Kamukta sex stories

bura na mano holi hai 1

bura na mano holi hai 1

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, Hindi Sex Story, Kamukta sex stories
ये घटना बस इस होली की है. 6 साल के बाद मै होली मे अपने घर पर था. मेरी उम्र 19 साल की है. मै अपने शहर से बहुत दूर एक कौलेज मे तकनीकि की पढाइ कर रहा हु. हडताल होने के कारण कौलेज एक महीने के लीये बन्द हो गया था. सारे त्योहारो मे मुझे ये होली का उत्सव बिलकुल पसन्द नहीं है. मै ने पहले कभी भी होली नही खेला. पिछले 6 साल मै ने होस्तेल मे ही बिताया. मेरे अलाबा घर मे मेरे बाबुजी और मां है. मेरी छोती बहन का विवाह पिछले साल हो गया था. कुछ कारण् बस मेरी बहन रेनु होली मे घर नही आ पायी. लेकिन उसके जगह पर हमांरे दादाजी होली से कुछ दिन पहले हमांरे पास हुमसे मिलने आ गये थे. दादा कि उम्र करीब 61-62 साल है, लेकिन इस उम्र मे भी वे खुब हट्टे कटःठे दिखते थे. उनके बाल सफेद होने लगे थे लेकिन सर पर पुरे घने बाल थे. दादा चश्मा भी नही पहनते थे. मेरे बाबुजी की उम्र करीब 40-41 साल की होगी और मां कि उम्र 34-35 स
saheli ke bete na sukh dya

saheli ke bete na sukh dya


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  मेरा नाम रेहान है, 32 साल की मैं गुड़गाव में एक बड़ी फर्म में ऊंचे ओहदे पर हूँ। मेरा फिगर 36-32-38 है, रंग गोरा है, तो आप समझ गये होंगे कि मैं कैसी दिखती हूँ ! मैं देखने में अच्छी हूँ क्योंकि मर्द मुझे ऊपर से नीचे तक अपनी कामवासना भरी नज़रों से घूरते हैं। मैं अपने खाविन्द के साथ रहती हूँ पर मेरी निजी जिन्दगी में कुछ ख़ास नहीं है क्योंकि मेरा मर्द उम्र में मुझसे काफ़ी बड़ा है और शराबी है, वो अपने बिज़नेस में ही व्यस्त रहता है। मुझे अपने खसम से चुदाई का सुख नहीं के बराबर मिला है, यही कारण है कि मेरे कई बार गैर मर्दों से सेक्स सम्बन्ध बन ही जाते हैं। उन्ही में से एक घटना मैं लिख रही हूँ, यह अभी हाल ही की बात है। मेरी सहेली भावना जो पहले हमारी ही बिल्डिंग में रहती थी, अब दूसरे शहर में शिफ्ट हो गई है, उसका बेटा प्रथम जो 23 साल का है, वो अपने पुराने दोस्तों से मिलने आया था तो वो
munnu ki behen nilu ki chudai kahani

munnu ki behen nilu ki chudai kahani


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरा यह मानना है कि दारु और चूत कभी भी झूटी नहीं होती – जब भी मौका मिले, इनसे मजे लेने चाहिए। चूत खूब चोदिये मगर गांड मारना न भूलें। और जब गांड मारें तो अपना रायता उसी के अन्दर छोड़ दें ताकि उस लौंडियाँ की गांड में एक गर्म एहसास रह जाए। यह मेरी शैली है – अब कोई माने या न माने। अब सुनिए मेरी कहानी : मैं शिमला का रहने वाला हूँ। मेरे घर के पास एक परिवार है जिसमें चार बच्चे हैं – दो बेटे और दो बेटियाँ। छोटा बेटा जिसका नाम मुन्नू है, मेरा बहुत अच्छा दोस्त है – और छोटी बेटी जिसका नाम नीलू है – उसके तो क्या कहने। मुझसे सिर्फ दो साल छोटी है। मैं मुन्नू के घर बहुत जाता था। मुन्नू से मिलने और फिर नीलू को छूने। मुन्नू और मैं एक ही क्लास में पढ़ते थे। हम दोनों पढ़ाई भी साथ करते थे और लौंडिया-बाज़ी भी साथ ही करते थे। उसको शायद लगता था कि मैं उसकी बहन के चक्कर में उसके घर आता-जाता हूँ। एक दो बार
mauseri behen ki chudai kahani

mauseri behen ki chudai kahani

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, hindipornstories, Kamukta sex stories
  मेरा नाम चरण है. मै एक छोटे से बस्ती का रहने वाला था. मेरे पिता प्राइमरी स्कूल के मास्टर थे. मेरी उम्र 15 वर्ष की थी जब मै और मेरे माता पिता अपने ननिहाल गया हुआ था. वहां मेरे मामा की शादी थी. वहां पर सभी सगे संबंधी जुटे थे. हम लोग शादी के पंद्रह दिन पहले ही पहुँच गए थे. मेरे पिता जी हम लोग को पहुंचा कर वापस अपनी ड्यूटी पर चले गए. और शादी से एक-दो दिन पहले आने की बात बोल गए. वहां पर दिल्ली से मेरे मौसा भी अपने बाल बच्चों के साथ आये थे. मेरी एक ही मौसी थी. उनको एक बेटा और एक बेटी थी. बेटा का नाम वीरू था और उसकी उम्र लगभग सोलह साल की थी. जबकी मौसी की बेटी का नाम नीरू था और उसकी उम्र लगभग पंद्रह साल की थी. हम तीनो में बहुत दोस्ती थी. मेरे मौसा भी अपने परिवार को पहुंचा कर वापस अपने घर चले गए. उनका ट्रांसपोर्ट का बिजनस था. पहले वो भी साधारण स्तर के थे लेकिन ट्रांसपोर्ट के बिजनस मे
vasna ki agni sex kahani

vasna ki agni sex kahani

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, Hindi Sex Story, Kamukta sex stories
  प्रगति का जन्म तमिलनाडू के एक गरीब परिवार में हुआ था। उसके पिता बागवानी का काम करते थे और माँ घरों में काम करती थी। प्रगति की दो छोटी बहनें थी जो उससे 3 साल और 5 साल छोटी थी। प्रगति इस समय करीब 18 साल की थी और उसका ज़्यादा समय अपनी बहनों की देखभाल में जाता था क्योंकि उसके माता पिता बाहर काम करते थे। प्रगति स्कूल भी जाती थी। ज्यादातर देखा गया है कि समाज के बुरे लोगों की नज़र गरीब घरों की कमसिन लड़कियों पर होती है। वे सोचते हैं कि गरीब लड़की की कोई आकांक्षा ही नहीं होती और वे उसके साथ मनमर्ज़ी कर सकते हैं। प्रगति जैसे जैसे बड़ी हो रही थी, आस पास के लड़कों और आदमियों की उस पर नज़र पड़ रही थी। वे उसको तंग करने और छूने का मौका ढूँढ़ते रहते थे। प्रगति शर्म के मारे अपने माँ बाप को कुछ नहीं कह पाती थी। एक दिन स्कूल में जब वह फीस भर रही थी, तो मास्टरजी ने उसे अकेले में ले जाकर कहा कि
शालिनी भाभी की गर्मी

शालिनी भाभी की गर्मी


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  दोस्तों ये मेरी पहली कहानी हे. और शायद कुछ इधर उधर भी होगा इसके अन्दर. पर ट्राय की हे की आप को सेक्स की स्टोरी पढने का पूरा मजा आये. मेरा नाम राजेश हे और मैं कुंवारा हूँ और अभी जमशेदपुर में रहता हु. मैं सेल्स का काम करता हूँ. अब चलिए मेरे बारे में इतना इंट्रो काफी था. अब सीधे सेक्स के ऊपर आते हे. ये बात आज से कुछ एक 8 महीने पहले की, मैं सेल्समेन हूँ और अक्सर लोगों के घर अपर डोर टू डोर सेलिंग के लिए जाता हूँ. जमशेदपुर बहतु छोटा शहर हे इसलिए मैं कुछ सिलेक्टेड कस्टमर के घर ज्यादा जाता हूँ. उनमे एक इम्रे कस्टमर हे जिनका नाम विजेंद्र था. उनकी उम्र करीब 45 साल के जितनी हे. मैं उन्के घर अक्सर जाता हूँ. घर में उन्के सिवा उनकी वाईफ शालिनी जो की 37 साल की हे. और उन्के 3 बच्चे हे. शालिनी इतनी उम्र में बड़ी मादक लगती हे. उनकी गांद बड़ी ही मस्त हे जिसे देख के किसी का भी लंड खड़ा हो जाए. जब
pati patni saas sasur ki ras leela

pati patni saas sasur ki ras leela


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  मेरा नाम पार्थो है और मैं अपने मा बाप का एकलौता बेटा हूँ. मैं २८ साल का हूँ. मैं रोज़ एक्सेर्सिसे करता हूँ और नहाने के पहलेशारेर पर खूब तेल माता हूँ. मेरा तंदुरस्ती इसीलिए काफी अच्चीहाई. मेरा लुंड करीब १०” लुम्बा और करीब ३ ½” मोटा है. पहलेमेरा लुंड का सुपर काफी लाल रंग का था लेकिन अस परोस मी रहनेवालीन के छूट छोड़ छोड़ कर अब मेरा सुपर कला पर गया है. मैं अब तक करीब १० १२ औरतों को छोड़ चूका हूँ. हमारे परोस किऔरतें मुझसे कई बार अपनी छूट चुदा चुकी हैं और जब मौकमिलता है मैं उनकी छूट और गंद मी अपना लुंड पेल कर जम कर्चुदै करता हूँ. अब मेरी शादी हो गयी है और अब परोसिओं कोचोड़ने का मौका बहुत काम मिलता है.मेरे पत्नी का नाम नुपुर है और व्हो एक सुन्दर भरे बदन वाली औरत्हाई. मेरे विफे के चुन्ची का साइज़ ३६क् और चुतर का साइज़ करीब ४०. हमारा परिवार बहुत ही कांसेर्वतिवे है लेकिन शादी के बाद न
jor ka jhatka dheere se

jor ka jhatka dheere se

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, hindipornstories, Kamukta sex stories
  मैं जब कॉलेज मे पढ़ती थी, तो हमारा सात लड़कियों का ग्रूप था. लेकिन उन सब मे पल्लवी मेरी खास सहेली थी. वो एक छ्होटे गाओं से आई थी. इस शहर मे पेयिंग गेस्ट बन के रहती थी. ऊम्र के हिसाब से हमको भी रोमॅन्स और सेक्स की बातें अच्च्ची लगती थी. हम लड़कों को देखते थे थे और उनके बारे मे बात किया करते थे. दिन मस्ती से गुज़र रहे थे. लेकिन हमेशा समय एक सा नही रहता. जब हमारा कॉलेज का पहला साल पूरा हो रहा था, तो पल्लवी के पिताजी का अचानक देहांत हो गया. वैसे भी वो लोग ग़रीब थे. अब तो कॉलेज की पढ़ाई करना तो दूर रहा, घर चलना मुश्किल हो गया. उसके छ्होटे भाई बहन भी थे. मैं भी सहेली होने के नाते चिंतित थी, पर उसे पैसों की मदद करनेकी स्थिति हमारी ही नही थी. मुझे लगा, हमारा साथ च्छुत जाएगा. वो पढ़ नही पाएगी. लेकिन भाग्या को कुछ और मंज़ूर था. उसकी परिस्थिति से वाकिफ़ किसी दलाल ने उसे संपर्क किया और
muslim bhai ne apni behen ko choda

muslim bhai ne apni behen ko choda


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  मेरे निकाह को अब कोई एक महिना बीत चूका था. मेरा पति अब्दुल दिन मे तीन तीन बार मेरी चुदाई कर देता था. मेरे अन्दर भी लंड की भूख बहुत बढ़ गयी थी. मेरे हाथ अब अब्दुल के लंड से दूर नहीं रह पाते. हम जब भी अकेले होते तो मैं उसका लंड अपनी मुठी मे ले लेती और उसके सुपारे को दबा दबा कर मज़े लेती. अब्दुल भी मेरे हुस्न का दीवाना बन गया था. वो अक्सर मुझे किचिन में ही पीछे से आ कर दबोच लेता और मेरी चुचिओं को दबा देता. मैं उसके लंड को जोर से पकड़ लेती तो एक बार वो बोला? हमी, साली तू बड़ी छिनाल हो गयी है, तेरा कभी लंड लेने से मन नहीं ऊब जाता, हर वक़्त मेरे लंड की प्यासी रहती है मेरी चुदास बीवी, कभी तो दिल करता है के यहीं रसोई में ही चोद दूं, पैर डर लगता है कही फटी न आ जाये, चल मेरे लंड को चूस डाल जल्दी से.? मैंने उसके लंड को पजामे से निकाल कर अपने होंठ रख दिए और उसकी सांसें तेज़ हो गयी. मैं उसक
Chudasi Chachi ki Kamukta Kahani

Chudasi Chachi ki Kamukta Kahani


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरे परिवार मैं कुल ९ लोग थे. उनमे से एक मेरी चाची थी. उसके उम्र कुछ ३२ साल होगी, उसके एक ३ साल के बेटी भी थी जिसका नाम गुडिया था. मेरे पापा और चाचा कपरे के व्यापार करते थें. इसलिए वोह लोग काफी बाहर भी जाते थे व्यापार के लिए. अब मैं अपनी चाची के बारे में बताने जा रहा हूँ. वो एक मामूली हाउस्वाइफ की तरह नहीं थी, वो काफी पढ़ी लिखी थी और काफी स्मार्ट भी थी. वह देखने में काफी खुबसूरत थी. उनकी चूची काफी अछी साइज़ की थी और उनका गांड बहुत मस्त था. उनका गांड बिलकुल गोल था. बेटी होने के बाद भी वोह काफी सेक्सी लगती थी. लेकीन इसके पहले मैंने उन्हें कभी ऐसे देखा नहीं था. वह मेरे एक दोस्त की तरह थी. यह तब की कहानी हैं जब डेल्ही में काफी गर्मी पर रही थी. क्योंकी मेरा एक्साम निकट था इसलिए मुझे तेर्रस का रूम मिल गया था ता की मैं मन लगा के पढ़ सकू. परिवार में एक शादी का प्रोग्राम था. इसलिए घर के सब