pyasi chut

shikast ek chudai kahani • Hindi Sex Stories

shikast ek chudai kahani • Hindi Sex Stories

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, porn stories, pyasi chut
दोस्तों, राज शर्मा एक बार फिर हाज़िर है अपनी नई कहानी ले के. थोड़ी लंबी हो गयी है, पर इतमीनान से पूरी पढ़े. तब ही उसका सही स्वाद मिलेगा. अनुपमा मेरे साथ पढ़ती थी. वो तब बहोट ही खूबसूरत हुआ करती थी. उसने कभी हिस्सा नही लिया, नही तो ब्यूटी क्वीन हो सकती थी. लेकिन उसकी पढ़ाई पूरी नही हो पाई थी. इस के लिए उसका साथ छूट गया था. कई साल बाद मुझे वो रास्ते मे मिल गई. पहले जैसा नूवर नही था. उसकी तबीयत ठीक नही लग रही थी. मैं उसे घर ले गया. वहाँ उसने मुझे जो कहानी बताई उसे मैं अनु की ज़ुबानी पेश कर रहा हू मैं अनुपमा हू. अभी अभी 24 साल की हुई हू. दस साल पहले मेरी मया का देहांत हो गया. उसके डेढ़ साल बाद पिताजी ने दूसरी शादी कर ली. नई मया ने कुच्छ ही समय मे अपना रंग दिखाया और ढाई साल मे तो मुझे घर छ्चोड़’ने पर मजबूर कर दिया. उस वक्त मैं करीब 18 साल की थी. मुझे पढ़ाई भी छ्चोड़नी पड़ी. मैने वो शहर ही
Gudde gudiya ka khel

Gudde gudiya ka khel

aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, porn stories, pyasi chut
  दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा एक बार फिर हाजिर हूँ एक नई कहानी के साथ दोस्तो ये कहानी एक ऐसी नाबालिग लड़की की कहानी है जिसके साथ कच्ची उम्र मे सेक्स का एक हादसा हो गया तो दोस्तो ये कहानी उसी की ज़ुबानी …………………. मैं अपने माता पिता की इकलौती संतान हूँ जब पैदा हुई तो घर वाले बहुत खुश हुए क्योंकि मैं शादी के आठ साल बाद पैदा हुई थी घर वालों की आंख का तारा हूँ बचपन से ही बहुत सुंदर हूँ गोल मटोल चेहरे ऊपर नीली आँखें गोरा रंग और गाल ऐसे लाल जैसे कंधारकी अनार हूँ देखने वाले पहली नज़र में मुझे एक सुंदर पठान समझते हैं जब भी कोई मेहमान हमारे घर आता तो वह निश्चित रूप से मुझे गोद में उठा लेता था क्योंकि मैं बिल्कुल गुड़िया की तरह लगती थी जब मैं चार साल की हुई तो घर वालों ने मुझे शहर का सबसे अच्छा स्कूल में भर्ती कराया, मैं कक्षा की सबसे हसीन लड़की थी एक तो हसीन थी और ऊपर से ज़ही