behen ki chudai

आख़िर पहला अनुभव मिल ही गया

आख़िर पहला अनुभव मिल ही गया

13 Saal Ladki Ki Jabardast Chudai, aunty chudai kahani, aunty ki chudai ki kahani, Aunty Sex Story, behen, Behen bhai sex kahani, behen ki chudai, behen sex kahani, Desi Boobs, Desi Khani, Girls Sex Nude Stories, Hindi Sex Stories, Indian XXX, Telugu sex stories
प्रेषक : मयूर … हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम मयूर है। यह कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड स्नेहा डार्लिंग के बीच की है। अब में आप सभी कामुकता डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियों को पढ़ने वालों का ज्यादा समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी आज की कहानी पर आता हूँ। दोस्तों में 12th क्लास का छात्र हूँ और में अपने जीवन में एक सुंदर प्यारी सी प्रेमिका की तलाश कर रहा हूँ और इसलिए में यहाँ वहाँ भटक रहा हूँ। फिर कुछ समय के बाद मैंने मेरे पड़ोस में अपने एक नये पड़ोसी को देखा और मुझे उस परिवार के बारे में पता चला कि उनके परिवार में चार लड़कियाँ दो लड़के और माँ-बाप थे। अब मेरा दिल सबसे छोटी वाली लड़की पर आ गया था और इसलिए में उसको हर दिन अपनी छत से देखा करता था और कुछ समय के बाद मुझे भी उसकी तरफ से इशारा मिलने लगा था। अब वो भी हर कभी मुझे देखकर हंसने मुस्कुराने लगी थी। फिर एक दिन मैंने हिम्मत करके उसके साथ बात करने का विचार
Kunwari didi ki chut ki seal todi

Kunwari didi ki chut ki seal todi


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आदि है और में आज सभी को अपनी एक सच्ची घटना के बारे में बताने के लिए पर आया हूँ और में उम्मीद करता हूँ कि यह आप सभी को पसंद जरुर आएगी। दोस्तों यह बात करीब 6 महीने पहले की है। मेरी मौसी की लड़की जो मुझसे एक साल बड़ी है और वो मेरी मौसी के साथ हमारे घर आई हुई थी और मौसी ने हमारे घर आकर मेरी माँ से कहा कि यह अब करीब दो तीन महीने इधर ही रहेगी। तो माँ उनके पूछने लगी क्यों? तब मौसी ने कहा कि अरे मैंने तुझे बताया नहीं था क्या कि हमें अमरनाथ और उधर के सभी तीर्थ देखने है? तो माँ बोली कि अरे दीदी में तो बिल्कुल भूल ही गयी थी। तभी मैंने कहा कि माँ तुम जाओगी तो खाना कौन बनाएगा? भाभी भी भैया के साथ बाहर घूमने गये है और अब वो लोग भी दो महीने से पहले नहीं आएँगे। तो मौसी ने कहा कि तुम्हारी नीलू दीदी को खाना बनाने के लिए में इसे इसलिए तो यहाँ पर लाई हूँ। फिर मैंने कहा कि
behen ke liye lund ka intajam

behen ke liye lund ka intajam


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
दोस्तों, मैं अरुण लखनऊ से हूँ. . इनकी कहानियाँ बहुत ही जादा मनोरंजन देती है. और चुदाई की नयी नई टिप्स भी देती है. तो मैं भी आज अपनी सेक्स कहानी को लेकर हाजिर हूँ. तो आपको अपनी चुदाई कहानी सुनाता हूँ. क्या हिन्दुस्तान में हम अपनी बहनों को छू सकते है, उनको हाथ लगा सकते है. अगर बिना लाग लपेट के बात करे तो मैं हम सभी भाई अपनी बहनों को खुलकर बिना किसी भय और लोक लाज के चोद सकते है. हिंदुस्तान इतना रुढिवादी क्यूँ है. क्यूँ अब संस्कारों का बोझ अपने कन्धों पर धो रहे है. विदेशों की तरह हम भाई क्यूँ नहीं अपनी बहनों को चोद सकते है. सेक्स और चुदाई को लेकर हमारे देश में इतने नियम, इतने उसूल आदर्श क्यूँ है. उस दिन जब मैं शांत अकेला घर में बैठा था तो घूम फिर कर यही सब बातें मेरे जहन में आ रही थी. ये सुनने में आया था की मेरी बहन पूनम किसी मुस्लिम लड़के से बात करने लगी है. ये बात मेरे पुरे मोहल्ले में आग की