chudai sex kahani

Raseela saaliya chudai kahani – 2

Raseela saaliya chudai kahani – 2


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
दुसरे दिन सुबह ..लीना अब कुंवारी नही थी…और चादर पर खून के छिंटे उसकी औरत बनने की गवाही दे रहे थे….सुबह लीना ने उठकर रवि को उठाया . रात की मस्ती झड़ी नही थी .रवि ने लीना को नंगी देखा तो फ़िर से अपने पास खींच लिया..चूमा चाटी शुरू हुयी और लंड लोहे जैसा हो गया… एक बार फिर दोनों आपस मे लग कर चुदाई शुरू कर दी . रवि लीना को नीचे ले कर उसकी दोनों टांगो को आसमान मे फैला कर और उसके चूतड के नीचे दो तकिये रख दिए..जिससे उसकी उभरी हुयी चूत और उभर आयी थी. अभी भी..रवि ने जैसे ही अपना लंड उसकी गीली हो रही चूत के अन्दर घुसाया..लीना चीख पड़ी.. रवि ने दो धक्को मे पूरा लंड चूत के अन्दर डाल दिया था..और कस कस कर उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया . सिस्कारियों से कमरे का वातावरण काफी मदहोश हो गया . लीना नीचे से हर धक्के का जवाब अपनी सिस्कारी से दे रही थी .आह्ह..अह्ह्ह.औच..आ..ऊ..च….आह्ह…जिजू….सच मुच तुम्हारा लंड ल
shadi shuda aurat ki chudai kahani 2

shadi shuda aurat ki chudai kahani 2


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
जमाल, “तुम्हे ये अब कैसे पता.” गौरी, “सब खुद बताती हैं. .” जमाल, “बहुत exciting लगता है जब एक शादीशुदा औरत अपने सुहाग के कीमती निशानी को ऐसे हमारे लॅंड पे लपेट के चूसती है. एक औरत का मंगलसूत्र अपने लोड्*े पे लपेट के चुसवाने में बहुत मज़ा आता है.” गौरी, “चलो बेडरूम में चलते हैं.” गौरी ने जमाल को Kiss किया और Bathtub से बाहर आ गयी. जमाल भी खड़ा हुआ, बाप रे उसका 9’’ का लोड्*ा अभी भी खड़ा था. सही में एक औरत के साथ रह के गैर मर्द का लोड्*ा कभी शांत नही रह सकता. जमाल Camera की तरफ बढ़ा और गौरी पे Focus किया, वो Bathroom से बाहर जा रही थी. वो पूरी तरह भीगी हुई थी, और उसका नंगा बदन चमक रहा था. उसके बाल गीले थे और उसकी कमर से चिपके हुए थे. उसके चूतड़ मस्त हिल रहे थे जब वो चल रही थी. ऐसी मादक औरत को नंगी देख के जमाल का लोड्*ा कैसे शांत रह सकता था. जमाल ने Camera बंद किया और दूसरा वीडियो ख़त्म ह
pinki ki blue film part 1

pinki ki blue film part 1


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  दोस्तों मैं यानि आपका दोस्त एक और नई कहानी लेकर हाजिर हूँ मेरा नाम पिंकी है. में सौथेर्न देल्ही में अपने मम्मी पापा के साथ रहती हूँ. मेरी उम्र 19 साल है, गोरा बदन, काले लंबे बाल, 5″4 की हाइट और मेरी आँखों का रंग भूरा है. एक दिन में अपनी सहेलियों के साथ शूपिंग कर घर पहुँची. अपने कमरे में पहुँच मेने अपनी मेज़ की दाराज़ खोली तो पाया कि मेरी ब्लू रंग की पॅंटी वहाँ रखी हुई थी. मेने कभी अपनी पॅंटी वहाँ रखी हो ये मुझे याद नही आ रहा था. इतने में में कदमों की आवाज़ मेरे कमरे की और बढ़ते सुनी, मेरी समझ में नही आया की में क्या करूँ. में दौड़ कर अलमारी जा छुपी. देखती हूँ कि मेरा छोटा भाई अरुण जो 18 साल का है अपने दोस्त जे के साथ मेरे कमरे में दाखिल हुआ. “पिंकी ” अरुण ने आवाज़ लगाई. में चुप चुप चाप अलमारी छुपी उनको देख रही थी. “अच्छा है वो घर पर नही है. जे में पहली और आखरी बार ये सब तुम
pados ki ladki ke sath chudai part 3

pados ki ladki ke sath chudai part 3


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
‘मज़ा आ गया।’ थोड़ी देर बाद उसने करवट ली और मेरी आँखों में देखते हुए बोली- अब मैं इमैजिन कर सकती हूँ कि जब आगे से इस तरह सोहबत करते होंगे तो कितना मज़ा आता होगा।’ ‘अभी तुम्हारे मज़े ने दर्द से लड़ कर जीत पाई है। जब दर्द की गुंजाईश नहीं बचेगी और तब करेंगे तो इससे ज्यादा मज़ा आएगा।’ ‘तुम्हारा पेस्ट अंदर ही है।’ ‘हाँ- धीरे धीरे निकल जायेगा या ऐसा करो बाथरूम जाकर बैठो और थोड़ा जोर लगाओ, सब निकल जायेगा।’ ‘अंदर भी रह जाये तो कोई प्रॉब्लम है क्या?’ ‘नहीं। क्या प्रॉब्लम होगी… मुझे एच आई वी थोड़े है और वैसे भी रेक्टम ऐसी जगह है जहाँ बैक्टीरिया की भरमार होती है। वहाँ स्पर्म भला क्या नुक्सान पहुंचा पाएंगे।’ ‘फिर रहने दो, फाइनली जब तुम जाओगे तो साफ़ कर लूंगी। अभी जहाँ जो भी बहता चूता है उसे बहने चूने दो। चादर चेंज करनी ही है। चलो एनल सेक्स वाली मूवी दिखाओ, कौन कौन से आसन इस्तेमाल होते हैं।’
mai ek randi ban gai

mai ek randi ban gai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
हेलो दोस्तों, मैं उमा शर्मा आपको अपनी दास्तान सुना रही हूँ। मैं गुलाबी शहर जयपुर की रहने वाली हूँ। इस शहर की गुलाबी दीवारों की तरह मेरे होंठ, मेरी छातियां, और मेरी चूत भी सब गुलाबी गुलाबी है। मैं बेहद कमसिन लड़की हूँ, मेरे बदन भरा हुआ है, मैं इतनी गोरी हूं कि मेरे खून की नसें मेरी चमड़ी से दिखती है। इसी से आप अंदाजा लगा सकते है, मैं कितनी गोरी हूँ। मैं 27 साल की हूँ। मैं इतनी आकर्षक हूँ की सारे बुड्ढे अपनी धोती और लंगोट में और सारे जवाँ मर्द मुझे चोदने से पहले अपनी पैंट में ही जड़ जाए। तो मैं आपको अपनी कहानी सुना रही हूँ। मेरे पिता एक प्राइवेट बैंक अधिकारी थे। मेरे डैडी ने मेरा नाम नैनीताल के शेरवुड कॉलेज में लिखा दिया था। मैं बड़े मजे से बढ़ रही थी। मैं अभी 10वी में पढ़ रही थी। जुलाई के महीने में जब मेरे डैडी मुझसे मिलने कॉलेज आ रहे थे तो उनका कार एक्सीडेंट हो गया। अब घर पर मेरी मोम
rat mai biwi or didi ki chudai

rat mai biwi or didi ki chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरी उम्र २३ वर्ष हो रही है। मेरे परिवार में मात्र तीन लोग रहते हैं, मैं, मेरी माँ और मेरी पत्नी ! और हाँ एक औरसदस्य आज ही आया जो हमारे ही बीच का है पर आज से ठीक दो साल पहले ही उसकी शादी हो चुकी है, जो अपनेससुराल में रहती है, वह है मेरी दीदी ! जिसके पति तीन दिन पहले अरब देश जा चुके हैं, जिसके चलते वह हमारेयहाँ रहने आ गई है। पर आते ही मेरे कमरे और मेरी बीवी पर पहला अधिकार जमा लिया। सबकी दुलारी होने से कोई कुछ नहीं मनाकरता और किसी काम को करने से नहीं रोकता है। माँ की दुलारी तथा मेरी भी बड़ी दीदी होकर भी साथ साथ पलेबढ़े हैं क्योंकि मुझसे मात्र दो साल ही बड़ी है। हम लोग उनकी सेवा में लगे हुए थे और देखते देखते शाम, फिर रातभी हो गई, परन्तु दीदी मेरे कमरे में जमी रही। अंत में मुझे दूसरे कमरे में यह सोच कर सोना पड़ा कि शायद आजही आई है तो सो गई, कल से दूसरे कमरे में सोयेंगी। दूसरे कमरे में आ
Bhai Behen Sex – bhai se kaha once more

Bhai Behen Sex – bhai se kaha once more


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
हैलो कैसे हैं आप सब। आज बहुत दिन बाद मैं कोई कहानी लिखने जा रही हूं मैं असल में बाहर चली गयी थी पर जाने से पहले कई कहानियां भेज कर गयी थी ताकि आप लोगों को मेरी कमी न महसूस हो और आप लोगों के बहुत सारे मेल मिले जिनमे मेरी कहानियों को काफ़ी पसंद किया गया है जिसका मैं आप सबका खुले दिल और फ़ैली चूत के साथ शुक्रिया अदा करती हूँ लड़कियों की चूत के लिये दुआ करुंगी कि उनको भी कोई चोदने वाला जल्दी से मिल जाय और लड़के तो साले होते ही हरामी हैं कहीं और नहीं मिली तो घर में ही शुरु हो गये पर मुझे लड़को से एक शिकायत है कि वो सब ही मुझे चोदना चाहते हैं अरे यार मुझे चुदवाने से कोई इंकार नहीं है पर अब मैं बैठी यू पी में और आप लोग पता नहीं कहां कहां बैठे हो अब भला किसी का लंड इतना बड़ा तो होगा नहीं कि वहां बैठे बैठे मेरी चूत को चोद डाले तो प्लीज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ मुझसे हर तरह की बात करे पर मुझे चोदने की बात
Monika Mili Train Me or chudai

Monika Mili Train Me or chudai

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, chudai sex kahani, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, train mai chudai
हेलो फ्रेंड्स आई एम समीर फ्रॉम देल्ही, आई एम लुकिंग गुड एंड स्मार्ट, माय डिक साइज़ 7’’. नाउ स्टार्ट माय सेक्स स्टोरी ये इंडियन सेक्स स्टोरी है मेरी और मेरी न्यू फ्रेंड जो मुझे ट्रेन मे मिली ईज़ 31 डिसेबर 2015 को मैं अपने घर लकनाउ जा रहा था और ट्रेन मे बहुत भीड़ होने की वजा से बहुत भीड़ थी. पर मैं स्टेशन पे पहले ही पोहच् गया जिस कारण मुझे उपर की सीट मिली जनरल से मैं फर्स्ट टाइम सफ़र कर रहा था और मैं काशिविशवनाथ एक्सप्रेस से सफ़र कर रहा था देल्ही से ट्रेन चल पड़ी और मैं अपना चादर ओढ़कर सो गया मुझे सफ़र का पता नही चला कब हापुर आ गया हापुर मे मेरी आँख जब खुली जब किसीने मेरा पैर हिलाया. तो मैं उठके देखा कोन है तो सामने एक प्यारी सी लड़की खड़ी थी और वो मुझसे बोली की क्या आप बैठने का कष्ट करेगे ओर मैं उसे देखकर बैठ गया वो उपर सीट पर आकर बैठ गई और ट्रेन चल पड़ी फिर मैने उस से पूछा आप कहा ज
dost ke sath pahli chudai ka mazza

dost ke sath pahli chudai ka mazza

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chodan sex kahani, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, chudai sex kahani, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories
हेलो टू एवेरिवन, एम सागर फ्रॉम देल्ही दिस ईज़ माय फर्स्ट देसी सेक्स स्टोरी होप यू ऑल लाइक इट, कोई भी गर्ल्स या भाभी मुझे कॉंटॅक्ट कर सकती हैं फॉर प्राइवेट टॉक एंड हॅव फन, ये स्टोरी मेरी फ्रेंड जिसका नाम नेहा हैं मेरे घर के पास ही रहती है. हम बचपन से आछे दोस्त थे कभी ग़लत फीलिंग नही हुई, वो मुझे पसंद करती थी पर मैं नही, हमारी दोस्ती अछी चल रही थी हनगाउट्स, फन मस्ती, हम दोनो कभी कभी ड्रिंक भी करते थे साथ मे पर कुछ ग़लत नही किया, आफ्टर ग्रॅजुयेशन हम दोनो अड्मिशन ले रहे थे एमबीए मे. उसको पुणे मे अड्मिशन मिल गया था और 3दिन बाद उसको जाना था सो मैने उसके लिए सर्प्राइज़ फेरवेल प्लॅन किया सब दोस्तो के साथ मिलकर, हम देल्ही के साकेत एरिया मे ज़ूक्स बार मे गये पार्टी करी, हम दोनो ने ज़्यादा ड्रिंक कर ली थी मैं उसे घर लेकर आया उसको ड्रॉप किया. नेहा के मोम डॅड मुझे आछेसे जानते थे तो कोई प्राब
नौवीं कक्षा में मैं अपने पड़ोसियों से सेक्स का मजा ली – 4

नौवीं कक्षा में मैं अपने पड़ोसियों से सेक्स का मजा ली – 4


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
चाचा बोले इसको भी उतार बंध्या इसी के अंदर तो तेरे काम का औजार है, मैं मुस्कुरा दी और चाचा की अंडरवियर पकड़ कर तेजी से नीचे खिसका दी उनका लन्ड मेरे मुंह के पास बहुत ही बड़ा सामने आ गया तो चाचा मेरे होंठों में उसको लगा दिया और बोले इसे चूस बंध्या बहुत मजा आएगा, और मेरे बालों को पकड़ कर अपना लन्ड मेरे मुंह में घुसाने लगे मैंने मुंह खोला तो चाचा ने अपना लोड़ा मेरे मुंह में अंदर घुसा दिया बहुत ही अजीब गंध उनके लंड की मेरे अंदर समा गई पर मैं पूरी मस्ती में मदहोशी में थी तो चाचा का लौड़ा चूसने लगी और चाटने लगी, मैं घुटनों के बल बैठी थी और चाचा खड़े थे अब चाचा अपना लन्ड मेरे मुंह में अंदर बाहर करने लगे और गंदी गंदी गालियां देने लगे चाचा अंकड़े भी जा रहे थे, बोले कि बंध्या तू बहुत बड़ी रंडी है शाली छिनाल बंध्या और चूस लन्ड को मादरचोद तेरे को दस-दस लन्ड से चुदवाऊंगा,बहनचोद बहुत मस्त लन्ड चूसती है गा