jawan ladki

station pe jawan ladki ki chudai

station pe jawan ladki ki chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
आप सभी की मेल पढ़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा और उसी के चलते आज मैं अपनी एक और कहानी लिख रही हूँ. अपने मेरी पुरानी कहानियो को बहुत प्यार दिया और मुझे बहुत सरहा, उसके लिए बहुत सारा थैंक्स. तो आते है उस नई हसीन दास्तान पर.आशा करती हूँ, आप लोगों को यह कहानी पसंद आएगी. “यह एक काल्पनिक कहानी है, इस कहानी के सभी पात्र काल्पनिक हैं और किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति से इस कहानी का कोई लेना देना नहीं है, जगह का नाम, या कोई पदवी अत: सब काल्पनिक हैं | किसी के साथ यह दुर्घटना असली जिन्दगी में हुई है तो हमें खेद है ” मैने कोल्हापुर स्टेशन ( अहमदाबाद ) से ट्रेन ली, करीबन रात के 11 बजे थे, मेरी 2एसी मे वेटिंग थी, टीटी से सेट्टिंग किया उसको 500 पकड़ाए तो उसने मेरी फर्स्ट एसी मे करवा दी बोलके की एक सीट खाली है, जाके सो जाना. जब मैं पोहोचा तो मेरे होश उड़ गये, फर्स्ट एसी हमेशा एक कॅबिन की तरह होता है, मैं
Gao mai Rekha ko Choda Hindi Sex Stories

Gao mai Rekha ko Choda Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
Village Sex kahani – Gao mai Rekha ko Choda मैं अपने भाई की शादी में गया हुआ था. वहाँ मिली मुझे एक गाओं कि गोरी रेखा. वो लड़की बेहद खूबसूरत थी. मे 24 को मेरे भाय्या की शादी थी. मैं अपने घर से 20 तारीख को ही चले गया. क्योंकि गाओं मे अक्सर लड़कियाँ आसानी से अपना सब कुछ दे देती हैं इसलिए मैने जल्दी जाना ठीक समझा. मैं जिस दिन पहूंचा उसी दिन मेरी नज़र रेखा पर पड़ी और उसने मुझे देख कर स्माइल कर दिया.. मैने जान लिया कि इससे मेरी सेक्स की इच्छा पूरी हो सकती है. जब मैने अपने भाय्या के दोस्तों से पूछा तो उन्होने बताया कि लड़की रंडी है. मैं तो मानो खुशी से उछल गया. मैने उसे पहले दिन ही पटा लिया. और गाओं की गोरी को पटाना कोई मुश्किल बात नही होती. उसी रात मैने उससे भाय्या के घर के आउटहाउस मे बुलाया और सारा इंतज़ाम कर लिया. हमारे घर के आउटहाउस के पास लड़कियों का सौचलय था इसलिए रात को उसको आने जाने
shadi mai saali ki chudai kahani

shadi mai saali ki chudai kahani


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
shadi mai saali ki chudai kahani मेरा नाम विजय है । मैं 35 साल का नौजवान हूँ। सुन्दर लड़की को देखकर मेरा लण्ड खड़ा होने लगता है और बेकाबू हो जाता है । चोदने की ईच्छा तीव्र हो जाती है। मन करता है कि उसके नर्म नर्म गालों को छू लूँ और उसके होठों को चूम लूँ। उसे अपनी बाहों में भरकर उसकी चूचियों को दबा दूँ और अपना लण्ड उसके बुर में डालकर चोद डालूँ। सर्दियों के दिन थे और शादी का माहौल था। मेरे तीसरे छोटे साले की शादी थी और हमलोग ससुराल में इके हुए। काफी लोग होने की वजह से हर कमरे में कई लोगों के सोने का इन्तजाम था। मेरी सलहज यानि पहले साले की बीवी का नाम था सरला। गेहुआँ रगं भरा हुआ बदन 34 26 34 के आकंड़ों जैसा गदराया बदन थिरकती बड़ी बड़ी चूचियां मोटी मोटी केले के तने जैसी जांघें और गज़ब की सुन्दर। इच्छा करती कि दबोच कर बस चबा ही डालूँ। इठलाती हुई जब चलती अपनी साड़ी को सामने हाथ से चूत के पा
college ki friend ki chudai sex Hindi Sex Stories

college ki friend ki chudai sex Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
college ki friend ki chudai sex मेरा नाम राज शर्मा है और यह मेरी एक और मस्त कहानी है । दोस्तों , मैं दावे से कह सकता हूँ क़ी मेरी यह कहानी पढ़ने के बाद सभी लड़के अपने लण्ड को मसले बिना नहीँ रह पाएंगे और सभी लड़िकयाँ अपनी चूत में ऊगली करती नज़र आयेंगी। दोस्तों मेरी उम्र २५ साल है और मैं अजमेर का रहने वाला हूँ । बात उन दिनों की है जब मैं कॉलेज में पढ़ता था। कॉलेज मै प्रवेश लेने के कुछ ही दिन में हमारा अ छा खासा ग्रुप बन गया। उसी ग्रुप में एक लड़की थी सिम्मी । दे खने में वो एकदम सेक्सी लगती थी। जब चलती थी तो ऐसा लगता थाकि दिल पर छुरियां चला गई। उसकी गांड बहत ही मस्त और मोटी थी। उस पर उसका गोरा बदन और मोटे मोटे बोबे ! उसको दे खते ही ऐसा लगता था कि बस कैसे भी इसे चोद डालूँ ! धीरे धीरे हमारी दोस्ती बढ़ती जा रही थी और हम एक दसरे से मस्ती करने लगे थे। कछ दिनों बाद इससे पहले कि कोई और उसे प्रप
जवान लड़की की टीचर से चुदाई

जवान लड़की की टीचर से चुदाई


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
jawan ladki ki teacher se chudai यह कहानी एक ऐसी लड़की की है जिसने १8 साल की उम्र में पहली बार लंड का स्वाद चखा वो भी ६१ साल के लंड का. उसने कहा के जो स्वाद उसे उस ६१ साल के लंड ने दिया वो आज तक किसी ने नहीं दिया. उसने कहा क़ि ६१ साल का आदमी जिस तरीके से चुदाई करता है वो जवान इसलिए नहीं कर सकता के जवान में उतावला पन होता है जब के ६१ साल का अपने तजुरबे के कारण प्यार से चुदाई करता है उसका मज़ा ही कुछ और होता है . फिर सब से बड़ी बात यह भी है के ६१ साल के साथ आपको कोई देख कर किसी किस्म का शक भी नहीं करता. पढ़िए ये कहानी उस लड़की की जुबानी. मैं तब १०थ में पड़ती थी. मेरी माँ ने मुझे पढने के लिए एक ऐसे टीचर जो रिटायर हो चूका था से ट्यूशन लगवा दी. माँ की सोच यह थी के बुजुर्ग आदमी से ट्यूशन पढेगी तो लड़की सेफ रहेगी. मैं ट्यूशन पढ़ने के लिए उन के घर जाने लगी. मैं उन्हें सर कहती थी. सर अकेले थे
train mai chudai ki kahani

train mai chudai ki kahani

antarvasna sex kahani, aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, jawan ladki
train mai chudai ki kahani ये बात लगभग १ साल पहले की है. हमारे रिश्तेदारी में किसी की डेथ हो गई थी. मेरे पति अपने काम धंधों में व्यस्त थे इसलिए मुझे ही वहां जाना पड़ा. ट्रेन का सफर था और मुझे अकेले ही जाना था इसलिए मेरे पति ने प्रथम श्रेणी एसी में मेरे लिए रिज़र्वेशन करवा दिया था. रात को दस बजे की ट्रेन थी. मुझे मेरे पति स्टेशन तक छोड़ने के लिए आए और मुझे मेरे कूपे में बिठा कर टिकेट चेकर से मिलने चले गए. मेरा कूपा केवल दो सीटों वाला था. अभी तक दूसरी सीट पर कोई भी पेसेंजेर नहीं आया था. मैंने अपने सामान सेट किया और अपने पति की इंतज़ार करने लगी. थोडी ही देर में मेरे पति वापस आ गए. उनके साथ ब्लैके कोट में एक आदमी भी आया था. वो टिकेट चेकर था. उसके उम्र करीब छब्बीस साल की थी, रंग गोरा और करीब पौने छह फीट लंबा हेंडसम नवयुवके लग रहा था. मेरे पति ने उससे मेरा परिचय करवाया. वो आदमी केवल देखन