Tag: bahu kichudai

Dosto ne meri ma ko group me bohot choda Maa ki chudai kahani 2018 Antavasna Sex Kahani

Dosto ne meri ma ko group me bohot choda Maa ki chudai kahani 2018 Antavasna Sex Kahani

antarvasna, Antarvasna Sex Story, Chodan, Chut Ki Chudai, Desi Boobs, Desi Khani, desi sex story, Didi Ki Chudai, Family Sex Stories, Girls Sex Nude Stories, Hindi Font Stories, Hindi Kahani, hindi sex kahaniya, Hindi Sex Stories, Hindi Sex Story, Hindi Sexy Kahaniya, Home sex Stories, hotxxxstory, Indian Sex Stories, Indian XXX, indian xxx stories, kamacharitra, kamacharitra sex stories, kamacharitra stories, kamukta, kamukta.com, mastram stories, Telugu sex stories, True Sex Stories
Dosto ne meri ma ko group me bohot choda – Maa ki chudai kahani 2018 अब में यूँ ही उसमें से देखकर उनकी बातें सुन रहा था, मेरा दोस्त राज मेरे बर्थ-डे के बारे में बोल रहा था, जो कल था. फिर वो बोला कि अरे यार आयूष की माँ तो बहुत बड़ी माल है, कल बर्थ-डे में किसी भी तरह चोदना पड़ेगा, अब सब हाँ-हाँ बोल रहे थे. फिर राज बोला कि कल आयूष के पापा भी नहीं होंगे तो किसी भी तरह चोद देंगे, में जानता था कि यह लोग कुछ ना कुछ करने वाले थे, लेकिन में वहाँ से चला गया वरना पकड़ा जाता. फिर अगले दिन मैंने घर पर सजावट कर दी और मेरे सारे फ्रेंड्स आ गये. अब वो सब बढ़िया तैयार हो कर आए थे, सिर्फ़ इतने ही लोग थे. फिर मेरी माँ आई, उस समय मेरी माँ ने टी-शर्ट पहनी थी और नीचे सिर्फ़ लेंहगी पहनी थी. अब उनकी टाईट गांड साफ़-साफ़ दिख रही थी, उनके बड़े बूब्स उनकी ब्रा के लिए बहुत बड़े थे इसलिए वो जैसे ही झुकती तो आधे से ज़्
Sumit ki Shaadi Ka Safar

Sumit ki Shaadi Ka Safar


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
सभी दोस्तों को मेरा सादर प्रणाम और प्यारी भाभियों और कुंवारी !! चूत वालियों को मेरे लंड का प्रणाम. मैं आपको अपने जीवन की रास लीला सुनाने जा रहा हूँ । दोस्तों मेरी उमर ३८ साल रंग गोरा मजबूत कद-काठी और ६”४” लम्बा हूँ. मुझे मजलूम की मदद करने मैं बड़ी राहत मिलती है और नर्म दिल हूँ।जैसा की अक्सर कहानियो में होता है कि कहानी का कैरेक्टर के ऑफिस की दोस्त या पड़ोसन या रिश्तेदार वाली कोई बुर (जिसको मैं प्यार से मुनिया कहता हूँ ) मिल जाती है उसे तुरन्त चोदने लगता है, पर हकीकत इससे कही अधिक जुदा और कड़वी होती है एक चूत चोदने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है ऐसी एक कोशिश की यह कहानी है।हमारा शहर सागर प्राकृतिक सुन्दरता और हिल्स से घिरा हुआ है। यह एक बहुत ही सुंदर लैक है और यहां के लोग बहुत ही संतुष्ट और सीधे सादे हैं। पर यहां की महिलायें बहुत चुदक्कड़ है यह मैंने बहुत बाद में जाना। मैं क्रिकेट और फुटब
pinki ki blue film part 1

pinki ki blue film part 1


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  दोस्तों मैं यानि आपका दोस्त एक और नई कहानी लेकर हाजिर हूँ मेरा नाम पिंकी है. में सौथेर्न देल्ही में अपने मम्मी पापा के साथ रहती हूँ. मेरी उम्र 19 साल है, गोरा बदन, काले लंबे बाल, 5″4 की हाइट और मेरी आँखों का रंग भूरा है. एक दिन में अपनी सहेलियों के साथ शूपिंग कर घर पहुँची. अपने कमरे में पहुँच मेने अपनी मेज़ की दाराज़ खोली तो पाया कि मेरी ब्लू रंग की पॅंटी वहाँ रखी हुई थी. मेने कभी अपनी पॅंटी वहाँ रखी हो ये मुझे याद नही आ रहा था. इतने में में कदमों की आवाज़ मेरे कमरे की और बढ़ते सुनी, मेरी समझ में नही आया की में क्या करूँ. में दौड़ कर अलमारी जा छुपी. देखती हूँ कि मेरा छोटा भाई अरुण जो 18 साल का है अपने दोस्त जे के साथ मेरे कमरे में दाखिल हुआ. “पिंकी ” अरुण ने आवाज़ लगाई. में चुप चुप चाप अलमारी छुपी उनको देख रही थी. “अच्छा है वो घर पर नही है. जे में पहली और आखरी बार ये सब तुम
Gaanv Ke Mukhiya Ka Beta Aur Shahri Chhori

Gaanv Ke Mukhiya Ka Beta Aur Shahri Chhori


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
मेरी यह हिंदी एडल्ट स्टोरी विलेज़ सेक्स की कहानी है. वो मार्च का महीना था, मैं अपनी रूम पार्टनर मिताली के साथ उसके गांव जाने की तैयारी कर रही थी। मैं और मिताली दोनों ही लास्ट ईयर मैं पढ़ रहे थे। और हमारी कॉलेज के लास्ट ईयर में हमें एक प्रोजेक्ट करनी थी जिसमे हमें गांव में जाकर पशुपालन, गांव के लोगों का रहन सहन के ऊपर स्टडी करनी थी। उस प्रोजेक्ट में मैं, सीमा और मिताली थे। पर जाने से दो दिन पहले सीमा बीमार पड़ गयी इसलिए अब सिर्फ मैं मिताली के साथ उसके विलेज जा रही थी। मैं नीतू, मेरी उम्र 19 साल है, मेरे पापा का पुणे में बहुत बड़ा बिज़नेस है। कॉलेज के लिए मैं मुम्बई में पढ़ती हूँ और होस्टल में रहती हूं। मेरी हाइट 5’4″ है, रंग गोरा है। भूरी आँखें, लंबे बाल, मेरा फिगर 34C 26 35 है। मैं कमर मैं छोटी सी चांदी की चें पहनती हूँ, पैरो में पायल और नाक में छोटी सी नथ पहनती हूँ। जाने का दिन आय
Vidhwa chachi ki kamukta shant ki

Vidhwa chachi ki kamukta shant ki


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
Vidhwa chachi ki kamukta shant ki मैं वडोदरा हर महीने अपने कंपनी के काम जाया करता था.वडोदरा मे उस के मोहल्ले के एक चाचा रहते थे जिन्की डेथ पीछले साल हो गयी थी. चाचाजी का परिवार छोटा था. परिवार मे चाची (३८) की थी और एक बेटा(१४) था जो दिल्ली मे पढाई कर रह था. अचानक चाचा जी के गुजर जाने से उनकी पत्नी (चाची) अकेली रह गयी थी. इस बार जब जीत चाची से मिले गया तो चाची बोली की वो उसी के घर रुका करे. जीत १०दिन की अन्तर पर वडोदरा जाता था. जीत पहले नहीं करता रहा फिर मान गया. उसी दिन जीत अपना सामान होटल से चाची के घरपर ले आया. चाची किराये के मकान मे रहने लगी थी और एक स्कूल मे टीचर थी. किराये का मकान छोटा था और एक रूम,एक रसोई और टॉयलेट था. रूम मे सोने क लिये एक डबल बेड था. जीत को समझ नहीं आ रह था पर वोह कुछ बोल नहीं पा रहा था. चाची देखने मे आकर्षक थी. स्कूल मे टीचर होने के कारण चाची अपने बनाव श्रंगार का