Tag: hot gay sex stories

गांव में सुंदर कन्या को चोदने का मजा लिया

गांव में सुंदर कन्या को चोदने का मजा लिया


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
antarvasna, hindi sex stories मेरा नाम राजेंद्र है मैं सरकारी स्कूल में अध्यापक हूं, मैं महाराष्ट्र के एक छोटे से कस्बे में कार्यरत हूं और यहां पर मुझे दो वर्ष हो चुके हैं। मैं जब स्कूल में पढ़ाने आया तो यहां पर पूरी व्यवस्थाएं नहीं थी इसलिए मैं बहुत परेशान हो गया, मैं सोचने लगा मैं कहां पर आ गया हूं लेकिन मैंने हार नहीं मानी और मैंने सोचा कि मुझे कुछ नया करना पड़ेगा। मैं जिस क्षेत्र में था वहां पर ज्यादा पढ़े-लिखे लोग नहीं थे इसीलिए मैंने अपने घर पर फ्री में ट्यूशन पढ़ाने की सोची, मेरे पास स्कूल के बच्चे आते थे और वह लोग मुझसे फ्री में ट्यूशन पढ़ते थे। मैं किसी भी बच्चे से कोई भी पैसा नहीं लेता था जिससे कि उनकी पढ़ाई में भी सुधार होने लगा। मेरे इस कार्य की सब लोग सराहना करने लगे और सब लोग मुझसे बड़े खुश रहने लगे। मैं अब सब लोगों के बीच में चर्चित होने लगा था और सारे लोग मुझे मास्टर जी
desi lund videshi choot

desi lund videshi choot


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
एक बार वार्षिक परीक्षा के बाद मैं बनारस गया। वहां मेरे मामा रहते हैं। मामा एक छोटी सी प्राइवेट कुरियर कंपनी में काम करते हैं। उनके बेटे यानी मेरा ममेरा भाई हमसे एक साल बड़ा है। उसका नाम जमाल उद्दीन है। जब यह नाम लेकर उसे कोई बुलाता है तो उसे कुछ ख़ास खुशी नहीं होती है। इसलिए वो अपना नाम जमाल ना बताकर जिमी बताता है। अब सब लोग बनारस में उसे जिमी ही बुलाते हैं। वह एक साधारण सा टूरिस्ट गाइड है। मेरा भाई दिखने में भी अच्छा है, मेरा मतलब काफी आकर्षक है। हम दोनों हर तरह की बातें कर लेते हैं। एक रात हम बाज़ार में घूम रहे थे कि अचानक एक विदेशी औरत आकर मेरे भाई से बात करने लगी। मेरा भाई भी उससे बातें करने लगा। कुछ समय बाद मुझे पता चला कि वो एक दूसरे को कुछ दिनों से जानते थे। मैंने भी उससे हाथ मिलाया और अपने बारे में बताया। काफी देर बाद बातें समाप्त होने पर वो चली गई। यारों मेरी इंग्लिश फास्ट तो
mast shaam or kusum ki chudai

mast shaam or kusum ki chudai


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम मोहित है, मैं दिल्ली से हूँ और मैं लेकर आया हूँ आप सबके लिए एक सच्ची घटना जो मेरे साथ हुई और मेरा जीवन सफल हो गया। मैं जिस बिल्डिंग में रहता हूँ, वहाँ तीन मस्त कंचा आइटम रहती हैं। उनमें से दो तो शादीशुदा हैं और एक जवान कच्ची कलि.. मुझे तो उनमें से कोई भी मिल जाये, मैं बस यही मनाता था। लेकिन मेरा लंड सबसे जल्दी तो कुसुम भाभी के लिए ही खड़ा होता था। कुसुम का पति सरकारी अफसर था और एक नम्बर का घूसखोर था, आये दिन लोग घूस लेकर उनके घर आते रहते थे और कुसुम को ठरकी निगाहों से देखा करते थे। अब मैं आपको कुसुम भाभी के बारे में कुछ बताना चाहूँगा। कुसुम भाभी की दो बेटियाँ हैं, दोनों अभी छोटी हैं… लेकिन भाभी तो क़यामत हैं। उनके जिस्म का सबसे आकर्षक भाग है उनकी चूचियाँ। यारो, क्या कमाल चूचियाँ हैं उनकी, वो चाहे कुछ भी पहन ले लेकिन उनकी चूचियों पर से नज़र हटाना नहीं बनता है।
आगे वाली सीट पर बैठी लड़की

आगे वाली सीट पर बैठी लड़की

Bhai bahan sex story, bhai behen sex kahani, bhatiji, big boobs, big cock, bikini, biwi ki chudai, Biwi ki garam dost, Blowjob sex kahani, blowjob sex stories, boobs, Boobs mote kardiye, bra, chudakkad, chudakkad ladki, chudas, COUSIN KI MUST CHUDAI, Cousin ki zabardasti chudai, cum, cunt, dardbhari chudai, Darzi Se Chudai Urdu Kahani, desi chudai kahani, desi cock, Desi gangbang sex stories, desi hot stories, Desi incest sex stories, desi kahani, desi porn kahani, Desi voyeur sex stories, Desi wife fucked by beggars sex stories, Desi wife fucked by Muslim sex stories, dost ki biwi, Dost ki cute behen, DOST KI SIS KO CHODA, Ek anokhi family ki kahani, EK GHALTI COUSIN KE SAATH, Ek Mast Ladki Ko Patake Choda, Group Sex, group sex stories, Groupsex, hindi chudai kahani, hindi chudai ki kahani, hindi font sex kahani, kamukta
desi kahani मेरा नाम संजीव है और मैं मुंबई का रहने वाला हूं, मैं कंपनी में नौकरी करता हूं और मैं अक्सर अपने काम के सिलसिले में बाहर रहता हूं। मैं जब भी अपने ऑफिस जाता तो मैं बस से ही जाना पसंद करता था क्योंकि मैं जहां पर काम करता हूं, वह मेरे घर से काफी दूर है इसलिए मैं बस में जाना ही पसंद करता था। मैं सुबह जल्दी तैयार हो जाता और बस से ही ऑफिस जाता था। मैं सुबह बस से ऑफिस जाता हूं तो उसमें जो लोग हमेशा ही अपने काम से जाने वाले थे, वह लोग मुझे अच्छे से पहचाने लगे क्योंकि मेरा अक्सर ही उस रूट पर जाना होता था और उस बस में जितने भी व्यक्ति हमेशा जाने वाले रहते थे वह मुझे पहचानते थे और मुझसे बात कर लिया करते थे। एक दिन मेरी आगे वाली सीट पर एक लड़की बैठी हुई थी। वह बहुत ही ज्यादा सुंदर थी और मैं उसे ही देखे जा रहा था। जब वह मेरे आगे बैठी थी तो मैं उसके बालों को देख रहा था क्योंकि उसके बा
मामी की गांड देखकर मूड खराब हो गया

मामी की गांड देखकर मूड खराब हो गया

Bhai bahan sex story, bhai behen sex kahani, bhatiji, big boobs, big cock, bikini, biwi ki chudai, Biwi ki garam dost, Blowjob sex kahani, blowjob sex stories, boobs, Boobs mote kardiye, bra, chudakkad, chudakkad ladki, chudas, COUSIN KI MUST CHUDAI, Cousin ki zabardasti chudai, cum, cunt, dardbhari chudai, Darzi Se Chudai Urdu Kahani, desi cock, Desi gangbang sex stories, desi hot stories, Desi incest sex stories, desi kahani, Desi voyeur sex stories, Desi wife fucked by beggars sex stories, Desi wife fucked by Muslim sex stories, dost ki biwi, Dost ki cute behen, DOST KI SIS KO CHODA, Ek anokhi family ki kahani, EK GHALTI COUSIN KE SAATH, Ek Mast Ladki Ko Patake Choda, Ghar ki chudai, gili chut, Group Sex, group sex stories, Groupsex, hindi chudai kahani, hindi chudai ki kahani, hindi font sex kahani, indian incest stories, sex stories in hindi
desi incest stories मेरा नाम रोहन है और मैं कोलकाता का रहने वाला हूं, मेरी उम्र 24 वर्ष है। मेरे पापा स्कूल में अध्यापक हैं और मेरी मम्मी भी स्कूल में अध्यापक हैं,  वह दोनों एक ही स्कूल में पढ़ाते हैं। मेरी छोटी बहन मेरे कॉलेज में ही पड़ती है और हम लोग साथ में ही कॉलेज जाया करते हैं। जब भी मैं कॉलेज में कोई शरारत करता हूं या कुछ भी ऐसा गलत काम करता तो मेरी बहन घर में मम्मी पापा को मेरी शिकायत कर देती थी इसी वजह से मुझे उसे देख कर बहुत डर लगता था और मैं सोचता था कि यदि मैं कॉलेज में कुछ भी ऐसे गलत काम करूंगा तो वह तुरन्त ही घर पर बता देगी इसीलिए मैं उससे हमेशा ही बचने की कोशिश करता था और सोचता था कि वह किसी ना किसी तरीके से मुझसे दूर ही रहे लेकिन फिर भी वह कॉलेज में मुझ पर नजर रखती थी क्योंकि मेरी कॉलेज में एक गर्लफ्रेंड थी। उसके साथ मेरा बहुत ही गहरा रिलेशन था लेकिन हम दोनों का रिलेशन
शॉप में काम करने वाली लड़की

शॉप में काम करने वाली लड़की

Bhai bahan sex story, bhai behen sex kahani, bhatiji, big boobs, big cock, bikini, biwi ki chudai, Biwi ki garam dost, Blowjob sex kahani, blowjob sex stories, boobs, Boobs mote kardiye, bra, chudakkad, chudakkad ladki, chudas, COUSIN KI MUST CHUDAI, Cousin ki zabardasti chudai, cum, cunt, dardbhari chudai, Darzi Se Chudai Urdu Kahani, desi chudai kahani, desi cock, Desi gangbang sex stories, desi hot stories, Desi incest sex stories, desi kahani, Desi voyeur sex stories, Desi wife fucked by beggars sex stories, Desi wife fucked by Muslim sex stories, dost ki biwi, Dost ki cute behen, DOST KI SIS KO CHODA, Ek anokhi family ki kahani, EK GHALTI COUSIN KE SAATH, Ek Mast Ladki Ko Patake Choda, Group Sex, group sex stories, Groupsex, hindi chudai kahani, hindi chudai ki kahani, hindi font sex kahani, indian lund, kamukta, kiss
sex stories in hindi मेरा नाम संदेश है, मैं एक कंपनी में मैनेजर के पद पर हूं। मैं जिस कंपनी में काम कर रहा हूं वहां पर काम करते हुए मुझे काफी समय हो चुका है और मेरा कुछ महीनों पहले ही प्रमोशन हुआ है इसीलिए मैं मैनेजर के पद पर हूं। मैं आगरा का रहने वाला हूं और आगरा में ही मैं काम कर रहा हूं। मेरे घर में मेरे माता-पिता और मेरी छोटी बहन है जो कि अभी अपनी स्कूल की पढ़ाई कर रही है। मेरे पिता भी एक दुकान चलाते थे परंतु उनका उसमें नुकसान हो गया उसके बाद से वह घर पर ही हैं लेकिन मैं अपनी तनख्वाह से उन्हें घर खर्चे के लिए पैसे दे दिया करता हूं जिससे कि उन्हें किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती और वह लोग अच्छे से अपना जीवन यापन कर रहे हैं। उन्होंने भी मुझे कभी भी बचपन में किसी भी चीज की कमी नहीं होने दी और मेरा बहुत ही अच्छे से ध्यान रखा, हमेशा ही वह मुझे बहुत प्यार किया करते थे। मेरे मा
Nagpur me desi sex kiya

Nagpur me desi sex kiya


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
Nagpur me desi sex kiya Hi i’m sunny aapke ke saamne apni real gay sex story pesh kr raha hu. 1st bta du mai nagpur maharashtra se hu aur ye ghatna pichle mhine ki hai mujhe gay sex me intrest kuch 3saal se hai aur aur issi liye mai 1man. In site pr gay ladko se chatting krta hu. So story start krta hu. Mai sunny nagpur me rehta hu aur 3 saal se gay sex aur ladko me intrested hu Maine 3 baar gay sex kiya hai pr ye kissa abhi 1mhine pehle ka hai mai 1man site pr chat krta hu to us pe nearby gay se intro hota hai usme se jo acha lge uske saath baate krta hu to waise ek din chatting krte waqt mujhe ek msg aaya us site pr vo ek vikki naam ke ladke ka tha usne msg kiya tha ki ” hi i’m coming to nagpur for 2 day’s want to meet u and enjoy can u meat me ” maine uska profil check ki
chudai ke din chudai ki raatey

chudai ke din chudai ki raatey

antarvasnahd, aunty ki chudai ki kahani, bahan ki chudai, behan ki chudai, bhabhi chudai kahani, Bhabhi Ki Chudai, chudai ki hindi kahaniya, chudai ki kahani photo ke sath, Dear sister's fuck, desi chudai, desi chudai kahani, Desi wife cheating sex stories, Desi wife sex stories, Desi wife sharing sex stories, Desi wife swapping sex stories, devar bhabhi ki chudai, DEVAR BHABHI SEX, devar bhabhi sex stories, english sex kahani, English Sex Stories, Family Sex Stories, Fuck in relationships, Girlfriend ki Chudai, girlfriend Sex stories, Hindi Sex Stories, sex kahani
मेरा नाम सुधा है और मैं बीए मे पढ़ती हूँ. दिखने में सुंदर हूँ लेकिन नेचर शर्मीली है. मेरा फिगर 36-26-36 है और रंग गोरा है. पिच्छले हफ्ते तक मैं कुँवारी थी. मैने राज शर्मा की सेक्सी स्टोरीस पढ़ी थी और ब्लू फिल्म्स भी देखी थी जिस कारण मुझे सेक्स कि समझ तो थी लेकिन किसी ने मुझे कभी चोदा नहीं था. मैं चुदाई की इच्छा के कारण हमेशा अपनी चूत को शेव कर के रखती थी कि ना जाने कब कोई चुदाई करने वाला मिल जाए. लेकिन जैसे कि मैने कहा, मैं डरती थी और किसी को चुदाई के लिए न्योता देने की हिम्मत नहीं पड़ती थी. घर में मेरे सिवा पापा और एक छोटी बेहन नामिता थी. पापा श्री हंस राज एक दुकान मालिक थे और छ्होटी बेहन 12 क्लास में पढ़ती थी. नामिता भी दिखने में बहुत सेक्सी थी. वो अक्सर स्कर्ट्स और टीशर्ट पहनती थी. उसस्की स्कर्ट्स बहुत छ्होटी होती और उसस्के उरोज़ उसस्की टी-शर्ट से बाहर निकलने को तैयार रहते. एक दिन
Uzma Randi Sex Stories

Uzma Randi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  Uzma Randi Hii mera naam qasim he mein aligarh ka rehne wala hu ye kahani mere or meri shadishuda cousin uzma ki he Me 18 saal ka 6ft ka ek smart ldka hu or sex addict hu or mjhe aunties jyada acchi lgti he or ab uzma ke baare me btata hu wo 26 saal ki he 5.5 ft ki or figure 36-26-34 wo ek bhot jyada frank ladki he kisi se bhi kisi tarah ki baat krleti thi mjhse wo hamesha close hokar touchy hokar baat kiya krti thi isliye uspe meri niyat khraab thi mein hamesha use chodna chahta tha mujhe moke ka intjaar tha wo apne husband ke saath akeli flat me rehti thi ek uska husband namard tha shaadi ke 5 saal baad tak bhi wo maa nhi bani thi to uske husband ne use chodna bhi chordiya tha to andaaza lagao ki uski choot me kitni aag or bhook hogi lund ki ek mahi...
papa ke helping beti Hindi Sex Stories

papa ke helping beti Hindi Sex Stories


Warning: printf(): Too few arguments in /homepages/40/d732237198/htdocs/clickandbuilds/DesiKhani/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
  baap beti ki chudai kahani अपनी सच्ची कहानी सुनाने से पहले मैं थोरा सा बॅकग्राउंड आप सब को बता दूँ. Hindi Sex Storiesमेरी मदर की 3 साल पहले ट्रॅफिक आक्सिडेंट मैं डेथ हो गई थी. उस वक़्त मैं कोई 12 साल की थी और अपने पापा की अकेली बेटी थी. हम लोग काफ़ी साल पहले हयदेराबाद से रॅवॉल्पींडी शिफ्ट हो गये थे. यहाँ पिंडी मैं सिवई हमारे एक दो फॅमिली फ्रेंड्स के और कोई रिश्त्यदार ना था. बस हम तीनो अकेले रहते थे. मम्मी की डेथ के बाद हम सिर्फ़ 2 रह गये थे. घर क एक कमरे मैं जो की बाहर कमर्षियल स्ट्रीट की तरफ खुलता था, पापा ने बोहत अक्चा जनरल स्ट्रोरे खोला हुआ था जिस से हमारी भोत आक्ची इनकम हॉट थी. मम्मी के जाने के बाद मुझे भी तन्हाई महसूस नही होती थी. सुबा मैं स्कूल चली जाती. काम वाली सुबा घर की सफाई वगेरा कर के खाना तय्यार कर के चली जाती. स्कूल से वापसी पेर हम दोनो बाप बेटी साथ खाना कहते.