sex stories

Doctor Se Chudai ka Sex Gyaan Hindi Sex Stories

Doctor Se Chudai ka Sex Gyaan Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
यह एक ऐसी कहानी है जिसने मेरी दिमाग की खिड़कियाँ खोल के सेक्स की बहुत सी बारीकियाँ सिखा दी. मेरा नाम समीर है. मेरी लम्बाई ६ फुट और कमर का नाप उस समय २८ इंच था जब की ये कहानी है. दिखने में ऊपर वाले की मेहरबानी से लड़कियों की नज़र चिपकाने लायक चेहरा और बदन है. जवानी की दहलीज़ पे कदम चढ़ने के बाद, लगभग २० साल की उम्र रही होगी। मैंने लण्ड की सार संभाल ठीक से करने के लिए नहाते समय लण्ड की मालिश सरसों के तेल से करनी शुरू कर दी. तेल बहुत तेज लगता था लेकिन थोडी देर सहन कर लेता था. लेकिन इसका नुकसान ये हुआ कि लण्ड का सुपाडा थोड़ा लाल हो गया और थोड़ा दर्द होने लग गया. ये देख के मुझे थोडी घबराहट हुई. मैंने अपने सर्किल में पूछताछ कि तो किसी ने मुझे बताया कि पास की कालोनी में हमारे घर से लगभग एक किलोमीटर दूर बड़े अस्पताल के स्किन रोग विशेषज्ञ रहते है उनको दिखा दू, अच्छे डॉक्टर है. शाम को ५ से ७ ब
khet mai Pushpa Bhabhi ki chudai 1 • Hindi Sex Stories

khet mai Pushpa Bhabhi ki chudai 1 • Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
Hindi Chudai kahani – Gav ke khet mai Pushpa Bhabhi ki chudai मेरी साली की लड़की के सादी में गाँव गया हुआ था ठंडी के मौसम में करीब एक साल बाद मेरे गाँव के पास ही साली भी ब्याही है करीब 1 किलोमीटर कि दुरी पर | फरवरी का महीना था हलकी हलकी ठंडी पड़ रही थी, जिस दिन से गाँव गया उसी दिन से पत्नी जी अपनी बहन के घर चली गई और 10 दिन तक बहन के घर में ही रही मैं घर में बिना बीबी के साथ रहा जब कभी साली के घर जाता तो पत्नी से मुलाकात होती नहीं तो मैं घर में अकेला ही माँ और बड़ी भाभी के साथ रहता बड़े भाई तो दिन भर खेती के काम से घर से बाहर ही रहते,मेरी आदत कुछ ऐसी पड़ गई कि जब तक बीबी कि ठुकाई -चुदाई नही कर दू तब तक नींद नहीं आती है इस 45 साल कि उम्र में भी पर बीबी है कि सादी में ब्यस्त हो गई मुझे चुदाई करने का मोका ही नहीं मिलता लण्ड रोज रोज खड़ा होता क्योकि मैं मैं रोज सुबह साम शिलाजीत की कैप्सूल जो ल
meri chut chod chod k bhosda bana dia

meri chut chod chod k bhosda bana dia


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
meri chut chod chod k bhosda bana dia Maine gand uthate hue kaha ye salla hijra behan chod kya meri chut fadega apni lulli se meri chut fadne ke liye gadhe jaisa lund chahiye salle chod apni behan ko bhaiya ko meri baat sun kar josh aa gaya aur woh de danadan mujhe chodne lage aur mujhe galli dene lage salli kutia tujhe abhi apni mardangi dikhata hun le salli kutia dekh apne bhai ke lund ka kamal aur jor jor se mujhe chodne lage. Karib 5 minute baad meri chut se pani nikal gaya aur mai bhaiya ko lund nikalne ko bolne lagi bhaiya mujhe chodte hue bole abhi to kutia tu mere lund ko lulli bol rahi thi ab kia hua maine fir kaha salle behan chod woh to mai tujhe josh dilane ke liye bol rahi thi aur aise hi karib ek ghante baad bhaiya ke lund se virgue meri chut me chhut gaya. Bhaiya ...