Bhabhi Ki Chudai

Sex Kahani Jannat ka Safar

Sex Kahani Jannat ka Safar


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरे परिवार में सिर्फ मैं और मेरी मम्मी दोनों भारत में रहते थे और एक बड़ा भाई जो कई सालों से केन्या में सेटल है। कॉलेज छुट जाने के बाद मैं घर में अकेली बोर हो जाती थी तो भाई की अनुमति लेकर हुंडई कार के शो-रूम में जॉब ले लिया। मेरा काम था नए ग्राहक को कार बेचना। वैसे हमारा घर का खर्च भाई के भेजे पैसों से ही चलता था, लेकिन भाभी का स्वभाव थोड़ा ठीक नहीं है इसलिए बहुत कम पैसे आते थे तो मैं अपनी लाइफ स्टाइल को पूरी तरह से एंजॉय नहीं कर पाती थी। मुझे होटल में खाना–पीना घूमना, थियेटर में मूवी देखना बहुत पसंद है। एक दिन शाम के वक़्त मैं स्किन टाइट जीन्स और सफ़ेद शर्ट पहन कर अपने केबिन में बैठी थी। तभी शोरूम में एक बिजनेसमैन आया। उनकी उम्र कुछ 40-42 की होगी, सूट पहना हुआ था, काफी अमीर दिखते थे। मैंने उनका स्वागत किया और कार के बारे में बताना शुरू किया। जब मैं उनको कार के बारे में बता रही थी
bhaiya to chusne nhi dete

bhaiya to chusne nhi dete


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
भैया की नई नई शादी हुई थी, हम सब बहुत खुश थे क्योंकि भाभी बहुत ही खुश मिजाज हैं। शादी के कुछ महीनों बाद हमारे माता पिता को किसी काम से आठ दस दिन के लिए कहीं जाना पड़ा, सो घर में हम तीनों ही रह गए। उस पर भैया को एक दिन ऑफिस के काम से जाना पड़ा। उस दिन घर में हम दोनों अकेले थे, सो भाभी से कहा- भाभी, कहाँ अकेले मेरे लिए खाना बनाओगी ! चलो कहीं बाहर घूम आते हैं, आपका दिल भी बहल जायेगा और बाहर से खाना भी खा आयेंगे। तो भाभी झट से मान गई। हाँ ! मेरी भाभी की उम्र 26 साल कद 5’3″ रंग गोरा और फिगर 36/28/34 है। उसने जींस और टॉप पहना और हम मूवी देखने गए। हमने मूवी देखी। मूवी थोड़ी रोमांटिक थी सो मुझे कुछ अलग महसूस हो रहा था। हम ने खाना पैक करवाया और सोचा घर जाकर खायेंगे। खाना पैक करवा के घर आ गए और मैं भाभी से बोला- आप कपड़े बदल लो, फिर खाना खाते हैं। भाभी ने अपनी नाईट ड्रेस पहन ली। ड्रेस पारदर्शक
Mastram Kahani jhalak ki pahli jhalak

Mastram Kahani jhalak ki pahli jhalak


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मैंने अहमदाबाद में नया रेस्तराँ खोला था जहाँ पर वो आया करती थी। उसकीउम्र करीब 19 साल के रही होगी और वो एक छरहरे बदन वाली पतली और लम्बी सीलड़की थी। वो हमेशा बहुत उदास लगती थी और बड़ी मुश्किल से उसके चेहरे परहंसी देखने मिलती थी।एक दिन वो अकेली ही आई और रोने लगी तो मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसके पासगया। मैंने उससे उसका नाम पूछा और उसके रोने की वजह भी। तब तक मेरे मन मेंउसके लिए कोई सेक्स के विचार नहीं थे. मैं तो बस इंसानियत के नाते ही उसकीमायूसी की वजह पूछने यूं ही उसके पास चला गया था। मेरे पूछने पर उसने अपनानाम झलक बताया और वो मुझसे लिपट कर रोने लगी। मैंने उसे तब तो दूर हटा दियालेकिन फ़िर उसे बाहर बुलाकर अपनी गाड़ी में बिठाकर उसके रोने की वजह पूछी तोउसने बताया कि किसी जॉनी नाम के लड़के ने उसका दिल दुखाया था जिससे वो कभीबहुत प्यार करती थी। जबकि वो लड़का अब दूसरी लड़की के साथ घूम रहा है। जोउसस
Baap Se Chudai shaitan baap ki nazar

Baap Se Chudai shaitan baap ki nazar


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरा नाम राजीव चोपडा है ! मरी शादी हो चुकी है और मै 42 साल का हूँ मरे २ लड़किया और १ लड़का है बड़ी लड़की की उमर 22 साल है और दूसरी की उमर 19 साल और लड़का १० साल का है दरसल मेरी शादी १९ साल की उमर मई हे हो गयी थी मरी माँ का देहांत हुआ तो पापा और नाना नानी ने मेरी शादी जल्दी करवा दी और मेरी शादी के ५ साल बाद पापा का भी स्वेर्गवास हो गया मेरा एक रेडीमेड कपडे का शोरूम है जो खूब चलता है ! मुझे एक्स्सेर्सिस योगा का खूब शोक है जिस की वझे से मेरी उमर कम लगती है और शारीर भी सही है ! आज से एक साल फेले तक सब कुछ सही चल रहा था लकिन एक दिन सुबह करेब ६ बजे मुझे एक व्होले सैलेर से मिलने के लिए जाना था और मै जल्दी से नाह के जाने की जल्दी मै अपने मौजे तलाश केर ता हुआ अपनी बेटी के कमरे मै चला गे वोह भी स्कूल के लिया तैयार हो रहे थी वोह एक दम नंगी कड़ी थी और मुझे देखते ही बोली पापा मै कपडे बदल रहे हूँ मै
chudai kahani meri utsukta

chudai kahani meri utsukta

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories
मैं एक जमींदार परिवार से संम्बंद रखता हू| मेरा कोई भाई या बहन तो नहीं थे परन्तु हम एक सयुंक्त परिवार मैं रहते थे तो मेरे काफी चचेरे भाई बहन थे| हम सब एक साथ ही रहते थे |मेरा परिवार काफी बड़ा था, एक हवेली मैं सभी लोग रहते थे | मेरे दादा जी परिवार तथा गांव दोनों के मुखिया थे | चुकी मैं उनके छोटे बेटे का इकलवती संतान था वो मुझे बहुत प्यार करते थे | मैं उनके पास ही ज्यदा रहता था | मुझे अच्छी तरह याद है तब मैं मात्र १० साल का था |जब मैंने किसी को सेक्स करते पहली बार देखा था, मुझे ये तब पता नहीं था की वो लोग क्या कर रहे है , लेकिन उनकी बाते सुन कर मुझे काफी अच्छा लगा था | उस दिन रविवार था यानि हमारे स्कूल कि छुट्टी थी ,मैं यूही गांव में घूम रहा था , माँ ने सुबह ही कहा था “बेटा ज्यादा दूर मत जाना घूमने घर जल्दी आ जाना ,मैंने तुम्हारी पसंद ही खीर बना रही हू .” मैं बहुत खुस था उस दिन. मैं ट
meri soni meri tamanna

meri soni meri tamanna

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories
मैं एक सरकारी कंपनी में काम करता हूँ और मैं अच्छा खासा कमा लेता हूँ। मेरे घर में मेरी माँ और छोटा भाई जो मुझ से सात साल छोटा है। सोनी जो एक खूबसूरत बला का नाम है, वो 18 साल की, जिसने अभी अभी जवानी में कदम रखा था, उसका रंग थोड़ा सांवला था और सेक्सी होने के साथ वो बिंदास भी थी। उसकी आँखें बहुत ही नशीली थी, जब वो चलती थी तो उसकी जवानी और मादकता साफ़ दिखती थी, जिसे देखकर बस्ती के सारे लड़के अपना लंड पकड़ कर सीधा करते थे क्योंकि उनका खड़ा हो जाता था। सोनी हमेशा चूड़ीदार सलवार-सूट पहनती थी जिसमें उसकी आकृति देखकर कोई भी उसका आकार बता देता था, हर कोई उसको चोदने की तमन्ना रखता था ! हर कोई उसको परपोज करना चाहता था। यह बात चार साल पहले की है, जब मैं इक्कीस साल का था तब मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी। मैं अपने दोस्तों के साथ अक्सर गंगा-जमुना जाया करता था और रांडों को जमकर चोदा करते थे। क्य
suhagraat ki garam chudai kahani

suhagraat ki garam chudai kahani

antarvasna, aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, indian sex kahani
  मेरे पिताजी सरकारी ऑफिस में अच्छी पोस्ट पर काम करते थे. हमें सरकारी मकान मिला हुआ था. मकान बहुत बड़ा था और उसके कमरे भी बहुत बड़े थे. चार बैडरूम, रसोई और बैठक थे उस मकान में. जबकि उस समय मैं नीरज, मेरा छोटा भाई छोटा और छोटी बहिन मुन्नी, मां, बाबूजी उस मकान में रहते थे. जैसे जैसे बड़ा हुआ एक्सरसाइज़ ठीक होने से लंड का साइज़ भी सात इंच का हो गया. पिताजी का तबादला राजस्थान के अलग अलग शहरों में होता हुआ जयपुर में कुछ समय रुका तो पिताजी ने यहाँ घर बनवा लिया. अब स्कूल में उसके बाद लड़को के कोलेज में पढ़ा लेकिन लड़कियों से बात करने में गांड फटती थी इसलिए हमारी गली में आठ लड़कियां होते हुए भी खूब इच्छा होने पर भी मैं उनमे से एक को भी पटा नही पाया. इच्छा बहुत होती थी चोदने कि लेकिन मुट्ठ मारकर ही काम चलाना पड़ता था. साइंस का छात्र था इसलिए पढ़ा सबकुछ लेकिन प्रैक्टिकल हो नही पाया. बाईस स
mast shaam or kusum ki chudai

mast shaam or kusum ki chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम मोहित है, मैं दिल्ली से हूँ और मैं लेकर आया हूँ आप सबके लिए एक सच्ची घटना जो मेरे साथ हुई और मेरा जीवन सफल हो गया। मैं जिस बिल्डिंग में रहता हूँ, वहाँ तीन मस्त कंचा आइटम रहती हैं। उनमें से दो तो शादीशुदा हैं और एक जवान कच्ची कलि.. मुझे तो उनमें से कोई भी मिल जाये, मैं बस यही मनाता था। लेकिन मेरा लंड सबसे जल्दी तो कुसुम भाभी के लिए ही खड़ा होता था। कुसुम का पति सरकारी अफसर था और एक नम्बर का घूसखोर था, आये दिन लोग घूस लेकर उनके घर आते रहते थे और कुसुम को ठरकी निगाहों से देखा करते थे। अब मैं आपको कुसुम भाभी के बारे में कुछ बताना चाहूँगा। कुसुम भाभी की दो बेटियाँ हैं, दोनों अभी छोटी हैं… लेकिन भाभी तो क़यामत हैं। उनके जिस्म का सबसे आकर्षक भाग है उनकी चूचियाँ। यारो, क्या कमाल चूचियाँ हैं उनकी, वो चाहे कुछ भी पहन ले लेकिन उनकी चूचियों पर से नज़र हटाना नहीं बनता है।
kamukta Bhaji wale ko seduce kia

kamukta Bhaji wale ko seduce kia


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मैं शेला, 5.3”. 40-34-40 का पुष्ट जिस्म, पति ज़्यादातर बाहर रहते हैं, पर मेरा हट्टाकट्टा नौकर शामू मेरे घर में ही रहता है, सो मैं अपने नौकर शामू से चुदवाकर मस्त रहती हूँ। आजकल भी पति बाहर गये हुए हैं पर इसी समय इस हरामखोर शामू को भी गाँव जाना था सो शामू गाँव चला गया और मैं घर में अकेली पड़ गयी । सो मैं नाइटी पहनकर अपने कमरे में पड़ी इस दोपहरी में अकेले अपनी चूत में उंगली कर रही थी और मन ही मन शामू को गालियाँ भी दे रही थी कि इसी समय इस हरामखोर को भी गाँव जाना था वरना साला इस समय इसी बिस्तर पर मेरे साथ मजे कर रहा होता। तभी नीचे से भाजी वाले की आवाज़ सुनी, सो मैं ने भाजी लेने के लिए उसे ऊपर ही बुला लिया । मैंने देखा, भाजीवाला 50 साल का पर बड़ा हट्टाकट्टा अधेड़ था और चोरी चोरी मेरे सीने के उभारों को को घूर रहा था. नाइटी के 2 बटन खुले थे जिससे उसे अंदर की ब्रा दिख रही थी तभी मैंने नाइटी ठी
mastaram kahani raj ki baat

mastaram kahani raj ki baat


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरे गांव में स्कूल नहीं था सो मैं पास के शहर में अपनी एक चाची के पास रह कर पढ़ता था। मेरी चाची बहुत ही सेक्सी है. मैं जब 15 साल का था तभी से वो मुझसे चुदाने लगी थी। वैसे वे बचपन से मेरे लण्ड की खूब मालिश करते हुए हमेशा बोला करती थी कि मैं नहीं चाहती की तेरा लण्ड कहीं तेरे बाप दादों की तरह छोटा रह जाये पर मेरे दोस्त कहते कि जरूर तेरे बाप का तेरा लण्ड बहुत बड़ा होगा तभी तेरा लण्ड के कारण इतना लंबा और मोटा होगा. पर मेरी चाची हमेशा कहती की बाप दादों में किसी का लण्ड 5 1/2 इंच से ज्यादा नहीं था। मैं कुछ समझ नही पा रहा था। सो एक दिन जब मैं चाची के पास लेटा उनकी दूध सी सफ़ेद बड़ी चूचियाँ दबा कर उन्हें चुदाई के लिए गरम कर रहा था, मैंने उत्सुक हो अपनी चाची से पूछ ही लिया,- “चाची मेरे दोस्त कहते हैं की तेरा लण्ड ज़रूर तेरे बाप की वजह से इतना लंबा और मोटा होगा. पर आप तो कहती हैं की मेरे पूरे ख