baap beti sex kahani

pahla haq papa ko chudai ka

pahla haq papa ko chudai ka


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मुझे मेरी मम्मी की याद भी नहीं है| जब से होश संभाला, हमेशा पापा को ही देखा है| पड़ोस की चाची बताती हैं की पापा ने मेरे कारण दूसरी शादी नहीं की| मैं बहुत ही दुबला पतला हूँ| तब मैं 18-19 साल का रहा होऊँगा| उस समय ही नयी नयी जवानी चढ़ी थी| दिन रात मूठ मारने में जो मज़ा था, किसी और काम में नहीं था| दिन में पापा रहते नहीं थे, मैं अकेला रहता था. जो चाहे वो करता था| पापा रात को आते, खा कर सो जाते| सुबह होते ही फिर से काम पर चले जाते. मैं खा कर स्कूल चला जाता था| आ कर अपनी जवानी का मज़ा लेता| मुझे मेरी याद भी नहीं है कि मुझे साड़ी पहनने की आदत कब से है| स्कूल में एक प्ले होना था| मैं दुबला पतला होने के साथ साथ थोड़ा लड़कियों जैसा दिखता भी था| उस प्ले में मुझे एक औरत का रोल करना था| मुझे साड़ी पहनाई गयी तो मेरा लंड खड़ा हो गया| बड़ी मुश्किल से उसे दबा कर रखा| खैर प्ले तो ख़तम हो गया, लेक
rupali ki tight choot bajaya

rupali ki tight choot bajaya


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
एक सच्ची घटना, मेरा नाम रूपाली है और मैं 19 साल की एक कमसिन, अन्छुइ कली हू. मुझे सेक्स के बारे में सुनना और ब्लू फिल्म देखना अच्छा लगता था. मैं अपनी सहेली के साथ कई बार ब्लू फिल्म देख चुकी थी और सेक्स की भी इच्छा होती थी लेकिन अंदर से डर भी लगता था. मैं अभी अभी इंटर स्कूल में अड्मिशन लिया था और रोजाना घर से लोकल बस पकड़ के स्कूल जाती थी. एक दिन स्कूल जाने के लिए भीड़ से भादी बस मे चाड गयी इतनी भीड़ थी कि पुछो मत, स्कूल घर से 15 किमी दूर में था और 1-1.5 घंटे लगते थे. बस एक स्टॉप पर रुकी तभी आवारा किस्म के 4 लड़के बस में चढ़ गये, और सरकते सरकते मेरे पास आ गये और मुझे तकरीबन घेर लिया उन चारो ने, दो आगे से दो पिछे से. यानी कि उनकी हर्कतो को कोई देख ना सके. उस दिन मैं स्कर्ट और शर्ट पहनी हुई थी, मेरे शर्ट में से मेरी गोल गोल उभरी हुई चूंचिया बहुत मस्त दिख रही थी यहा तक कि लाल लाल घुंडी भी
और पापा ने चोद दिया अपनी जवान बेटी को 2 • Hindi Sex Stories

और पापा ने चोद दिया अपनी जवान बेटी को 2 • Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  गतान्क से आगे………..bap beti ki chudai sex kahani – papa ne chod diya jawan beti पापा बोले : अच्छा यहाँ भी दर्द हो रहा है…ठीक है सीमा, अगर तुम्हे यहाँ भी दर्द हो रहा है तो मैं तुम्हारा यह दर्द अभी दूर कर देता हू. पर इस औजार से तुम्हे कुछ दर्द होगा, लेकिन फिर बहुत मज़ा आएगा. में : कोई बात नही पापा, में अपना दर्द दूर करने के लिए कुछ भी करूँगी.. पापा: ठीक है सीमा, तुम तैय्यार हो जाओ, मैं तुम्हारा इस औजार से यहाँ का  दर्द दूर करता हू. लेकिन पहले कुछ तैय्यारि करनी पड़ेगी. वो क्या पापा: मैं बोली पापा ने कहा: बताता हू, ज़रा रूको तो, यह जल्दबाज़ी का काम नही होता है. यह कहकर पापा ने अपने लंड को अपने हाथों में ले लिया और मेरे मूह के पास कर के बोले.. लो सीमा बेटी..पहले इससे कुछ देर चूसो… जब यह पूरी तरह से सख़्त (टाइट) जो जाएगा तो में इस पर तेल लगा कर तुम्हारा वो दर्द भी दूर
papa ne chod diya jawan beti ko Hindi Sex Stories

papa ne chod diya jawan beti ko Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  bap beti ki chudai sex kahani – papa ne chod diya jawan beti ko जैसे की मैने आपको बताया कि मैने बचपन से ही अपने मोम पापा का लंड-चूत का खेल चुप-चुपके से देखती थी जिसका कि मम्मी को नही पता था कि जब वो रोज़ पापा से चुदवाने जाती है और मैं देखती हू. जब में 16 साल की थी, तब मेरी चुचियो का साइज़ 32 था, लेकिन ग़रीबी की वजह से मैं ब्रा नही डाल सकती थी. मम्मी के पास भी सिर्फ़ 2 ब्रा थी जो की वो बाहर जाते वक़्त ही डालती थी. नही तो घर आते ही वो पहला काम यही करती थी की बाथरूम में जाकर वो अपनी ब्रा उतारती और सिर्फ़ सलवार कमीज़ मैं रहती थी या सिर्फ़ मॅक्सी (गाउन) ही डालती थी. घर पर डालने के लिए उन्होने पतला सा सूट रखा हुआ था. मेरी चूत मैं हमेशा ही खुजली होती रहती थी कि कोई पापा जैसे लंड मेरे भी चूत मैं डाल कर पूरी तरह अंदर बाहर करे जैसे मम्मी की चूत मैं मेरे पपाजी करते थे. मैं सोचने लगी क
garmi ki raat chudai papa ke sath

garmi ki raat chudai papa ke sath


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
garmi ki raat chudai papa ke sath बात उन दिनों की है जब मैं नयी नयी जवान हुई?.. थी यानी मैं सिर्फ १६ साल की थी,और तभी मैंने ये जाना की पुरुष के हाथो का स्पर्श कितना प्यारा और आनंद दाई हो सकता है?हाँ वोही स्पर्श जो मेरे पापा के हाथ कभी मेरी गांड, कभी मेरी कागजी निम्बू जैसी चुचियो को सहला कर मुझे बेखबर जान कर महसूस करते थे?.. मेरी सहेलिया मुझे अक्सर मेरे सामने औरत और मर्द के रिश्तो की बात करती थी, मैं फिर भी बेखबर थी,जानती ही नहीं थी क़ि क्यों मैं ऐसा फील करती हूँ?? क्या कारन है क़ि मैं सब लड़कियों की चुचियों को,और सब लडको के पेंट के उस उभरे हिस्से को मैं इतने लालच से, इतनी गौर से देखती हूँ??. उस दिन जब पापा बनारस से आये और मुझे पुकारा .. मैं भागी भागी उनके पास गयी और बोली ..हांजी पापा!! पापा बोले.. अरे बेटा इतनी दूर क्यों खड़ी है यहाँ आ देख मैं तेरे लिए क्या लाया हूँ?? मैं पास आकर पापा