khet mai Pushpa Bhabhi ki chudai 1 • Hindi Sex Stories

Hindi Chudai kahani – Gav ke khet mai Pushpa Bhabhi ki chudai मेरी साली की लड़की के सादी में गाँव गया हुआ था ठंडी के मौसम में करीब एक साल बाद मेरे गाँव के पास ही साली भी ब्याही है करीब 1 किलोमीटर कि दुरी पर | फरवरी का महीना था हलकी हलकी ठंडी पड़ रही थी, जिस दिन से गाँव गया उसी दिन से पत्नी जी अपनी बहन के घर चली गई और 10 दिन तक बहन के घर में ही रही मैं घर में बिना बीबी के साथ रहा जब कभी साली के घर जाता तो पत्नी से मुलाकात होती नहीं तो मैं घर में अकेला ही माँ और बड़ी भाभी के साथ रहता बड़े भाई तो दिन भर खेती के काम से घर से बाहर ही रहते,मेरी आदत कुछ ऐसी पड़ गई कि जब तक बीबी कि ठुकाई -चुदाई नही कर दू तब तक नींद नहीं आती है इस 45 साल कि उम्र में भी पर बीबी है कि सादी में ब्यस्त हो गई मुझे चुदाई करने का मोका ही नहीं मिलता लण्ड रोज रोज खड़ा होता क्योकि मैं मैं रोज सुबह साम शिलाजीत की कैप्सूल जो लेता हु दूध के साथ इस कारण लण्ड बहुत खड़ा होता है इस उम्र में भी |

10 फरवरी के दिन मैं बाहर सुबह 8 बजे धुप ले रहा था घर के सामने खुली जगह में तभी ”अहिरिन दाई ” [गाँव में बरतन धोने वाली दाई] के साथ एक 10-12 साल कि लड़की दिखी सुन्दर सा चौकोर चेहरा, गोरा रंग ,बड़ी बड़ी आँखे ,ऊपर के पतले -पतले और नीचे के हलके से मोटे लाल लाल रशीले होठ, बड़े नीबू के आकार में गोलाई लिए हुए चुचिया मैं उस लड़की कि सुंदरता को निहारता ही रहा गया मैं आंगन में जाकर उसे पास से देखा तो बहुत ही सुन्दर लग रही थी मैं उसे पहचानने कि कोशिस कर रहा था कि गाँव में कौन इतनी सुन्दर ओरत है जिसकी ये लड़की है पर कुछ याद नहीं आया तो बड़ी भाभी से पूछ ही लिया कि किसकी लड़की है तो भाभी ने बताया कि ”मांगलिया अहीर ” कि लड़की है ,तब मैंने भाभी से कहा कि उसकी तो एक ही लड़की है जिसकी सादी हो गई है तो भाभी ने बताया कि ये मांगलिया कि दूसरी ओरत कि लड़की है तो मैंने भाभी से पूछा कि मांगलिया ने 50 कि उम्र में दुसरी सादी किया क्या ,तो भाभी ने बताया कि पहली वाली उसकी ओरत मर गई तो दुसरी ले आया तब मैं कुछ नहीं बोला और बाहर आ गया और मेरी नज़रे मांगलिया कि औरत को तलासने लगी मैं कुछ देर बार घर की छत पर चढ़ गया और मांगलिया के घर कि तरफ देखने लगा जो मेरे घर के बगल में ही कच्चा घर है पर ओ दिखी नहीं , मैं दिन में कई बार छत पर गया कि सायद दिख जाए पर दिखी नहीं | अगले दिन सुबह करीब 10 मैं घर के पास वाले खेतो के रस्ते अपने खेत कि तरफजा रहा था तो मगलिया मिल गया और” दादू साहब जय राम जी ” कहा तब मैंने जैराम जी का जबाब दिया और बोला कैसे हो मंगलू दादा तो ओ बोला टीक हु हुजूर[मांगलिया निहायत सीधा -साधा है 50 कि उम्र में 60 लगता है गरीबी ने समय के पहले बूढ़ा कर दिया] मांगलिया के साथ उसकी नई -नवेली ओरत भी हाथ में कुछ लिए हुए लंबा सा घुघट निकाले मैं मांगलिया कि ओरत कि तरफ तिरक्षी निगाहो से देखा

उसके गोर गोर हाथ और साडी के नीचे बड़े बड़े बूब्स के सिवा कुछ नहीं दिखाई दे रहा था, जिस्म मस्त कठोर मोटापा लिए हुए है जब दोनों जाने लागे तो मैं मांगलिया कि ओरत को देखने लगा जो मांगलिया के पीछे पीछे जा रही थी ,क्या सुन्दर जिस्म था मांगलिया कि ओरत का बड़े बड़े कसे हुए चूतड़ जब ओ चलती तो चुड़त हिलते तो बहुत सेक्सी लगती मैं उसे कुछ देर तक देखते रहा, कुछ दूर जाने के बाद मांगलिया कि ओरत मेरी तरफ देखी घुघट को उठा कर ,जब ओ मेरी तरफ देखी तो मैं उसे देखकर दंग रहा गया क्या बला कि खूबसूरती थी उसके चेहरे में बिलकुल स्मिता पाटिल कि तरह उसका चेहरा था मैं उसकी तरफ अपलक देखे जा रहा था मैंने देखा कि उसने मांगलिया से कुछ कहा जो सुनाई नहीं दिया मुझे और फिर ओ तुवर के खेत के घुस गई ,मांगलिया चला गया तो मैं जल्दी से उसके पास पहुच गया तो देखा कि ओ खेत से पेसाब करके बाहर निकल रही था मैं पास पहुंचा और नमस्ते ”भौजी जी ” कहा तो जबाब में उसने ”गुड मॉर्निंग ” लाल साहब कहा तो मैं चौक गया उसकी अंग्रेजी अभिवादन सुन कर मैं समझ गया इसे इंग्लिश भी आती होगी थोड़ी बहुत तभी इसने ‘गुड मॉर्निंग’ कहा मैंने बोला बहुत सुन्दर हो भौजी जी आप तो पलट कर बोली कि आप भी तो गबरू सुन्दर जवान है , तब मैंने पूंछा कि जानती हो मुझे तो बोली कि हां जानती हु आप कोठी वाली ठाकुर साहब के भाई है ना ,तो मैं बोला हां ,पर आप कैसे जानती हो तो बोली कि आप उस दिन छत पर घूम रहे थे तो देखा था तभी मैं समझ गई थी कि आप बड़े ठाकुर के भाई होगे फिर ज्यादा कुछ बात नहीं हुई और ओ हाथ हिलाकर बाय बाय किया और चली गई हलकी से मुस्कान छोड़कर लम्बे लम्बे कदम बढ़ाते हुए जल्दी जल्दी जब ओ जाने लगी तो मैंने बोला नाम तो बताती जाओ तो बोली ”पुष्पा ” और जबाब का इन्तजार किये बिना चली गई | पुष्पा कि उम्र करीब 32 साल के आस पास होगी हाइट करीब 5 फिट 4 इंच के आसपास होगी ,पुष्पा मांगलिया से लम्बी दिखाई देती है क्योकि गाँव में दूसरी तरफ हरियाली लिए हुए खेत है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *