ने बताया कि वो बहुत उत्तेजित है क्योंकि उसकी गर्लफ़्रेन्ड रात उसके साथ बिताने को तैयार है। तो मैंने हाँ कर दी और राहुल ने अपनी दोस्त को बता दिया कि इन्तजाम हो गया है। रात में 9 बजे, राहुल अपनी प्रेमिका के साथ आ गया। उसका नाम मोनिका था, वह बहुत सुन्दर थी। पहली नज़र में देखते ही वो मुझे पसंद आ गई थी। मैंने मन ही मन सोचा कि राहुल जैसे बेवकूफ को इतनी अच्छी लड़की कैसे मिल गई, बड़ा किस्मत वाला निकला राहुल तो ! मोनिका ज्यादा लम्बी नहीं थी, लेकिन उसके डी आकार के चुच्चे एक मिसाइल की तरह