Kamkukta Sex kahani mama ki beti ki Hindi Sex Stories

Kamkukta Sex kahani mama ki beti ki chudai हेलो फ्रेंड्स, मैने डीके क्लब मे बहोत सी फ्री हिन्दी सेक्स स्टोरीस बेहन की चुदाई पढ़ी हैं एंड अब जब मेरे साथ एक घटना घट चुकी है मैं यहा अपने उस एक्सपीरियेन्स की कहानी ले कर आया हू.

यह मेरे पहले एक्सपीरियेन्स की पहली कहानी हैं. टाइपिंग मिस्टेक या किसी भी ग़लती को नज़रअंदाज कीजिएगा.

यह कहानी हैं मेरी, मेरे मामा की बेटी रेणु(चेंज्ड नें) की, और उसकी दो साहिलियो की.

मेरे मामा को गुज़रे हुए 8 महीने हो गये है.

तो अब आपको मेरी बहन के बारे मे बताता हू मेरी बहन 19साल की है वो पहले एक दम दुबली पतली बारीक सी हुआ करती थी. मामा की मौत के बाद वो ठीक से खाना भी नही खाती थी. और इसी वजह से कमज़ोरी के कारण 6 मंथ पहले उसका आक्सिडेंट हो गया. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

3 दिन अड्मिट रही वो और उसे 7-8 सलाइन लगी. इतनी सलाइन के बाद उसका शरीर फूल गया और वो एक मस्त बदन की मालिकान हो गयी. एक तो उसका गोरा गोरा रंग उपर से उसके टोल भी इतने बड़े हो गये की अब तो उसे देखने पे ही नशा चढ़ जाता था. और उपर से उसे कमज़ोरी के कारण चश्मा भी लग गया था अब तो वो कयामत लगती थी कयामत.

अब आते है सीधा स्टोरी पे. अभी 4 महीने पहले मेरे दूसरे मामा के बेटे की शादी हुई. उस शादी मे हुआ जो भी हुआ. आइए बताता हू क्या हुआ. मुझे रेणु बहोत अछी लगती थी बट कभी लाइफ मे सोचा नई था इसे चोदुन्गा.

शादी मे मेहंदी वाले दिन डीजे मेरे दोस्त का लगा था. और मुझे भी डीजे प्ले करना आता हैं तो मैं और मेरा दोस्त हम डीजे पे थे. रेणु ने ब्लाउस पहना था जो उसकी मन मोहने वाली नाभि के थोड़ा उपर था. नीचे लहंगा जो की एक दम कमर के दो इंच नीचे कस के बँधा हुआ था ऑल और ऑल उसका पेट किसिको भी सिड्यूस कर सकता था. जैसे ही डीजे चालू हुआ मैने लाइट्स ऑफ कर दी और डीजे की डिस्को लाइट चालू कर दी. उसमे रेणु का ब्लाउस एक दम चमक रहा था. नाचते वक़्त उसने अपनी चुन्नी साइड मे रख दी.

उसे नाचते देख मेरा दोस्त बोला भाई क्या माल हैं क्या लग रही यार इंट्रो करा ना. मैने उसे धक्का दिया और निकल बोला यहा से उसे भगाने क बाद मैं खुद डीजे प्ले कर रहा था बट मेरे दिमाग़ मे माल माल शब्द गूँज रहा था.

बट मैने ध्यान डीजे पे लगाया और 10:20 तक डीजे बजाया. सबने बहोत एंजॉय किए. रेणु कॉन्ठीनुएली तीन घंटे नाची थी. और मैं भी तीन घंटे से बस खड़ा था.

मैं जा कर चेर पे बैठा और मम्मी से कहा प्लीज़ खाना डाल के लादो. मैं एक चेर पे पैर लंबे करके बैठा था तभी रेणु आई और मेरे थाइस पे छपक से मारी मेरी स्लिम फिट जीन्स थी बहोत ज़ोर से लगा था मुझे.

रेणु : क्या रे भाई नाची मैं तीन घंटा पैर तेरे दुख रहे क्या.

मैं : हा मैं तो डीजे के उपर बैठा था ना मेरे पैर नही दुखेगे

रेणु : हेहे पागल. और भाई आज बताया नही तूने मैं कैसी लग रही

मैं : अरे मेरी बहन हमेशा सबसे प्यारी लगती. ये कह के उसके बालो मे हाथ डाल के उसके गालो पर एक प्यारा सा टच करके स्माइल किया उसने भी स्माइल दी. उतने मे मम्मी खाना ले कर आई.

मम्मी : दोनो भाई बहन मे क्या खिचड़ी पक रही हैं.

मैं : अरे नही कुछ नही

रेणु : अरे भैया क्या लाए

मैं : मेरे लिए खाना

रेणु : तू मेरे साथ नही खाएगा

मैं : अभी थोड़ा खा लेता फिर तेरे साथ भी खा लूँगा.

इतने मे मम्मी बोली दोनो चुपचाप अभी ख़ालो और प्लेट दे कर चली गई.

फिर रेणु और मैने डिन्नर किया करीब 11:30 हो गये होगे. मैं सब भाइयो के साथ हॉल मे था और हॉल हमने घर के बहोत नज़दीक वाला लिया था तो हॉल मे ज़्यादा रूम नही लिए सिर्फ़ बड़े बुजुर्ग लोग ही रुखते थे. बट मेहंदी वाले दिन हम सब बहोत थक गये थे तो हम सब भाई बहन रुक गये. हम लड़के नीचे हॉल मे गद्दे डाल के सोने वाले थे और लड़किया उपर.

हम लड़के बस मस्ती कर रहे थे सो कोई नही रहा था. करीब 2बज गये होगे मुझे रेणु का मेसेज आया.

रेणु : भाई. !!

मैं : हा बोल ना

रेणु : भाई नींद नही आ रही.

मैं : हा बेटा रुक दो मीं में आया.

और तब हम लोग रेड हॅंड खेल रहे थे मैने सबसे कहा 10 मीं मे आता हू रेणु परेशान लग रही और मैं उपर आ गया.

उपर आके देखा तो सब सोए थे और रेणु एक कोने मे सिकुड के बैठी थी मैं उसके पास गया और उसके सिर पे जैसे ही हाथ रखा उसने बैठे बैठे ही मुझे हग कर लिया मानो उसे पता था यह मैं ही हू. फिर मैं भी बैठ गया. देखा तो उसकी आँखे नम थी. मैने उससे कहा क्या हो गया बेटू को आज तो इतना मस्त था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *